Asianet News Hindi

पूरे विधि-विधान से न कर पाएं पितरों का श्राद्ध तो इस आसान विधि से भी कर सकते हैं

 अगर आप किसी कारणवश शास्त्र के अनुसार विधानों से न कर पाएं, तो एक आसान विधि से भी श्राद्ध कर सकते हैं

know an easy way to do shradhh
Author
Ujjain, First Published Sep 19, 2019, 2:14 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन(Ujjain). आश्विन कृष्ण पक्ष में जिस दिन पूर्वजों की श्राद्ध तिथि आए, उस दिन श्राद्ध विधि-विधान से करना चाहिए। किंतु अगर आप किसी कारणवश शास्त्र के अनुसार विधानों से न कर पाएं, तो इस आसान विधि से भी श्राद्ध कर सकते हैं-


- सुबह उठकर स्नान कर देव स्थान व पितृ स्थान को गाय के गोबर से लीपकर व गंगाजल से पवित्र करें। घर के आंगन में रांगोली बनाएं।
- महिलाएं शुद्ध होकर पितरों के लिए भोजन बनाएं। भोजन में खीर हो तो अच्छा रहता है।  
- ब्राह्मण को न्यौता देकर बुलाएं व पितरों की पूजा एवं तर्पण आदि करवाएं।  
- संभव हो तो बहन के परिवार वालों को भी भोजन के लिए अवश्य आमंत्रित करें। 
- पितरों के निमित्त अग्नि में खीर अर्पित करें। गाय, कुत्ता, कौआ व अतिथि के लिए भोजन से चार ग्रास अलग से निकालें।
- ब्राह्मण को आदरपूर्वक भोजन कराएं, वस्त्र-दक्षिणा आदि दान करें। ब्राह्मण गृहस्थ एवं पितर के प्रति शुभकामनाएं व्यक्त करें।
- ब्राह्मण को घर के दरवाजे तक ससम्मान छोड़ कर आएं। ऐसा करने से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है।

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios