कानपुर चिड़ियाघर में शिक्षिका की मौत की असल वजह आई सामने, दिल में घुंसी पसलियां और सिर पर लगी चोट

| Nov 28 2022, 01:00 PM IST

कानपुर चिड़ियाघर में शिक्षिका की मौत की असल वजह आई सामने, दिल में घुंसी पसलियां और सिर पर लगी चोट

सार

कानपुर में शिक्षिका की मौत की असल वजह सामने आ गई है। बताया गया कि दिल में पसलियां घुसने से अत्यधिक रक्तस्त्राव हुआ और इसी के चलते मौत हो गई। इसी के साथ अंजू के सिर पर भी चोट लगी है।

कानपुर: चिड़ियाघर में ट्वाय ट्रेन हादसे में जान गंवाने वाली शिक्षिका अंजू शर्मा की मौत ट्रेन के साथ ट्रैक पर घसीटने से हो गई। उनकी पसलियां टूटकर हृदय में घुस गई। इसके चलते आतंरिक रक्तस्त्राव हुआ। सिर समेत पूरे शरीर पर दो दर्जन से ज्यादा गंभीर चोट आई हैं। बताया जा रहा है मौत का कारण अत्यधिक रक्तस्त्राव है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर इसकी पुष्टि हुई है। वहीं इस घटना के बाद परिजनों ने किसी भी तरह की शिकायत को लेकर फिलहाल इंकार किया है। उनका कहना है कि हादसा लापरवाही की वजह से हुआ है। 

चिड़ियाघर पिकनिक मनाने के दौरान हुई थी मौत
चकेरी स्थित सफीपुर-दो बंगाली कालोनी की निवासी एयरफोर्स से रिटायर्ड व सेंट्रल बैंक में लिपिक सुबोध की 44 वर्षीय पत्नी अंजू शर्मा उन्नाव स्थित प्राइमरी स्कूल में शिक्षिका थीं। यह घटना शनिवार को उस दौरान सामने आई जब अंजू पति के दोस्त के परिवार और अपने बच्चों के साथ चिड़ियाघर पिकनिक मनाने गई थीं। तकरीबन तीन बजे ट्वाय ट्रेन में बैठने के दौरान अंजू की मृत्यु हो गई।

Subscribe to get breaking news alerts

लापरवाही की वजह से हुआ हादसा
शुरुआती पड़ताल में सामने आया कि अचानक ट्रेन के चलने की वजह से अंजू ने चलती ट्रेन में बेटे के बैठने की कोशिश की। जिस दौरान यह हादसा हुआ उस समय उनकी बेटी ट्रेन में बैठी थी। प्लेटफार्म पर लगे पिलर से टकराकर वह दो बोगियां के बीच खाली स्थान से पटरियों पर जा गिरी। इसके बाद वह ट्रेन के पहियों के नीचे रगड़ती हुई चली गईं। इस घटना के बाद परिवार ने किसी भी कार्रवाई से इंकार किया है। पोस्टमार्टम हाउस में जब अंजू शर्मा के पति व जेठ से इसको लेकर बात की गई तो उन्होंने कहा कि हादसा लापरवाही की वजह से हुआ। लेकिन फिलहाल उन्होंने किसी भी कार्रवाई से इंकार किया है। हालांकि पहले परिजन तहरीर देने की बात कह रहे थे। 

अखिलेश यादव और जयंत का इंतजार कर रहे आजम खान, बोले- रामपुर में उपचुनाव नहीं हो रहा सिर्फ दहशत का है माहौल