Asianet News HindiAsianet News Hindi

COVID-19 Vaccine लगवाई मां के दूध में Antibodies, जानें इससे नवजात बच्चों को क्या फायदा होगा?

न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी सहित रिसर्च टीम कहा कि अभी तक नहीं देखा गया है कि ब्रेस्ट मिल्क एंटीबॉडी नर्सिंग बच्चों के लिए सीओवीआईडी ​​​​-19 से सुरक्षा कर सकती हैं या नहीं।

Antibodies found in breast milk Covid infected vaccinated woman kpn
Author
New Delhi, First Published Nov 16, 2021, 8:07 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. कोरोना महामारी के दौरान सबसे ज्यादा फोकस वैक्सीन बनाने को लेकर था। जब वैक्सीन बन गई तो उसे देश के सभी नागरिकों तक पहुंचाने पर जोर दिया गया। अब एंटीबॉडी को लेकर एक रिसर्च सामने आई है। एक मां जो कोविड संक्रमित थी। उसने वैक्सीन लगवाई। अब उसके मिल्क में एक्टिव SARS-CoV-2 एंटीबॉडी मिला है। इस रिसर्च को जामा पीडियाट्रिक्स जर्नल में पब्लिश किया गया है। हालांकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि आगे चलकर ब्रेस्ट मिल्क में मिले एंटीबॉडी बच्चों की COVID-19 से सुरक्षा कर सकते हैं।

77 माताओं का मिल्क लिया गया
रिसर्चर्स ने ब्रेस्ट मिल्क में एंटीबॉडी के लेवल की जांच करने के लिए 77 मदर्स (47 संक्रमित और 30 वैक्सीन लगवाई मां) का मिल्क लिया। रिसर्च में कहा गया कि जिन माताओं में एंटीबॉडी थी, उनके ब्रेस्ट मिल्क में वायरस के खिलाफ हाई लेवल के इम्युनोग्लोबुलिन ए (आईजीए) एंटीबॉडी का उत्पादन किया। वहीं जिन माताओं ने वैक्सीन लगवाई थी, उनसे मजबूत इम्युनोग्लोबुलिन जी (आईजीजी) एंटीबॉडी का उत्पादन हुआ।

बच्चों का इससे क्या फायदा होगा?
रिसर्चर्स के मुताबिक, दोनों एंटीबॉडी ने SARS-CoV-2 के खिलाफ न्यूट्रलाइजेशन दिया। एक न्यूट्रलाइजिग एंटीबॉडी एक संक्रामक कण से एक कोशिका की होने वाले किसी भी इफेक्ट से रक्षा करती है। रोचेस्टर मेडिकल सेंटर यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट  प्रोफेसर ब्रिजेट यंग ने कहा, एंटीबॉडी कन्संनट्रेशन को मापना एक बात है, लेकिन यह कहना दूसरी बात है कि एंटीबॉडी काम करेगी। एसएआरएस-सीओवी -2 वायरस को बेअसर कर सकते हैं। वैक्सीन वाली माताओं में औसतन तीन महीने के बाद एंटीबॉडी में मामूली से मामूली गिरावट देखी गई।

न्यू यॉर्क यूनिवर्सिटी सहित टीम कहा कि अभी तक नहीं देखा गया है कि ब्रेस्ट मिल्क एंटीबॉडी नर्सिंग बच्चों के लिए सीओवीआईडी ​​​​-19 से सुरक्षा कर सकती हैं या नहीं। जर्विनन सेप्पो ने कहा, अध्ययन का मतलब यह नहीं है कि बच्चों को बीमारी से बचाया जा सकता है। ब्रेस्ट मिल्क एंटीबॉडी नवजात और बच्चों के लिए वैक्सीन का विकल्प नहीं हो सकता है।

ये भी पढ़ें...

साधारण नहीं, एक पुलिसवाली है ये लड़की, इसे लेकर ऑफिस में ऐसी अफवाह उड़ी कि करना पड़ा सस्पेंड

कुत्ते के पिंजरे में बंद थी 6 साल की बच्ची, मुंह पर लगा था टेप, बहन ने बताई दर्दनाक मौत की पूरी कहानी

एक झटके में खत्म हुआ पूरा परिवार: पहले ब्लास्ट फिर अंधाधुंध गोलियां, गाड़ी में थे कर्नल उनकी पत्नी और बच्चा

कोरोना के बाद फैल सकती है एक और महामारी, चीन के बाजारों में मिले 18 हाई रिस्क वाले वायरस

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios