Asianet News Hindi

भाई दूज 16 नवंबर को, इस दिन बहन के घर खाना खाने से बढ़ती है भाई की उम्र

दीपावली तीसरे दिन यानी कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि को भाई दूज का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 16 नवंबर, सोमवार को है। भाई दूज का पर्व भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक है। मान्यता है कि इस दिन बहन के घर भोजन करने से भाई की उम्र बढ़ती है।

Bhai Dooj on 16 November, having food at sister's place on this day increases brother's life KPI
Author
Ujjain, First Published Nov 15, 2020, 11:21 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. दीपावली तीसरे दिन यानी कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि को भाई दूज का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 16 नवंबर, सोमवार को है। भाई दूज का पर्व भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक है। मान्यता है कि इस दिन बहन के घर भोजन करने से भाई की उम्र बढ़ती है।

यमुना और यमराज की पूजा का खास महत्व...
- धर्म ग्रंथों के अनुसार, कार्तिक शुक्ल द्वितीया के दिन ही यमुना ने अपने भाई यम को अपने घर बुलाकर सत्कार करके भोजन कराया था। इसीलिए इस त्योहार को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है।
- तब यमराज ने प्रसन्न होकर उसे यह वर दिया था कि जो व्यक्ति इस दिन यमुना में स्नान करके यम का पूजन करेगा, मृत्यु के पश्चात उसे यमलोक में नहीं जाना पड़ेगा। सूर्य की पुत्री यमुना समस्त कष्टों का निवारण करने वाली देवी स्वरूपा है।
- उनके भाई मृत्यु के देवता यमराज हैं। यम द्वितीया के दिन यमुना नदी में स्नान करने और वहीं यमुना और यमराज की पूजा करने का बड़ा माहात्म्य माना जाता है।
- इस दिन बहन अपने भाई को तिलक कर उसकी लंबी उम्र के लिए हाथ जोड़कर यमराज से प्रार्थना करती है। स्कंद पुराण में लिखा है कि इस दिन यमराज को प्रसन्न करने से पूजन करने वालों को मनोवांछित फल मिलता है। धन-धान्य, यश एवं दीर्घायु की प्राप्ति होती है।

भाई की उम्र बढ़ानी है तो करें यमराज से प्रार्थना...
- सबसे पहले बहन-भाई दोनों मिलकर यम, चित्रगुप्त और यम के दूतों की पूजा करें तथा सबको अर्घ्य दें।
- बहन भाई की आयु-वृद्धि के लिए यम की प्रतिमा का पूजन करें। प्रार्थना करें कि मार्कण्डेय, हनुमान, बलि, परशुराम, व्यास, विभीषण, कृपाचार्य तथा अश्वत्थामा इन आठ चिरंजीवियों की तरह मेरे भाई को भी चिरंजीवी कर दें।
- इसके बाद बहन भाई को भोजन कराती हैं। भोजन के बाद भाई की तिलक लगाती हैं। इसके बाद भाई यथाशक्ति बहन को भेंट देता है, जिसमें आभूषण, वस्त्र आदि प्रमुखता से दिए जाते हैं।
- लोगों में ऐसा विश्वास भी प्रचलित है कि इस दिन बहन अपने हाथ से भाई को भोजन कराए तो उसकी उम्र बढ़ती है और उसके जीवन के कष्ट दूर होते हैं।

शुभ मुहूर्त
दोपहर 01:10 बजे से 03:18 बजे तक

यमराज और भाई दूज के बारे में ये भी पढ़ें

मृत्यु से पहले यमराज सभी को देते हैं ये 4 संकेत, बहुत कम लोग समझ पाते हैं इन्हें

देवताओं के वाहन से भी सीख सकते हैं लाइफ मैनेजमेंट के सूत्र

यमराज के सहायक हैं चित्रगुप्त, भाई दूज पर होती है इनकी भी पूजा, ये हैं इनके 3 प्रमुख मंदिर

यमराज ने अपनी बहन को दिया था वरदान, इसलिए मनाया जाता है भाई दूज का पर्व

चित्रगुप्त रखते हैं मनुष्यों के हर अच्छे-बुरे कामों का हिसाब, भाई दूज पर की जाती है इनकी भी पूजा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios