Asianet News HindiAsianet News Hindi

ब्वॉयफ्रेंड से बात नहीं किया बंद तो पिता ने बेटी को मारी गोली, ऐसे खुला राज

हत्या करने के बाद शव को एक प्लास्टिक के बोरे में भर दिया था। इसमें परिवार के सभी सदस्यों ने मदद किया था। इसके बाद शव को सफारी गाड़ी से गंगा किनारे ले गए और प्लास्टिक के बोरे में बंद कर फेंक दिया।

Father murdered daughter
Author
Gazipur, First Published Jan 13, 2020, 4:42 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

गाजीपुर (Uttar Pradesh) । दोस्त से फोन पर बातचीत न बंद करने पर फौजी पिता ने बेटी को गोली मार दी। इसके बाद उसकी लाश को परिवार वालों की मदद से गाड़ी में भरकर गंगा नदी किनारे फेंक दिया। सच्चाई सामने आने पर पुलिस ने मां, चाचा-चाची और दादा को गिरफ्तार कर लिया, जबकि फौजी पिता अभी फरार है। 
परिवार के रोकने के बाद भी कर रही थी बात
प्रिया की कालेज के एक लड़के से दोस्ती थी। मोबाइल फोन पर दोनों में काफी बातें होती थी। प्रिया के परिवार वाले इसके खिलाफ थे।  प्रिया को बातचीत बंद करने के लिए काफी समझाया भी गया था, लेकिन वह बातचीत करती थी।

इस तरह की ऑनर किलिंग
बेटी प्रिया परिवार वालों की बातों को दरकिनार कर दी। इससे नाराज फौजी पिता विनोद यादव और मां, चाचा-चाची ने उसकी हत्या करने की स्किप्ट ही लिख दी। प्लान के मुताबिक प्रिया की गोली मारकर हत्या कर दी गई और शव को सफारी गाड़ी में लादकर रेवतीपुर गांव में स्थित गंगा किनारे फेंक दिया गया। इस वारदात को फौजी की लाइसेंसी रिवाल्वर से वारदात को अंजाम दिया गया।

हत्या के बाद प्लास्टिक के बोरे में भरा था लाश
हत्या करने के बाद शव को एक प्लास्टिक के बोरे में भर दिया था। इसमें परिवार के सभी सदस्यों ने मदद किया था। इसके बाद शव को सफारी गाड़ी से गंगा किनारे ले गए और प्लास्टिक के बोरे में बंद कर फेंक दिया। 

पांच जनवरी को मिली थी लाश
पांच जनवरी की शाम करीब तीन बजे रेवतीपुर थाना क्षेत्र के गंगा जाने वाले मार्ग पर रामपुर गांव के पास नदी के किनारे गंगा के पानी में लोगों ने एक बोरा देखा था। बोरे से खून रिस रहा था। लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने बोरे को खोला तो उसमें किशोरी का शव प्लास्टिक में लिपटा मिला।

कनपटी पर मारी थी गोली 
किशोरी के चेहरे के साथ ही कनपटी पर सुराख था। इससे यह स्पष्ट हुआ था कि उसकी गोली मारकर हत्या की गई है। पुलिस शव को कब्जे में लेकर शिनाख्त में जुट गई थी।

तीन दिन बाद हुई थी पहचान
जांच में जुटी पुलिस शव की पहचान को लेकर परेशान थी। उधर तीसरे दिन किशोरी की पहचान जंगीपुर थाना क्षेत्र के कदियापुर निवासी विनय उर्फ विनोद उर्फ बोधा यादव की पुत्री प्रिया यादव के रूप में हुई थी। शिनाख्त होने के बाद मामले की विवेचना जंगीपुर थानाध्यक्ष को दी गई थी।

रात नौ बजे पुलिस ने किया गिरफ्तार
थानाध्यक्ष जयचंद भारती ने शनिवार की रात करीब नौ बजे क्षेत्र के कदियापुर निवासी मृत किशोरी की मां रजनी यादव को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद थानाध्यक्ष ऑनर किलिंग की पूरी स्टोरी मीडिया को बताया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios