(पहला फोटो जॉर्ज के न्याय दिलाने देशभर में प्रदर्शन हुए थे, दूसरी तस्वीर घटनावाले दिन की है)

मिनेपोलिस, अमेरिका. 40 वर्षीय अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के आरोप में एक पुलिस अफसर को कोर्ट ने दोषी करार दे दिया है। इस केस में अफसर को 40 साल तक की सजा हो सकती है। सजा का ऐलान अगले दो महीने के अंदर हो जाएगा। बता दें कि अमेरिका के इतिहास में फ्लॉयड की हत्या का मामला बेहद चौंकाने वाला रहा था। उसे एक धोखाधड़ी के मामले में पुलिस ने पकड़ा था। लेकिन एक पुलिस अफसर ने पकड़ने के दौरान उसकी गर्दन अपने घुटने से दबा दी थी। इससे उसकी मौत हो गई थी। इस मामले में अमेरिका में हिंसा भड़क उठी थी। पुलिस अफसर डेरेक चॉविन पर आरोप है कि उसने अपनी पुलिस की ताकत दिखाने फ्लॉयड की गर्दन 9 मिनट 29 सेकंड तक अपने घुटने से दबाए रखी। इससे दम घुटने से उसकी मौत हो गई।

वीडियो वायरल होने पर अमेरिका सुलग उठा था
घटना 25 मई, 2020 को मिनेपोलिस में हुई थी। पुलिस ने धोखाधड़ी के आरोप में जॉर्ज को पकड़ा था। इस बीच जॉर्ज और पुलिस अफसर के बीच झूमाझटकी हुई, तो पुलिस अफसर डेरेक चॉविन ने जॉर्ज को सड़क पर ही पटक दिया। फिर अपने घुटने से उसकी गर्दन को दबाए रखा। चूंकि जॉर्ज को हथकड़ी लगी हुई थीं, इसलिए वो सिर्फ गर्दन छुड़ाने छटपटाता रहा। इस घटना का वीडियो वायरल होने पर अमेरिका में हिंसा भड़क उठी थी। इस मामले को रंगभेद का नाम दे दिया गया था। वीडिया में जॉर्ज कहते सुना गया कि 'आपका घुटना मेरे गर्दन पर है। मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं।’ कुछ देर बाद अफसर उससे कहते दिखा कि उठो और कार में बैठो। लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। घटना के वक्त वहां काफी भीड़ थी।

(जॉर्ज को लेकर अमेरिका में इस तरह का माहौल हो गया था, दूसरे चित्र में जॉर्ज को दफनाने ले जाते हुए)

10 घंटे चली सुनवाई
फैसले से पहले कोर्ट में 10 घंटे सुनवाई चली। 6 श्वेत, 6 अश्वेत और एक मल्टीरेशियल(अन्य जातीय)  जज की ज्यूरी ने अपना फैसला सुनाया। सजा सुनाते ही चॉविन की जमानत रद्द कर दी गई। उसे हथकड़ी लगाकर जेल भेज दिया गया। फ्लॉयड के छोटे भाई फिलोनाइस ने फैसले पर कहा कि अब वो दुबारा सांस ले पा रहा है।