कैलिफोर्निया। बहुत से लोग भी आज भूत-प्रेतों और आत्मा पर यकीन नहीं करते। उनका कहना है कि ये सब अंधविश्वास है, लेकिन फिर भी कुछ ऐसी घटनाएं होती हैं कि नहीं चाहते हुए भी लोगों को आत्माओं के अस्तित्व पर भरोसा करना पड़ता है। कहा जाता है कि कुछ आत्माएं अच्छी होती हैं जो किसी को परेशान नही करती हैं, वहीं कुछ आत्माएं इतनी दुष्ट और खूंखार किस्म की होती हैं कि उनके साए में जो आता है, उसकी मौत हो जाती है। यहां हम बताने जा रहे हैं अमेरिका के सबसे भुतहा मकान के बारे में, जिसे वैले हाउस के नाम से जाना जाता है। कैलिफोर्निया के सैन डियागो के बाहरी हिस्से में बने इस मकान को अब अमेरिकी सरकार ने एक म्यूजियम का रूप दे दिया है। 

कब बना था यह हाउस
सैन डियागो के बाहरी हिस्से में थॉमस वैले नाम के एक धनी व्यवसायी ने साल 1875 में इस मकान को बनवाया था। इस मकान में हर तरह की आधुनिक सुख-सुविधा मौजूद थी। यहां थॉमस वैले अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ रहने लगे। लेकिन यहां रहने के कुछ समय के बाद ही उनके डेढ़ साल के सबसे छोटे बच्चे की बुखार लगने के बाद मौत हो गई। इसके बाद उनकी पत्नी दो बच्चियों की मां बनीं, लेकिन उनकी भी मौत हो गई। यही नहीं, उनके दोनों बेटों की भी मौत हो गई। इन मौतों की कोई वजह सामने नहीं आई। इससे थॉमस वैले बहुत घबरा गए। 

बुरी आत्माओं का बसेरा था वहां
कहा जाता है कि जब थॉमस वैले उस घर को बनवा रहे थे, तभी वहां किसी शख्स ने फांसी लगा कर जान दे दी थी। लोग कहते थे कि उसी की आत्मा उस घर के आसपास घूमती थी। लोगों का कहना था कि जहां वैले ने घर बनवाया था, वह जगह पहले भी डरावनी मानी जाती थी और लोग वहां जाने से बचते थे। उन्होंने वैले को वहां घर बनाने से मना भी किया था, लेकिन वे नहीं माने।

वैले की पत्नी की भी हो गई मौत
धीरे-धीरे वैले के सभी बच्चों की मौत उस घर में हो गई। इससे वैले बहुत परेशान हो गए और वे डिप्रेशन में चले गए। उनकी पत्नी भी बहुत दुखी रहने लगीं। आखिर उन्होंने उस घर को छोड़ने का निर्णय लिया, लेकिन एक दिन अचानक उनकी पत्नी की भी मौत हो गई। उनकी पत्नी ठीकठाक थीं और उन्हें कोई बीमारी नहीं थी। इसके बाद वैले ने उस मकान को छोड़ दिया और कैलिफोर्निया शहर में जाकर रहने लगे। मकान उन्होंने अपने रिश्तेदारों को दे दिया।

1961 तक होती रहीं उस घर में मौतें
वैले के कुछ रिश्तेदारों को आत्माओं और भूत-प्रेतों पर यकीन नहीं था। वे वहां आकर रहने लगे। लेकिन उनके परिवारों में भी मौतों का सिलसिला रुका नहीं। वैले के रिश्तेदार साल 1961 तक उस मकान में रहे और इस बीच ना जाने कितने लोग वहां मौत के शिकार हो गए। इसके बाद लोगों ने उस घर को खाली कर दिया।

घोस्ट हंटर्स की टीम ने भी घर की जांच की
इस मोस्ट हॉन्टेड घर की जांच घोस्ट हंटर्स की टीम ने भी की। इस टीम के एक मेंबर ने जांच करने के बताया कि जब वह उस घर में रात के 1 बजे गया तो उसे लगा कि कोई महिला अंदर के कमरे में जा रही है और उसने अपने हाथों में कुछ ले रखा है। जब उस पर टॉर्च की रोशनी डाली गई तो वह अचानक गायब हो गई। टीम को एक कमरे में कुछ लोग भी बैठे दिखे। यही नहीं, घोस्ट हंटर्स को एक कमरे में वैले के परिवार के वे सदस्य दिखे जिनकी मौत हो चुकी थी। इसके बाद साबित हो गया कि उस घर में आत्माओं का बसेरा है। 

सरकार ने बना दिया म्यूजियम
कुछ समय के बाद कैलिफोर्निया के प्रशासन ने उस घर को म्यूजियम में बदल दिया। अब काफी लोग इस भुतहा मकान को देखने आते हैं, पर दिन में वहां कुछ भी नहीं दिखता। रात के समय म्यूजियम बंद हो जाता है। रात के समय म्यूजियम के पास से गुजरने वाले लोग कहते हैं कि वहां से उन्हें अजीब आवाजें सुनाई पड़ती हैं। कई बार रोने की तो कई बार चीखने की आवाजें म्यूजियम में बदल दिए गए उस घर से आती हैं।