Asianet News HindiAsianet News Hindi

मुजफ्फरनगर: नशा मुक्ति केंद्र से लौटे युवक के पेट से निकले 63 स्टील के चम्मच, पूरा मामला जानकर आप भी रह जाएंगे

यूपी के मुजफ्फरनगर जिले में ऑपरेशन के दौरान एक युवक के पेट से एक-दो नहीं बल्कि 63 स्टील के चम्मच निकले हैं। पीड़ित युवक के परिजनों का कहना है कि उसे नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती करवाया गया था। जहां पर स्टॉफ ने उसे जबरन चम्मच खिलाए हैं। 

Muzaffarnagar 63 steel spoons came out of stomach of youth who returned drug de addiction center you will also stunned to know whole matter
Author
First Published Sep 28, 2022, 10:51 AM IST

मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। प्राइवेट अस्पताल में ऑपरेशन के दौरान एक मरीज के पेट से कई स्टील के चम्मच निकाले गए हैं। बता दें कि मरीज के पेट से डॉक्टरों ने एक-दो नहीं बल्कि 63 चम्मच निकाले हैं। वहीं मरीज की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है। डॉक्टर लगातार मरीज की देखभाल कर रहे हैं। मरीज के पेट से इतने चम्मच निकलने के बाद डॉक्टर्स भी हैरान रह गए हैं। 

ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर भी हुए हैरान
बताया जा रहा है कि थाना मंसूरपुर क्षेत्र के गांव बोपाडा निवासी विजय नशे का आदी है। विजय के परिजनों ने नशा छुड़ाने के लिए उसे जनपद शामली में स्थित नशा मुक्ति केंद्र में उसे करीब पांच महीने पहले भर्ती करवाया गया था। इस दौरान अचानक उसकी तबियत बिगड़ी तो परिजन उसे लेकर मुजफ्फरनगर के एक निजी हॉस्पिटल पहुंच गए। जहां पर ऑपरेशन के दौरान उसके पेट से 63 स्टील की चम्मच निकलने पर डॉक्टरों के साथ मेडिकल स्टॉफ के भी होश उड़ गए। डॉक्टर का कहना है कि उन्होंने ऐसा पहला केस देखा है जिसमें किसी मरीज के पेट से इतनी चम्मच निकली हों। 

परिजनों ने नशा मुक्त केंद्र के स्टॉफ पर लगाए गंभीर आरोप
ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर विजय के पेट में इतनी चम्मच चली कैसे गईं। वहीं युवक के घरवालों का आरोप है कि नशा मुक्ति केंद्र के स्टॉफ ने उसे जबरन चम्मच खिलाई हैं। जिसके बाद उसकी तबियत बिगड़ गई। हालांकि पीड़ित द्वारा इस मामले पर अभी किसी प्रकार की जानकारी नहीं दी गई है। पेट मे इतनी संख्या में चम्मच का मिलना एक रहस्य बना हुआ हैं। वहीं पीड़ित का ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर ने इस मामले पर जानकारी देते हुए बताया कि मरीज की हालत अभी भी खतरे में है। उनकी पहली प्राथमिकता मरीज की जान बचाना है। वहीं पीड़ित युवक के भांजे अखिल ने आरोप लगाते हुए कहा कि नशा मुक्ति केंद्र में उनके मामा को चम्मच खिलाई गई हैं। 

मुजफ्फरनगर: मलबे के नीचे 45 मिनट तक दबा रहा परिवार, समय पर मदद न मिलने से 2 बच्चों की हुई मौत

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios