Asianet News HindiAsianet News Hindi

ज्यादा स्मार्ट कौन.. राइटी या फिर लेफ्टी! जानिए क्या कहती है रिसर्च

यह बहस दुनियाभर में हमेशा से रही कि बेहतर कौन है? बायें हाथ से काम करने वाले या दायें हाथ से काम करने वाले। विशेषज्ञों की टीम ने रिसर्च किया, जिसके बाद तय हुआ कि इसके लिए कोई एक जीन या सिद्धांत काम नहीं करता। 

difference between right hander and left hander know who is more smart apa
Author
New Delhi, First Published Aug 12, 2022, 10:15 AM IST

ट्रेंडिंग डेस्क। कुछ लोग दाहिने हाथ से ज्यादा काम करते हैं तो कुछ बायें हाथ से। दुनियाभर में दाहिने हाथ यानी राइट हैंड (राइटी) से काम करने वाले लोग अधिक होते हैं। माना जाता है कि दुनियाभर में लेफ्ट हैंड से काम करने वालों की संख्या राइटी की तुलना में करीब दस प्रतिशत ही होती है। हालांकि, कई लोग यह भी सवाल उठाते हैं कि लेफ्ट हैंड से काम करने वाले राइटी की तुलना में अधिक स्मार्ट होते हैं। 

दरअसल, लेफ्ट हैंड से काम करना हो या राइट हैंड से, विशेषज्ञों का पहले दावा था कि यह शरीर में मौजूद एक जीन की वजह से होता है, मगर कुछ रिसर्च के बाद सामने आया कि यह एक नहीं बल्कि, कई अलग-अलग तरह के जीन इसके लिए लिए जिम्मेदार होते हैं। मगर प्रमुख कारक है हमारा दिमाग यानी मस्तिष्क। इसका रोल अहम होता है। इसके अलावा, पारिस्थितिकी यानी वातावरण भी शख्स की फुर्ती को प्रभावित करता है। 

लेफ्टी होते हुए भी बहुत से लोग राइट हैंड से काम करने में ज्याद फुर्तिले 
विशेषज्ञों के अनुसार, राइटी या फिर लेफ्टी कारक सिर्फ इंसानों में ही नहीं होते बल्कि, यह जानवरों में भी होते हैं। वैसे यह भी अक्सर देखा गया है कि दायें हाथ के लोग अपने कई काम बायें हाथ से करते हैं और इसमें खुद को ज्यादा फिट पाते हैं, जबकि कई लोग इसके विपरित भी होते हैं और वे लेफ्टी होते हुए भी राइट हैंड से काम अधिक करते हैं। इसका उदाहरण सचिन तेंदुलकर हैं, जो लेफ्टी होते हुए भी राइट हैंड बैट्समैन थे और तगड़े शॉट मारते थे। 

राइटी या लेफ्टी.. यह तय नहीं कि बेहतर कौन 
वैसे, दुनिया में राइट हैंडर्स के मुकाबले लेफ्ट हैंडर्स की संख्या कम है। मगर यह बहस लंबे समय से चली आ रही है कि इनमें बेहतर कौन है, राइटी या फिर लेफ्टी। जर्नल ऑफ इंटरनेशनल न्यूरो साइकोलॉजी की रिपोर्ट के अनुसार, बायें हत्था लोगों के मस्तिष्क का दायां और बायां हिस्सा साथ मिलकर बेहतर तरीके से काम करता है। हालांकि, यह निर्धारित नहीं हो सका है कि लेफ्टी लोग राइटी के मुकाबले फुर्तीले होते हैं या नहीं। बायें हाथ के लोगों को स्कूल के दिनों से ही अधिक मेहनत करनी होती है। लेफ्टी लोगों के दिमाग का दायां हिस्सा बॉडी के बायें हिस्से की मांसपेशियों को नियंत्रित करता है। 

हटके में खबरें और भी हैं..

Paytm के CEO विजयशेखर शर्मा ने कक्षा 10 में लिखी थी कविता, ट्विटर पर पोस्ट किया तो लोगों से मिले ऐसे रिएक्शन 

गुब्बारा बेचने वाले बच्चे और कुत्ते के बीच प्यार वाला वीडियो देखिए.. आप मुस्कुराएंगे और शायद रोएं भी 

ये नर्क की बिल्ली नहीं.. उससे भी बुरी चीज है, वायरल हो रहा खौफनाक वीडियो देखिए सब समझ जाएंगे

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios