गुरुद्वारे में फंदे से लटकता मिला शव, दरोगा की भतीजी ने सुसाइड नोट में लिखा 'जिंदगी से अब मन ऊब गया'

| Dec 06 2022, 11:33 AM IST

गुरुद्वारे में फंदे से लटकता मिला शव, दरोगा की भतीजी ने सुसाइड नोट में लिखा 'जिंदगी से अब मन ऊब गया'

सार

यूपी के कानपुर के नवाबगंज थाने में तैनात दरोगा की भतीजी ने श्रीनगर स्थित गुरुद्वारे के कमरे में फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। मृतका के पास से बरामद हुए सुसाइड नोट में उसने जिंदगी से ऊबकर जान देने की बात लिखी है।

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। बता दें कि एक दरोगा की भतीजी रितिका ने श्रीनगर स्थित गुरुद्वारे के कमरे में फांसी के फंदे से लटककर अपनी जान दे दी थी। मृतका के पास से एक सुसाइ़ड नोट भी बरामद हुआ है। जिसमें लिखा है कि अब जिंदगी से मन ऊब गया, मैं पढ़-लिखकर कुछ बन नहीं पाउंगी, मैं पहाड़ों में घूमना चाहती हूं, लेकिन शादी के बाद मैं घूम भी नहीं पाऊंगी। यह लिख रितिका ने फांसी लगा ली। वहीं श्रीनगर पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव को परिजनों के हवाले कर दिया है। जिसके बाद मृतका के घरवाले शव को लेकर अपने गृह जनपद ग्रेटर नोएडा रवाना हो गए। नवाबगंज थाने में तैनात दरोगा प्रमोद बैसला की भतीजी रितिका का शव श्रीनगर के एक गुरुद्वारे में फंदे से लटकता मिला था।

तीन दिन से लापता थी छात्रा
बताया जा रहा है कि मृतक रितिका अपने चाचा के पास रहती थी। सुसाइड की जानकारी मिलने के बाद पनकी पुलिस की एक टीम रितिका के घरवालों के साथ श्रीनगर पहुंची। वहीं पनकी एसीपी निशंक शर्मा ने बताया कि छात्रा प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर तनाव में थी। बता दें कि तीन दिन से लापता रितिका कोचिंग के लिए निकली थी। जिसके बाद वह घर नहीं लौटी तो उसी रात पनकी थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। वहीं श्रीनगर पुलिस ने अपने स्तर पर मामले की जांच की है। शनिवार शाम रितिका रैनवारी इलाके में स्थित गुरुद्वारे पहुंची थी। रितिका ने गुरुद्वारे में ही खाना खाया और फिर इसके बाद जिस कमरे में वह रुकी थी। उसी में फांसी लगाकर अपनी जान दे दी।

Subscribe to get breaking news alerts

पुलिस कर रही मामले की जांच
गुरुद्वारे में सेवादार ने रितिका के शव को सुबह फंदे से लटकता देखा तो उसने पुलिस को मामले की जानकारी दी। एसीपी ने बताया कि पुलिस टीम के वहां पहुंचने के बाद सारी स्थिति सामने आएंगी। वहीं इस घटना से मृतका के परिजन स्तब्ध हैं। परिजनों को समझ नहीं आ रहा कि रितिका पहले अचानक से कैसे लापता हो गई। इसके बाद खुदखुशी कर उसने अपनी जान दे दी। परिजनों का कहना है कि रितिका पढ़ाई को लेकर दबाव में थी। मृतका के घरवालों ने बताया कि रितिका रोजाना पौने दो बजे घर से निकलती थी। वहीं कोचिंग के बाद शाम को वह पांच से छह बजे के बीच घर वापस आ जाती थी। वहीं लापता होने के बाद से उसका फोन भी लगातार बंद आ रहा था। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

'रुपए दो, नहीं तो बेटियां उठा लेंगे' सूदखोरों की धमकी से परेशान मां ने पिया था जहर, बच्चियों ने छोड़ा स्कूल