गिरवी रखने का झांसा देकर दोस्त का चुराया 3 किलो सोना, UP से MP तक भटकता रहा युवक, पूछताछ में खुला बड़ा राज

| Nov 29 2022, 11:17 AM IST

गिरवी रखने का झांसा देकर दोस्त का चुराया 3 किलो सोना, UP से MP तक भटकता रहा युवक, पूछताछ में खुला बड़ा राज

सार

यूपी के जिले कानपुर में दोस्त का तीन किलो सोना चुराने वाले युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ में उसने बताया कि वह सात दिनों तक सो नहीं पाया। उसको ठिकाने लगाने के लिए वह यूपी से एमपी तक भटकता रहा। 

कानपुर: उत्तर प्रदेश के जिले कानपुर में एक युवक ने अपने ही दोस्त का तीन किलो सोना चुरा लिया। पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ में हैरान करने वाली बात सामने आई है। युवक ने पुलिस को बताया कि वह सोने को चुराने के बाद सात दिनों तक सो नहीं पाया। उसको ठिकाने लगाने के लिए इधर-उधर भटकता रहा। इतना ही नहीं सोने को लेकर वह यूपी से एमपी तक गया पर कुछ समझ नहीं आ रहा था कि इतना ज्यादा सोने का क्या करे। उसके बाद वापस आकर उसने अपने ही घर में सोना छिपाने की योजना बनाई लेकिन पुलिस ने लोकेशन को ट्रैक कर उसको सलाखों के पीछे पहुंचा दिया।

तीन किलो सोने को गिरवी रखने के लिए निकला था युवक
दरअसल शहर के चमनगंज के निवासी नदीम और जूही के ऋतिक राज वर्मा दोस्त हैं। दोनों अलग-अलग जगह सराफा का काम करते हैं। कुछ दिन पहले नदीम को कैश की जरूरत थी। उसके पास 3 किलो सोना था तो वह 23 नवंबर को तीन किलो सोने को गिरवी रखने के लिए निकला। तभी उसकी मुलाकात रास्ते में उसके दोस्त रितिक से हुई। उसने यह बात ऋतिक को बताई कि वह सोने को गिरवी रखने आया है। इस पर ऋतिक ने कहा कि वो बिरहाना रोड में एक सर्राफ को जानता है जो भरोसे का है। वो वहां पर सोना गिरवी रखवा देगा। इस पर दोनों तीन किलो सोना लेकर बिरहाना रोड पहुंचे।

Subscribe to get breaking news alerts

चाय की दुकान में बैठाकर सोना को लेकर फरार हुआ दोस्त
उसके बाद ऋतिक ने नदीम को चाय की दुकान पर बैठा दियाऔर कहा कि वह सर्राफा को सोना दिखाकर आएगा। नदीम करीब एक घंटे तक वहां बैठकर उसका इंतजार करता रहा पर वह वापस नहीं लौटा। नदीम ने तलाश शुरू की तो पता चला कि ऋतिक सोना लेकर भाग गया है और उसका फोन भी बंद आ रहा है। इसके बाद तुरंत नदीम ने फीलखाना थाने में रितिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई और पुलिस ने आरोपी दोस्त की तलाश शुरू कर दी। 

आरोपी दोस्त ने सोने को बेचने के लिए कई राज्यों के लगाए चक्कर
इस पूरे मामले को लेकर थाना प्रभारी अमित भड़ाना का कहना है कि शातिर ऋतिक माल लेकर भागने के बाद सबसे पहले प्रयागराज गया। उसके बाद वह वहां पर होटल में रुका लेकिन उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वो सोने को किसे बेचे। उसको पकड़े जाने का डर था। उन्होंने आगे बताया कि वह सात दिनों तक सोने की सुरक्षा की चिंता में सोया ही नहीं। आरोपी सोना बेचने के लिए दिल्ली, गुजरात, सूरत, एमपी, रतलाम भी गया लेकिन वो सोना नहीं बेच पाया।

90 प्रतिशत रुपए दिलाने का आरोपी दोस्त ने युवक को दिया था झांसा
अमित भड़ाना आगे कहते है कि थकहार कर उसने कानपुर में ही माल ठिकाने लगाने की योजना बनाई। वह सोमवार की अपने घर में वापस लौटा पर पुलिस ने सर्विलांस की मदद से कानपुर में लोकेशन मिलते ही ऋतिक को माल के साथ गिरफ्तार कर लिया। आरोपी को घंटाघर से टाटमिल चौराहा जाने वाले पुल पर पकड़ा गया है। इसके अलावा आरोपी दोस्त ने पूछताछ में बताया कि पीड़ित सोना कहीं पर भी गिरवी रख सकता था लेकिन आरोपी ने सोने के बदले 90 प्रतिशित रुपए दिलाने का झांसा दिया। पुलिस को उसके पास 79 नग सोना और 25 लाख रुपए कैश बरामद किया गया और उसकी कीमत 1.75 करोड़ बताई जा रही है।

सीतापुर में बाउंड्री वाल पर चढ़कर युवक ने कुंड में लगाई छलांग, गोताखोर की कड़ी मशक्कत के बाद निकाला ऐसा नतीजा

रेलवे स्टेशन की माइक से डिंपल यादव का हुआ था प्रचार, उत्तर मध्य रेलवे के अधिकारी हुए निलंबित

गोमती रिवरफ्रंट घोटाला: शिवपाल यादव और 2 अधिकारियों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, CBI ने मांगी पूछताछ की अनुमति

रेलवे स्टेशन की माइक से डिंपल यादव का हुआ था प्रचार, उत्तर मध्य रेलवे के अधिकारी हुए निलंबित