Asianet News HindiAsianet News Hindi

UP Election 2022 : चुनाव से पहले अखिलेश को बड़ा झटका, 4 MLC सपा छोड़ BJP में गए

यूपी (Uttar Pradesh) में विधानसभा चुनाव (Election) से पहले बुधवार को समाजवादी पार्टी के 4 बड़े नेताओं ने BJP जॉइन कर ली। ये नेता नरेन्द्र भाटी, सीपी चंद्र, रविशंकर सिंह और रमा देवी निरंजन समाजवादी पार्टी से MLC थे। BJP  प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा की मौजूदगी में इन नेताओं को BJP की सदस्यता दिलाई गई। 

samajwadi party four leaders join BJP before vidhansabha election
Author
Lucknow, First Published Nov 17, 2021, 6:21 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ। यूपी में 2022 के विधानसभा चुनाव ( UP Election 2022) से पहले BJP ने अखिलेश यादव के समाजवादी गढ़ में बड़ी सेंध लगाई है। समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के 4 एमएलसी (MLC) बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (Bhartiye Janta Party) में शामिल हो गए। 
भाजपा की सदस्यता लेने वालों में बलिया के एमएलसी (MLC) व पूर्व पीएम चंद्रशेखर के पोते रविशंकर भी शामिल हैं। उनके अलावा पूर्व मंत्री गौतमबुद्ध नगर से विधायक रहे नरेंद्र भाटी, गोरखपुर के सपा एमएलसी सीपी चंद और झांसी से एमएलसी रमादेवी निरंजन भी भाजपा में शामिल हुए हैं। रमादेवी निरंजन के साथ उनके पति ने भी BJP की सदस्यता ली। 

डिप्टी सीएम ने लिखी MLC लाने की स्क्रिप्ट 
सूत्रों के मुताबिक सपा के चार बड़े नेताओं को भाजपा में शामिल कराने में डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और भाजपा उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह की खास भूमिका रही है। चारों नेता काफी समय से दिनेश शर्मा के संपर्क में थे। सपा नेताओं को भाजपा में शामिल कराते  हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि कई दशकों से सपा के वफादारी सिपाही, उसे ताकतवर बनाने वाले लोकप्रिय नेता नरेंद्र भाटी(narandra bhati) भाजपा से जुड़े हैं। इससे पार्टी मजबूत होगी और सपा का सफाया होगा। रविशंकर के आने से बलिया और आसपास के क्षेत्र में भाजपा मजबूत होगी। सीपी चंद ने भाजपा में वापसी की है। रमा निरंजन के आने से बुंदेलखंड में भाजपा मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि आज अखिलेश यादव को नींद नहीं आएगी। 

पश्चिमी यूपी में अखिलेश की मुश्किल बढ़ी
चुनाव के ऐन पहले 4 एमएलसी का इस तरह से सपा छोड़ना अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। खासकर नरेंद्र सिंह भाटी के पार्टी छोड़ने को लेकर पश्चिम यूपी की गुर्जर राजनीति में नए समीकरण बनने की उम्‍मीद जताई जा रही है। नरेंद्र सिंह भाटी सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के बेहद करीबी रहे हैं। 7 मार्च 2016 को समाजवादी पार्टी ने उन्हें एमएलसी बनाया था।

यह भी पढ़ें
IAF की ताकत बढ़ाएंगे लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर, आर्मी को UAV, नौसेना को वारफेयर सूट सौंपेंगे Modi
UP Election 2022: PM Modi झांसी-महोबा को देंगे 6350 करोड़ की projects का सौगात, Atal एकता पार्क का भी उद्धाटन

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios