Asianet News HindiAsianet News Hindi

AshadhaGupt Navratri 2022: आज से शुरू हो रही है गुप्त नवरात्रि, कम खर्च के छोटे उपाय दिला सकते हैं बड़ा फायदा

हिंदू पंचांग के अनुसार, एक साल में 4 नवरात्रि मनाई जाती है। इनमें से 2 प्रकट और 2 गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratri 2022) होती है। हिंदू वर्ष की पहली गुप्त नवरात्रि आषाढ़ मास के शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तिथि तक मनाई जाती है।

Remedies for Gupt Navratri Gupt Navratri 2020 When will Gupt Navratri start? MMA
Author
Ujjain, First Published Jun 29, 2022, 9:24 AM IST

उज्जैन. इस बार आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि 30 जून, गुरुवार से शुरू होकर 8 जुलाई, शुक्रवार तक मनाई जाएगी। इन 9 दिनों में देवी के अलग-अलग रूपों की पूजा की जाएगी और देवी को प्रसन्न करने के लिए उपाय भी किए जाएंगे। देवी पुराण के अनुसार, नवरात्रि में पहले दिन से लेकर अंतिम दिन तक देवी को विशेष भोग लगाने से साधक की हर मनोकामना पूरी हो सकती है। ये उपाय (Gupt Navratri 2022 Ke Upay)बहुत ही आसान है जो बहुत कम खर्च में संभव है। आगे जानिए गुप्त नवरात्रि के 9 दिनों में देवी को किस चीज का भोग लगाएं…

1. गुप्त नवरात्रि के प्रतिपदा तिथि (30 जून, गुरुवार) यानी पहले दिन देवी को घी का भोग लगाएं तथा इसका दान भी करें। घी से बना कोई पकवान जैसे हलवे का भोग भी इस दिन देवी को लगा सकते हैं। इस उपाय से पुराने रोगों में आराम मिलता है और सेहत अच्छी बनी रहती है।

2. गुप्त नवरात्रि की द्वितीया तिथि (1 जुलाई, शुक्रवार) यानी दूसरे दिन माता को शक्कर का भोग लगाएं या शक्कर से बनी किसी अन्य मिठाई का भोग भी लगा सकते हैं। देवी पुराण के अनुसार, ये उपाय करने से उम्र बढ़ती है।

3. तृतीया तिथि (2 जुलाई, शनिवार) को माता को दूध का भोग लगाने का विधान है। ऐसा संभव न हो तो दूध से बनी मिठाई जैसी रबड़ी, कलाकंद आदि का भोग भी लगा सकते हैं। ऐसा करने से सभी प्रकार के दु:खों से मुक्ति मिलती है।

4. चतुर्थी तिथि (3 जुलाई, रविवार) को माता को मालपुए का भोग लगाएं। देवी पुराण के अनुसार, ऐसा करने से जीवन में चल रही परेशानियां दूर हो सकती हैं। 

5. गुप्त नवरात्रि की पंचमी तिथि 4 जुलाई, सोमवार को है। पुराणों के अनुसार, इस तिथि पर देवी को जितने हो सके उतने केले का भोग लगाना चाहिए और बाद में इन्हें प्रसाद के रूप में बांट देना चाहिए। इससे परिवार में सुख-शांति बनी रहती है।

6. गुप्त नवरात्रि की षष्ठी तिथि (5 जुलाई, मंगलवार) की देवी कात्यायनी हैं। इस दिन माता को शहद का भोग लगाना चाहिए। इस बात का ध्यान रखें कि शहद पूरी तरह से शुद्ध हो, उसमें किसी प्रकार की मिलावट न हो। इससे धन प्राप्ति के योग बनते हैं।

7. सप्तमी तिथि (6 जुलाई, बुधवार) को माता को गुड़ की वस्तुओं का भोग लगाएं तथा दान भी करें। इससे गरीबी दूर हो सकती है।

8. गुप्त नवरात्रि की अष्टमी तिथि (7 जुलाई, गुरुवार) को माता दुर्गा को नारियल का या नारियल से बनी चीजों जैसे खोपरापाक या अन्य कोई मिठाई का भोग लगाएं। ये उपाय करने से घर में
सुख-समृद्धि बनी रहती है।

9. नवमी नवरात्रि की अंतिम तिथि (8 जुलाई, शुक्रवार) होती है। देवी पुराण के अनुसार, इस दिन देवी को विभिन्न प्रकार के अनाजों का भोग लगाना चाहिए और बाद में इनका दान जरूरतमंदों को करना चाहिए। इस उपाय से साधक की हर मनोकामना पूरी हो सकती है। 

ये भी पढ़ें-

Gupt Navratri 2022: गुप्त नवरात्रि में रोज ये छोटा-सा मंत्र बोलकर करें देवी पूजा, मिलेगी हर काम में सफलता


Gupt Navratri 2022: गुप्त नवरात्रि के पहले दिन बन रहे हैं 4 शुभ योग, जानिए कब से कब तक मनाया जाएगा ये पर्व?
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios