Asianet News HindiAsianet News Hindi

बनारस को और बेहतर बनाने की शुरू हुई कवायद, पब्लिक खुद तय करेगी विकास की रूपरेखा

यूपी की विश्वनाथ नगरी काशी को और बेहतर बनाने की कवायद तेज से शुरू हो गई है। पब्लिक खुद विकास की रूपरेखा तैयार करेगी। इसके लिए सरकार के द्वार कई कदम उठाए जा रहे जिससे लोगों का जीवन सरल और गुणवत्तापूर्ण हो।

Varanasi exercise started to improve public itself will decide framework of development
Author
First Published Nov 25, 2022, 12:31 PM IST

अनुज तिवारी
वाराणसी:
उत्तर प्रदेश के जिले वाराणसी को और बेहतर बनाने की कवायद शुरू हो गई है। इसके लिए अपने शहर के विकास की रूपरेखा वाराणसी के लोग खुद तय करेंगे। काशी वासियों को अपने शहर में कैसी सुविधाएं चाहिए वे खुद बताएंगे। इसके लिए सरकार जनता से फीडबैक मांग रही है। ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स के लिए मिनिस्ट्री ऑफ़ हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स की ओर से सिटीजन परसेप्शन सर्वे कराया जा रहा है। इसमे आपको अपने शहर में कौन-कौन सी सुविधाओं की आवश्यकता है, ये बताना होगा। इससे बनारसियों के जीवन स्तर में सुधार हो सकेगा। नागरिक धारणा सर्वेक्षण सिटीजन परसेप्शन सर्वे (सीपीएस) ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स का ही हिस्सा है।  

पूर्वांचल के विकास के कामों से बदल रही लोगों की जिंदगी
मोदी-योगी की डबल इंजन सरकार पूर्वांचल में विकास के कामों से लोगो की जिंदगी में बदलाव ला रही है। उत्तर प्रदेश में 2017 से योगी सरकार के आने के बाद से प्रदेश के हर क्षेत्र में विकास की रफ़्तार तेज हो गई है। सरकार मिनिस्ट्री ऑफ़ हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स की और से काशी की जनता से जानना चाहती है कि उसे अपने जीवन की गुणवत्ता और शहरी विकास के विभिन्न पहलुओं के लिए किन-किन चीजों की आवश्यकता है। सर्वे में वाराणसी की अनुमानित जनसंख्या का 1 प्रतिशत यानी करीब 20 हज़ार नागरिक शामिल होंगे। 

इस साइट पर नागरिक दे सकते हैं अपनी राय
शहर के नागरिक https://eol2022.org पर भाग लेकर अपनी राय दे सकते हैं। इसके लिए स्मार्ट सिटी शहर में स्थानीय बोलचाल की भाषा में होर्डिंग लगाएगा, जिसपर लगे क्यूआर कोड को स्कैन करके भी सर्वे में भाग लिया जा सकता है। बशर्ते आप वाराणसी में पिछले 6 महीने से रह रहे हों। सर्वे 20 दिसंबर 2022 तक चलेगा। 

20 हजार लोगों की नब्ज टटोल कर तय होगी विकास रेखा
सरकार 20 हजार लोगों की नब्ज टटोल कर शहर की पूरी जनसंख्या का मिजाज का पता करके आगे की विकास की रुपरेखा तय करेगी। इससे आम लोगों का जीवन सरल और गुणवत्तापूर्ण होगा। सर्वे में शिक्षा, मनोरंजन, यातायात, बिजली, प्रदूषण, स्वच्छता, चिकित्सा, रोजगार के अवसर पेयजल आदि से सम्बंधित प्रश्न होंगे। मौजूदा सुविधाओं से सम्बन्धित प्रश्नों को 1 से 5 तक के अंकों को देकर मूल्यांकन करना है। एक विकल्प ''कोई राय नहीं'' का भी है। इसके अलावा अन्य प्रश्न भी हैं।

शाकाहारी खाने का आर्डर देने के बाद मिला मांसाहारी, शिकायत की तो मैनेजर समेत युवकों ने ग्राहक को दौड़ाकर पीटा

हाथ-पैर बांध मुंह में ठूंसा कपड़ा, फिर अंगौछे से घोंटा गला, 13 साल की किशोरी की हत्या के पीछे जताई ऐसी आशंका

शाहजहांपुर: सास-ससुर को नींद की दवा देकर किया बेहोश, फिर लाखों के जेवर व कैश लेकर प्रेमी संग फरार हुई विवाहिता

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios