Asianet News Hindi

दोस्त को उधार दिए थे 25 लाख, वापस मांगी तो दी ये खौफनाक सजा


मृतक की पहली पत्नी की मृत्यु हो गई थी। दूसरी पत्नी घर छोड़कर जा चुकी है। मां का निधन हो चुका है। अब उसके तीनों बच्चे अनाथ हो गए। बुजुर्ग पिता परेशान है कि कैसे इन बच्चों की जिम्मेदारी उठा पाएंगे। 

Friend kills friend, attempts to burn dead body Baghpat asa
Author
Baghpat, First Published Feb 12, 2020, 7:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बागपत (Uttar Pradesh) । जिस दोस्त के बुरे समय में काम आया उसी दोस्त ने उसे बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। गोली मारकर या धारदार हथियार से हत्या करने के बाद पहचान छिपाने के लिए शव को जलाने की कोशिश किया। वहीं, आज एसपी गोपेंद्र प्रताप यादव, फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची और जांच की। जिसमें पाया कि शव 80 फीसद जल चुका था। कोतवाली प्रभारी राजकुमार शर्मा का कहना है कि नामजद आरोपी से पूछताछ की जा रही है। जल्द ही खुलासा किया जाएगा।

20 साल से थी दोनों की दोस्ती
बुजुर्ग पिता श्रीपाल ने बताया कि दूध विक्रेता राकेश और हत्यारोपी संजीव 20 साल से दोस्त थे। दोनों ने कई साल तक खेकड़ा की एक हथकरघा फैक्टरी में साथ ही नौकरी की थी। इसी दोस्ती में राकेश उसे रुपये उधार देता गया। उधार दिए 25 लाख रुपये वापस मांगना दूध विक्रेता राकेश को भारी पड़ गया। पिता का कहना है कि इन्हीं रुपयों को राकेश अपने दोस्त संजीव से वापस मांग रहा था, लेकिन बदले में उसे मार दिया गया। पुलिस संजीव को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ में जुटी है। 

तीन मासूम बच्चे हुए अनाथ
यहां तक कि हत्यारोपी को उसके तीन बच्चों को भी ख्याल  नहीं आया जो पिता की मौते के बाद अनाथ हो गए। राकेश यादव के दो पुत्र आठ वर्षीय यश, पांच वर्षीय नक्ष और एक छोटी पुत्री है।

चली गई है दूसरी पत्नी
राकेश की पहली पत्नी की मृत्यु हो गई थी। दूसरी पत्नी घर छोड़कर जा चुकी है। मां का निधन हो चुका है। अब राकेश की भी हत्या हो गई। उसके तीनों बच्चे अनाथ हो गए। श्रीपाल यादव ने कहा कि वह बुजुर्ग हैं, पता नहीं कब तक और कैसे इन बच्चों की जिम्मेदारी उठा पाएंगे। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios