Asianet News HindiAsianet News Hindi

Lakhimpur Kheri Violence: हिंसा की जांच कर रहे DIG उपेंद्र अग्रवाल का ट्रांसफर, पांच IG भी इधर से उधर

उपेंद्र अग्रवाल की गिनती तेजतर्रार अफसरों में होती है। IPS उपेंद्र अग्रवाल बंगाल के चर्चित शारदा चिटफंड घोटाले की जांच करने वाली टीम का भी हिस्सा रहे हैं।  उन्हें गोंडा के देवीपाटन रेंज के DIG की जिम्मेदारी दी गई है।

Uttar pradesh, lakhimpur kheri sit chief upendra agrawal transferred along with 5 other officers
Author
Lucknow, First Published Oct 22, 2021, 1:37 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव (up election 2022) के लिए आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने से पहले सरकार ने तबादलों का सिलसिला शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में गुरुवार देर रात 6 IPS अफसरों का ट्रांसफर किया गया है। इसमें सबसे अहम नाम DIG उपेंद्र अग्रवाल का है। वे लखीमपुर खीरी हिंसा (Lakhimpur Kheri Violence) की जांच कर रही SIT के प्रमुख थे। उन्होंने हिंसा के मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र (ajay mishra) टेनी के बेटे आशीष को गिरफ्तार किया था। लखीमपुर IG रेंज लखनऊ (lucknow) में आता है। अब उन्हें यहां से हटाकर देवीपाटन मंडल का DIG बनाया गया है।

अब कौन करेगा हिंसा की जांच ?
कहा जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने लखीमपुर खीरी कांड की जांच में देरी पर उत्तर-प्रदेश सरकार को फटकार लगाई थी। जांच की जिम्मेदारी उपेंद्र अग्रवाल पर थी। हालांकि, अब जांच टीम का प्रमुख कौन होगा? उपेंद्र अग्रवाल ही करेंगे या नहीं इसे लेकर शासन ने स्थिति साफ नहीं की है। चर्चा ये भी है कि ये ट्रांसफर चुनाव आयोग की उस सख्ती को लेकर है कि जिसमें आयोग ने तीन साल से ज्यादा समय से एक जगह तैनात अफसरों को हटाने के निर्देश दिए हैं।

तेजतर्रार अफसरों में होती है गिनती
उपेंद्र अग्रवाल की गिनती तेजतर्रार अफसरों में होती है। IPS उपेंद्र अग्रवाल बंगाल के चर्चित शारदा चिटफंड घोटाले की जांच करने वाली टीम का भी हिस्सा रहे हैं। लखीमपुर मामले में मुख्य आरोपी केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा के रसूख के बावजूद भी उपेंद्र अग्रवाल दबाव में नहीं आए थे। उपेंद्र अग्रवाल के अध्यक्षता में बनी कमेटी ने आशीष मिश्रा से काफी देर तक पूछताछ की थी। इसके बाद राज्यमंत्री के बेटे को जेल भेज दिया गया था। उस दौरान उपेंद्र अग्रवाल ने कहा था कि जांच में सहयोग न करने और सवालों के सही जवाब न देने के कारण आशीष को गिरफ्तार किया गया और जेल भेज दिया गया।

इसे भी पढ़ें-और जब किन्नर की खुली पोल तो गिड़गिड़ाने लगा, मजबूरी ऐसी सुनाई कि पुलिस भी चौंक गई... जानिए पूरा मामला

इन अफसरों का ट्रांसफर
DGP ऑफिस में पुलिस महानिरीक्षक कानून-व्यवस्था के पद पर तैनात रहे मोदक रोजश डी राव को बस्ती रेंज का IG बनाया गया है। इसके साथ ही शासन ने बस्ती में IG के पद पर तैनात अनिल कुमार राय को पुलिस महानिरीक्षक पीएसी सेंट्रल जोन लखनऊ बनाया गया है। IG अयोध्या के पद पर तैनात डॉ. संजीव गुप्ता को पुलिस महानिरीक्षक कानून-व्यवस्था के पद पर लखनऊ भेज दिया गया है। प्रयागराज (Prayagraj) के IG केपी सिंह को अयोध्या (Ayodhya) का नया IG बनाया गया है। गोंडा के IG राकेश सिंह को प्रयागराज का नया IG बनाया गया है। 

ADG स्तर के अफसर बदले जाएंगे
यूपी पुलिस में लंबे समय से तैनात ADG जोन को भी हटाया जाएगा। चुनाव आयोग के निर्देश के बाद इसकी समीक्षा शुरू कर दी गई है। हटाए जाने वालों में कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज जोन शामिल हैं। इस पर फैसला सरकार की तरफ से कभी भी लिया जा सकता है। माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव से पहले कई अफसर इधर से उधर होंगे।

इसे भी पढ़ें-UP में घर गिरा और खत्म हो गया परिवार: सोते वक्त भरभराकर ऊपर गिरा तीन मंजिला मकान, 5 की मौत, 6 बुरी तरह जख्मी

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios