Asianet News HindiAsianet News Hindi

योगी सरकार संघ के फीडबैक पर करेगी काम, शिक्षा-आर्थिक समेत कई क्षेत्रों में मिले सुधार के सुझाव

लखनऊ में राज्य सरकार ने वैचारिक संगठनों से मिले फीडबैक पर विभागवार सुधार पर आश्वासन दिया है। राज्य सरकार शिक्षा, आर्थिक, सामाजिक और सुरक्षा के क्षेत्र पर विचार विमर्श होने के बाद मिले सुझावों पर काम करेंगी।

Lucknow Yogi government work feedback union suggestions improvement many areas including education economic
Author
First Published Sep 20, 2022, 11:41 AM IST

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास पर सरकार, भाजपा और संघ की समन्वय बैठक में कई मुद्दों की जमीनी हकीकत को लेकर मंथन हुआ। जिसमें सरकार ने वैचारिक संगठनों से मिले फीडबैक पर विभागवार सुधार का आश्वसन दिया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दो दिन तक चली समन्वय बैठक में सामने आई शैक्षिक, आर्थिक, सामाजिक और सुरक्षा के क्षेत्र पर विचार विमर्श हुआ है। संघ की ओर से रविवार से निराला नगर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में दो दिवसीय समन्वय बैठक का आयोजन किया गया।

संगठनों समेत कई पदाधिकारी की मौजूदगी में रखा फीडबैक
इस बैठक में वित्त मंत्री सुरेश खन्ना, सहकारिता मंत्री जेपीएस राठौर, श्रम मंत्री अनिल राजभर सहित सराकर के मंत्री शामिल हुए। इतना ही नहीं वैचारिक संगठन भी आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सरकार के कामकाज और उपलब्धियों को उनसे जुड़े क्षेत्रों के लोगों के बीच भी रखेंगे। इतना ही नहीं इस दौरान भारतीय किसान यूनियन, सहकार भारती, लघु उद्योग भारती सहित अन्य संगठनों ने बीजेपी के प्रदेश महामंत्री संगठन धर्मपाल सिंह और संघ के क्षेत्रीय प्रचारक अनिल कुमार व अन्य पदाधिकारियों की मौजूदगी में फीडबैक रखा। जिसके बाद वैचारिक संगठनों ने श्रम कानूनों को सुधार का सुझाव देते हुए बताया कि श्रम विभाग के अधिकारी संगठन को बिल्कुल सहयोग नहीं करते है।

सरकार की ओर से हर स्तर पर किया जाएगा समाधान
वहीं शैक्षिक समूह की बैठक में राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने नए शिक्षकों की भर्ती और शिक्षकों के अंतर्जनपदीय तबादलों में हुई गड़बड़ी जैसे मुद्दे उठाए। सहकारिता विभाग की ओर से खाद्य वितरण सही तरीके से नहीं किया जा रहा है। जिस पर सहकार भारती ने पैक्स को बहुपयोगी बनाने का सुझाव दिया। लघु उद्योग स्थापित करने में विभिन्न विभागों की एनओसी नहीं मिलने और जीएसटी से जुड़ी हुई समस्याएं भी रखी गईं। तो वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने विश्वविद्यालयों से जुड़ी हुई समस्याओं को रखा। जिसके बाद वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने आश्वासन दिया है कि आर्थिक मामलों से जुड़ी समस्याओं और सुझावों पर वह 15 दिन बाद फिर बात करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि सरकार के स्तर से जो भी समाधान हो सकेगा वह अवश्य किया जाएगा।

सीएम योगी ने दूसरे कार्यकाल की 6 महीने की उपलब्धियों को रखा
समन्वय बैठक में माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार गुलाब देवी, बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार संदीप सिंह और उच्च शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय ने इन मुद्दों पर कार्यवाही का आश्वसन दिया है। वहीं सुरक्षा समूह से जुड़ी बैठक में प्रदेश में कानून व्यवस्था की प्रशंसा की गई है। इसके साथ ही गैर मान्यता प्राप्त मदरसों की जांच सहित अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की गई है। इसके बाद सोमवार की शाम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दो दिन तक चली समन्वय बैठक में सामने आए सुझावों पर चर्चा की। संघ के पदाधिकारियों ने भी किसानों, श्रामिकों, उद्योग एवं व्यापार, शिक्षा से जुड़े फीडबैक की जानकारी दी। करीब दो घंटे से अधिक समय तक चली बैठक में सरकार ने संघ के फीडबैक के आधार पर विभिन्न विभागों के स्तर से उचित समाधान का आश्वासन दिया। वहीं मुख्यमंत्री योगी ने सरकार के दूसरे कार्यकाल की छह महीने की उपलब्धियां सहित आगामी योजनाओं को रखा।

पैदल मार्च रोकने के बाद समाजवादी पार्टी लाएगी विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव, राज्य सरकार ने भी बनाई खास रणनीति

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios