Asianet News HindiAsianet News Hindi

धर्मांतरण का सिंडिकेट: आखिर पकड़ा गया मौलाना कलीम; UK से मिली 57 Cr की फंडिंग, कई बड़े नाम भी शामिल

अवैध धर्मांतरण मामले में यूपी एटीएस (ATS) ने मौलाना कलीम सिद्दीकी (maulana kaleem siddiqui) को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसको मुजफ्फरनगर के फुलत से हिरासत में लिया है। बता दें कि मौलाना पर अवैध तरीके से धर्मांतरण और विदेश से इसके लिए फंडिंग लेने का आरोप हैं। 

Uttar Pradesh maulana kaleem arrested by ATS in charge of illegal religion conversion in Muzaffarnagar
Author
Muzaffarnagar, First Published Sep 22, 2021, 2:19 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश), अवैध धर्मांतरण मामले में यूपी एटीएस (ATS) ने मौलाना कलीम सिद्दीकी (maulana kaleem siddiqui) को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसको मुजफ्फरनगर के फुलत से हिरासत में लिया है। बता दें कि मौलाना पर अवैध तरीके से धर्मांतरण और विदेश से इसके लिए फंडिंग लेने का आरोप हैं। 

कई संस्थाओं का डायरेक्टर है मौलाना
दरअसल, 62 साल का मौलाना कलीम सिद्दीकी ग्लोबल पीस सेंटर और जमीयत-ए-वलीउल्लाह का अध्यक्ष है। फुलत के मदरसा जामिया इमाम वलीउल्लाह इस्लामिया का डायरेक्टर भी है। उसकी पहचान इस्लामिक विद्वानों में होती है। लेकिन वह इनकी आड़ में  अवैध धर्मांतरण का काम करता है।

मुफ्ती काजी और उमर गौतम से मौलाना के लिंक
बता दें कि मौलाना कलीम को एटीएस द्वारा भंडाफोड़ करने वाले भारत के सबसे बड़े धर्मांतरण सिंडिकेट के सिलसिले में गिरफ्तार किया है। इससे पहले जून के महीन में मुफ्ती काजी और उमर गौतम की गिरफ्तारी हो चुकी है। दोनों से कलीम सिद्दीकी के लिंक मिले हैं। 

Uttar Pradesh maulana kaleem arrested by ATS in charge of illegal religion conversion in Muzaffarnagar

अवैध धर्मांतरण के कामों में लिप्त है मौलाना
इस मामले में जांच कर रहे यूपी एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि मौलाना कलीम सिद्दिकी अवैध धर्मांतरण के कार्य में लिप्त है और विभिन्न प्रकार की शौक्षणिक, सामाजिक, धार्मिक संस्थाओं की आड़ में यह देशव्यापी स्तर पर किया जा रहा है, जिसके लिए विदेशों से भारी फंडिंग प्राप्त की जा रही है। एडीजी ने बतााय कि जांच से पता चलता है कि मौलाना कलीम सिद्दीकी के ट्रस्ट को बहरीन से 1.5 करोड़ रुपए सहित विदेशी फंडिंग में 3 करोड़ रुपये मिले। इस मामले की जांच के लिए एटीएस की छह टीमों का गठन किया गया है।

'ब्रिटिश संस्था से 57 करोड़ की फंडिंग'
एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि 20 जून को अवैध धर्मांतरण गिरोह संचालित करने वाले लोग गिरफ्तार किए गए। उमर गौतम और इसके साथियों को ब्रिटिश आधारित संस्था से लगभग 57 करोड़ रुपये की फंडिंग की गई थी। जिसके खर्च का ब्योरा अभियुक्त नहीं दे पाए। इस मामले में 10 लोग गिरफ्तार हुए थे जिसमें से 6 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की जा चुकी है, वहीं 4 के खिलाफ जांच चल रही है।

आप विधायक ने मौलाना की गिरफ्तारी पर जताया विरोध
वहीं मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ्तारी पर आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान ने विरोध जताया है। साथ ही सोशल मीडिया पर लिखा है कि यह सब बीजेपी के आदेश पर हो रहा है। चुनाव जीतने के इरादे ही मौलाना को हिरासत में लिया गया है। मुसलमानों पर अत्याचार बढ़ता जा रहा है। सेक्युलर पार्टियों की खामोशी सत्ताधारी पार्टी भाजपा को और मजबूत कर रही हैं। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios