Asianet News HindiAsianet News Hindi

अंतरिक्ष में चाइना का सबसे लंबा क्रू मिशन; 6 महीने स्पेस स्टेशन पर रहेंगे 3 एस्ट्रोनॉट

चीन का अब तक सबसे लंबा क्रू मिशन सफलतापूर्वक लॉन्च हो गया है। उसके तीन एस्ट्रोनॉट (Chinese Astronaut) शनिवार को चीन के स्पेस सेंटर पर पहुंच गए। वे वहां 6 महीने रहेंगे।

China space mission, three astronauts reached Tiangong space station
Author
Beijing, First Published Oct 16, 2021, 10:13 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बीजिंग. चीन ने अंतरिक्ष में अपनी सबसे बड़ी छलांग मारी है। चीन का अब तक सबसे लंबा क्रू मिशन सफलतापूर्वक लॉन्च हो गया है। उसके तीन एस्ट्रोनॉट (Chinese Astronaut) शनिवार को चीन के स्पेस सेंटर(Chinese Space Station) पर पहुंच गए। वे वहां 6 महीने रहेंगे। इस मिशन की सफलता के बाद चीन निश्चय ही अंतरिक्ष शक्त बनने की दिशा में एक कदम आगे बढ़ जाएगा। तीनों एस्ट्रोनॉट ने उत्तर-पश्चिमी चीन के गोबी रेगिस्तान (Gobi desert) में जिउक्वान लॉन्च सेंटर से आधी रात को स्पेस के लिए उड़ान भरी थी। वे शनिवार को तियांगोंग स्पेस स्टेशन (Tiangong space station) पहुंच गए।

यह भी पढ़ें-Dubai Expo 2020: किसी अजूबी दुनिया जैसा फील कर रहे बच्चे; जब Welcome करता है ऑप्टी रोबोट

सबकुछ ठीक है
चीन की स्पेस एजेंसी ने लॉन्चिंग को सफल बताते हुए घोषणा की। बताया गया कि स्पेस सेंटर में तीनों एस्ट्रोनॉट अच्छी हालत में पहुंच गए हैं। बता दें कि इन तीनों एस्ट्रोनोट्स को शेनझोउ-13 स्पेसक्राफ्ट (Shenzhou-13 Spacecraft) स्पेस में लेकर गया। इसे पूरा करने में करीब 7 घंटे का समय लगा। चीन मंगल ग्रह (Mars) पर रोवर लैंड करा चुका है। चीन के स्पेस सेंटर तियांगोंग का अर्थ ‘स्वर्गीय महल’ होता है। यह स्पेस स्टेशन करीब 10 साल तक काम कर सकता है। इसका मुख्य मॉड्यूल इस साल की शुरुआत में ऑर्बिट में प्रवेश कर गया था। इस स्टेशन के 2022 तक चालू होने की उम्मीद है। यह पूरा स्टेशन सोवियत मीर स्टेशन (Soviet Mir station) जैसा ही है, जिसने 1980 से 2001 तक पृथ्वी की परिक्रमा की थी।

यह भी पढ़ें-छह साल की भारतवंशी बिटिया ने सबको किया हैरान, ब्रिटेन की प्रतिष्ठित लाइट पुरस्कार से सम्मानित

भविष्य में टेक्नोलॉजी बदल जाएगी
माना जा रहा है कि अगर सबकुछ ठीक रहा, तियांगोंग स्पेस स्टेशन में भविष्य के हिसाब से टेक्नोलॉजी का विस्तार संभव हो जाएगा। मिशन कमांडर 55 वर्षीय झाई झिगांग (Zhai Zhigang) के मुताबिक, उनकी टीम पिछले मिशनों की तुलना में अधिक जटिल स्पेसवॉक करेगी। बता दें कि झाई 2008 में चीन के पहले स्पेसवॉक करने वाले एस्ट्रोनोट हैं।

यह भी पढ़ें-Tension में PAK: आर्मी चीफ को नहीं जंच रहे इमरान, ऊपर से 10वां सबसे बड़ा कर्जदार हुआ मुल्क

इस मिशन के क्रू मेंबर्स में 41 वर्षीय सैन्य पायलट वांग यापिंग (Wang Yaping) भी शामिल हैं। ये 2013 में स्पेस में जाने वाली दूसरी महिला बनी थीं। जबकि अब स्पेस स्टेशन पर पहुंचने वाली पहली महिला हैं। टीम के तीसरे सदस्य 41 वर्षीय पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के पायलट ये गुआंगफू (Ye Guangfu) हैं। चीनी स्पेस एजेंसी ने स्पेस सेंटर की कुछ तस्वीरें भी रिलीज की हैं।

pic.twitter.com/gHLhFFcIDB

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios