उज्जैन. 13 अगस्त को सावन का अंतिम मंगलवार है। गोस्वामी तुलसीदास ने हनुमान चालीसा के माध्यम से हनुमानजी के बल, बुद्धि व पराक्रम का वर्णन किया है। हनुमान चालीसा की अनेक चौपाइयों में हमारी समस्याओं का समाधान भी छिपा हुआ है। सावन के अंतिम मंगलवार (13 अगस्त) के मौके पर हम आपको हनुमान चालीसा की 7 ऐसी ही चौपाइयों के बारे में बता रहे हैं, जिनका जाप करने से आपकी अनेक समस्याओं का समाधान संभव है। इन चौपाइयों का महत्व उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा ने बताया है।

पहले इस विधि से करें पूजा
मंगलवार की सुबह स्नान आदि करने के बाद एक लाल कपड़े पर हनुमानजी की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें। गुड़ चने का भोग लगाएं और शुद्ध घी का दीपक जलाएं। इसके बाद कुशा के आसन पर बैठकर इनमें से किसी 1 चौपाई का जाप शुरू करें।

1. बल, बुद्धि, विद्या देहु मोहिं। हरहु कलेश विकार।।
लाभ- इस चौपाई का जाप करने से सभी प्रकार के दुख दूर होते हैं और बल, बुद्धि व विद्या यानी ज्ञान की प्राप्ति होती है।

2. संकट कटै मिटै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमान बलबीरा।।
लाभ- जब भी जीवन में विकट परिस्थियों का सामना हो तो हनुमान चालीसा की इस चौपाई का जाप करने से सभी समस्याओं का समाधान हो जाता है।

3. भूत पिशाच निकट नहिं आवै, महाबीर जब नाम सुनावै
लाभ- इस चौपाई का जाप करने से किसी प्रकार की बुरी शक्ति का असर आप पर नहीं होता या आपके आस-पास कोई नेगेटिव एनर्जी है तो आपसे दूर ही रहती है।

4. नासै रोग हरै सब पीरा, जपत निरंतर हनुमत बीरा
लाभ- यह चौपाई बीमारियों के लिए यह रामबाण उपाय साबित होती है। इसके अलावा इसके जाप से रुए हुए काम भी जल्दी होने लगते हैं।

5. विद्यावान गुनी अति चातुर, राम काज करिबे को आतुर
लाभ- गरीबी और दुर्भाग्य खत्म कर अच्छी विद्या और सुखी जीवन की प्राप्ति के लिए इस चौपाई का जाप करना चाहिए।

6. भीम रूप धरि असुर संहारे, रामचंद्र के काज संवारे
लाभ- इस चौपाई का जाप करने से व्यक्ति के सभी बिगड़े काम बनने लगते हैं। साथ ही घर-परिवार का आर्थिक परेशानियां खत्म होती है।

7. सब सुख लहै तुम्हारी सरना, तुम रच्छक काहू को डर ना
लाभ- जो भी व्यक्ति हनुमान चालीसा की इस चौपाई का जाप करता है, उसे जीवन का हर सुख प्राप्त होता है और हनमानजी की कृपा भी उस पर बनी रहती है।