उज्जैन. पापमोचनी एकादशी पर व्रत रखने के साथ भगवान सत्यनारायण की कथा और भगवान विष्णु के विभिन्न मंत्रों का जाप करते हैं। इस दिन भगवान विष्णु की विशेष स्तुति करनी चाहिए। इसके विधि इस प्रकार है…

भगवान विष्णु की स्तुति

शान्ताकारं भुजंगशयनं पद्मनाभं सुरेशं
विश्वाधारं गगन सदृशं मेघवर्ण शुभांगम्।
लक्ष्मीकांत कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यं
वन्दे विष्णु भवभयहरं सर्व लौकेक नाथम्।।
यं ब्रह्मा वरुणैन्द्रु रुद्रमरुत: स्तुन्वानि दिव्यै स्तवैवेदे:।
सांग पदक्रमोपनिषदै गार्यन्ति यं सामगा:।
ध्यानावस्थित तद्गतेन मनसा पश्यति यं योगिनो
यस्यातं न विदु: सुरासुरगणा दैवाय तस्मै नम:।।


स्तुति करने की विधि
 

1. एकादशी की सुबह स्नान आदि करने के बाद भगवान विष्णु की पूजा करें।
2. पीले फूल, पीले फल और पीले वस्त्र अर्पित करें। गाय के दूध से बनी खीर का भोग लगाएं।
3. गाय के शुद्ध घी का दीपक जलाएं और एक ऊपर बताई गई स्तुति का पाठ करें।
4. कम से कम 11 बार ये स्तुति बोलें। इससे आपके घर में सुख-समृद्धि बनी रहेगी। 

ज्योतिषीय उपायों के बारे में ये भी पढ़ें

लड़की के विवाह में बार-बार आ रही है परेशानी तो करें इनमें से कोई 1 उपाय

वास्तु और ज्योतिषीय उपायों में काम आता है गुलाब, इससे कम हो सकती हैं आपकी परेशानियां

अपशकुन होता है तुलसी के पौधे का सूखना, पैसों की तंगी दूर करने के लिए हर शुक्रवार को करें ये उपाय

धन लाभ के लिए घर में रखना चाहिए ये खास पौधा, इन बातों का भी रखें ध्यान

अशुभ योग, तिथि या नक्षत्र में जन्में शिशु को परेशानियों से बचाने के लिए ये उपाय करना चाहिए

बिजनेस में सफलता के लिए पहनना चाहिए ये खास रत्न, इससे बना रहता है आत्मविश्वास

खर मास में तिथि अनुसार करें अलग-अलग चीजों का दान, दूर हो सकती हैं आपकी परेशानियां

शनि की तीसरी दृष्टि के कारण लाइफ में बनी रहती हैं परेशानियां, करें ये आसान उपाय

कुंडली में कमजोर है चंद्रमा तो फाल्गुन मास में करना चाहिए ये उपाय, मिल सकते हैं शुभ फल