Asianet News HindiAsianet News Hindi

छह साल की भारतवंशी बिटिया ने सबको किया हैरान, ब्रिटेन की प्रतिष्ठित लाइट पुरस्कार से सम्मानित

ब्रिटेन में इस पुरस्कार को 2014 में शुरू किया गया था। इसका उद्देश्य उन लोगों को स्वीकार करने के लिए शुरू किया गया था जो अपने समुदायों में बदलाव ला रहे हैं।

Indian origin little girl Aleesha Gadhia got British PM Boris Johnson Daily point of light award
Author
Kabul, First Published Oct 8, 2021, 6:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लंदन। भारतवंशी विदेशों में भी देशवासियों को गौरवान्वित कर रहे हैं। भारतीय मूल की छह साल की अलीशा गढ़िया (Aleesha Gadhia) ने पर्यावरण मुद्दे पर जागरूकता के लिए ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन का डेली प्वाइंट ऑफ लाइट पुरस्कार (British PM Boris Johnson's daily point of light award) जीता है। अलीशा ब्रिटिश पीएम पॉइंट्स ऑफ़ लाइट अवार्ड प्राप्त करने वाली 1,755 वीं व्यक्ति बन गईं।

गुरुवार को अलीशा गढ़िया को वनों की कटाई और जलवायु परिवर्तन पर जागरूकता बढ़ाने के उनके निरंतर प्रयासों के लिए यह पुरस्कार मिला।

2014 में खास उद्देश्य से हुई थी पुरस्कार की शुरूआत

ब्रिटेन में इस पुरस्कार को 2014 में शुरू किया गया था। इसका उद्देश्य उन लोगों को स्वीकार करने के लिए शुरू किया गया था जो अपने समुदायों में बदलाव ला रहे हैं।

कूल अर्थ की मिनी राजदूत है अलीशा

अलीशा नन्हीं जलवायु कार्यकर्ता है। वह यूनाइटेड किंगडम (UK) के एनजीओ कूल अर्थ (Cool Earth) की मिनी-राजदूत भी है। वह वनों की कटाई को रोकने के लिए वर्षावन समुदायों के साथ काम करती है और व्यवसायों से अधिक टिकाऊ प्रथाओं को विकसित करने का आग्रह करती है। अलीशा ने कूल अर्थ के लिए 3,000 जीबीपी से अधिक राशि जुटाई है।

अलीशा ने वनीकरण और कूड़ा उठाने जैसी गतिविधियों के साथ दूसरों को पर्यावरण की देखभाल करने के लिए प्रोत्साहित करने के प्रयास में अपने स्कूल में एक जलवायु परिवर्तन क्लब भी शुरू किया है। इसके अलावा, अलीशा ने यूके की कुछ सबसे बड़ी कंपनियों और प्रभावशाली व्यक्तियों को सैकड़ों पत्र और ईमेल भेजकर जलवायु कार्रवाई करने के लिए लगातार प्रोत्साहित किया है।

महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का भी समर्थन मिला था

2021 की शुरुआत में, अलीशा ने 'जस्ट गिविंग' ऑनलाइन फ़ंडरेज़र पेज का आयोजन किया। इसमें अपने 80-किमी स्कूटर चैलेंज के साथ कूल अर्थ के लिए GBP 3,400 जुटाए। इस चुनौती को महारानी एलिजाबेथ द्वितीय और पर्यावरणविद् सर डेविड एटनबरो का समर्थन प्राप्त हुआ था।

माता-पिता को नन्हीं बिटिया पर गर्व

अलीशा के माता-पिता किरण और पूजा गढ़िया ने कहा कि उन्हें उस पर बहुत गर्व है। उन्होंने कहा कि वह सभी के लिए प्रेरणा बन गई हैं और गढ़िया से उनके महान काम को जारी रखने की कामना की। वहीं, अलीशा ने कहा कि जलवायु परिवर्तन वास्तव में एक महत्वपूर्ण मुद्दा है और उसे उम्मीद है कि जागरूकता बढ़ाने से इस समस्या का समाधान होगा।

यह भी पढ़ें:

एयर इंडिया की घरवापसी: टाटा संस ने 18 हजार करोड़ की बोली लगाकर भारत की सबसे बड़ी एयरलाइन्स को खरीदा

चीन ताकत के घमंड में दिखा रहा था आंख, अमेरिका इस देश को सैन्य ताकत और हथियारों से करने लगा मजबूत

पर्यटन उद्योग होगा फिर गुलजार: विदेशी सैनालियों को भारत भ्रमण की अनुमति, 15 अक्टूबर से जारी होगा टूरिस्ट वीजा

जम्मू-कश्मीर: जो पीढ़ियों से इस बगिया को संजोते रहे, उनके खून से ही जन्नत हुआ लहूलुहान, बूढ़ी मां का विलाप रूह चीर देने वाला

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios