Asianet News Hindi

इन 7 लोगों का मजाक भूलकर भी नहीं उड़ाना चाहिए

हमें सामाजिक दायरों में रहते हुए किसी के साथ हंसी-मजाक करना चाहिए। मनु स्मृति में बताया गया है कि हमें किन लोगों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।

Manu Smriti: Even by forgetting, we should not make fun of these 7 people.
Author
Bhopal, First Published Jul 7, 2019, 2:47 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. हंसना मनुष्य होने की निशानी है। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो दूसरों का मजाक उड़ा कर हंसते हैं। ये बात ठीक नहीं है। हमें सामाजिक दायरों में रहते हुए ही किसी के साथ हंसी-मजाक करना चाहिए। जिस मजाक से किसी का अपमान हो या उसे दुख पहुंचे, ऐसा काम भूल कर भी नहीं करना चाहिए। मनु स्मृति में बताया गया है कि हमें किन लोगों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।  

श्लोक - हीनांगनतिरिक्तांगन्विद्याहीनान्वयोधिकान्। रूपद्रव्यविहीनांश्च जातिहीनांश्च नाक्षिपेत्।

अर्थ- इन लोगों पर व्यंग्य (मजाक) नहीं करना चाहिए, 1. जो हीन अंग वाले हों (जैसे- अंधा, काना, लूला-लंगड़ा आदि), 2.अधिक अंग वाले हों (जैसे पांच से अधिक अंगुलियों वाले), 3. अशिक्षित, 4. आयु में बड़े, 5. कुरूप, 6. गरीब या 7. छोटी जाति के हों।

 

1. हीन (कम) अंग वाले - हीन अंग वाले लोग यानी जिनके शरीर का कोई न कोई हिस्सा या तो है ही नहीं या अधूरा है जैसा- लूला, लंगड़ा, काना आदि। कुछ लोग तो जन्म से ही हीन अंग वाले होते हैं, वहीं कुछ लोग दुर्घटना में अंगहीन हो जाते हैं। मनु स्मृति के अनुसार, ऐसे लोगों का कभी भी मजाक नहीं उड़ाना चाहिए, क्योंकि कम अंग होने के कारण वे पहले से ही सहानुभूति के पात्र होते हैं।

 

2. अधिक अंग वाले - कुछ लोगों के शरीर में अधिक अंग होते हैं जैसे किसी के हाथ या पैर में 6 उंगलियां होती हैं। मनु स्मृति के अनुसार, शरीर में अधिक अंग होने पर भी किसी का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए, क्योंकि वह तो जन्मजात ही ऐसा है। भगवान ने उसे इसी रूप में धरती पर भेजा है। यदि हम ऐसे लोगों का मजाक उड़ाते हैं तो समझना चाहिए कि हम परम पिता परमेश्वर का मजाक उड़ा रहे हैं।

 

3. अशिक्षित - यदि कोई व्यक्ति अनपढ़ यानी अशिक्षित है और वह किसी मुश्किल में है तो हमें उसकी मदद करना चाहिए न कि मजाक उड़ाना चाहिए। उस व्यक्ति के अशिक्षित होने के पीछे पारिवारिक या सामाजिक कारण हो सकते हैं। ऐसे व्यक्ति का मजाक उड़ा कर हम उसे दुख ही पहुंचाते हैं जबकि यह हमारा नैतिक दायित्व है कि भूल कर भी हमारी वजह से कोई दुखी न हो।

 

4. आयु में बड़े - जो भी व्यक्ति हमसे उम्र में बड़ा है, वह आदर-सम्मान करने योग्य है। बचपन से हमें यही सिखाया जाता है। उम्र अधिक होने के कारण कई बार बुजुर्ग ऐसे काम कर बैठते हैं, जिसके कारण उनका मजाक उड़ाया जाता है, जो कि ठीक नहीं है। कई बार बुजुर्ग घर में ही ऐसी घटनाओं का शिकार होते हैं। अगर भूल कर कभी किसी बुजुर्ग से ऐसा काम हो भी जाए तो हमें मजाक न उड़ाते हुए उनके साथ सहानुभूति रखनी चाहिए और उनकी मुश्किल समझने की कोशिश करनी चाहिए। 

5. कुरूप, 6. गरीब या 7. छोटी जाति के लोगों का भी मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios