Asianet News HindiAsianet News Hindi

AIR POLLUTION : UP के नोएडा में स्कूल-कॉलेज 21 तक बंद, दफ्तरों में सिर्फ 50% कर्मचारी आएंगे

बुधवार को गौतमबुद्ध नगर DM सुहास एलवाई ने स्कूल-कॉलेज बंद करने और 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ काम करने की जानकारी दी। यह फैसला प्रदूषण से निपटने के लिए किया गया है। 

Air Polution Noida Delhi Supreme court School College Work From home
Author
Noida, First Published Nov 17, 2021, 9:12 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नोएडा। प्रदूषण से जूझ रही दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर (NOIDA) में भी प्रतिबंध लागू किए गए हैं। वहां भी प्रदूषण (Air Pollution) की स्थिति काफी गंभीर बनी हुई है। यहां स्कूल-कॉलेजों (School College) को 21 नवंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है। दफ्तरों (Office) में सिर्फ 50 प्रतिशत कर्मचारी काम पर आएंगे। उधर, हरियाणा (Haryana) के एनसीआर (NCR) क्षेत्रों में भी स्कूलों को बंद करने का ऐलान हो गया है। बुधवार को गौतमबुद्ध नगर DM सुहास एलवाई ने स्कूल-कॉलेज बंद करने और 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ काम करने की जानकारी दी। 
उन्होंने बताया कि अब सभी प्राइवेट और सरकारी स्कूल समेत अन्य शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट लगातार प्रदूषण के मुद्दे पर सरकारों को फटकार लगा रही है। बुधवार को ही दिल्ली में वायु प्रदूषण से निपटने का प्लान कोर्ट में दिया गया है। इसके बाद दिल्ली से सटे NCR क्षेत्रों में भी प्रतिबंध लागू किए जा रहे हैं। दिल्ली सरकार ने जो  प्लान दिया था, उसमें कहा गया था कि आस-पास के शहरों में प्रतिबंध नहीं लागू होंगे तो प्रतिबंध लगाने का कोई फायदा नहीं होगा। इससे पहले दिल्ली में भी एक हफ्ते के लिए स्कूल बंद करने का आदेश सुनाया गया था। वहां दफ्तरों बाहरी ट्रकों की एंट्र्री, कंस्ट्रक्शन के काम आदि रोक दिए गए हैं। दफ्तरों में भी वर्क फ्रॉम होम किया गया है। 

सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों से कहा- प्रदूषण पर अंकुश लगाएं 
सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने बुधवार को केंद्र और राज्यों से कहा कि वायु प्रदूषण (AIR PULLUTION) पर अंकुश लगाएं। कोर्ट ने कहा कि बैठक में जो भी निर्णय हुए हैं, उन्हें अमल में लाएं। कोर्ट (Court) ने इस दौरान अफसरों की लापरवाही पर  नाराजगी जताई और कहा कि नौकरशाही ने निष्क्रियता विकसित की है। वे कोई फैसला नहीं करना चाहते और वह हर चीज अदालत के भरोसे छोड़ना चाहते हैं। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) और आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग ने औद्योगिक प्रदूषण, थर्मल प्लांट, वाहनों के उत्सर्जन, धूल नियंत्रण, डीजल जनरेटर के साथ-साथ घर से काम को प्रोत्साहित करने के लिए कई आपातकालीन कदम उठाए थे। 

यह भी पढ़ें
दतिया के पीतांबरा दर पर Rajnath Singh ने टेका माथा, किया विशेष अनुष्ठान..मंत्री-विधायक को बाहर ही रोका
ब्रिटिश PM बोरिस जॉनसन के 81 वर्षीय पिता पर महिला सांसद और पत्रकार ने लगाए छेड़छाड़ के आरोप

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios