Asianet News HindiAsianet News Hindi

Indonesia में Mount Semeru ज्वालामुखी विस्फोट: 11 गांवों में मची तबाही, कम से कम 13 की मौत

पूर्वी जावा प्रांत के लुमाजांग जिले (Lumajang district) के कम से कम 11 गांवों को ज्वालामुखी के लावा ने तबाह कर दिया है। गांव के गांव, घर और वाहन ज्वालामुखी से निकलने वाली लावा व राख से ढक गए हैं। न जाने कितने पशु इस सैलाब के नीचे आ चुके हैं। 

Indonesia Mount Semeru biggest Volcanic eruption, 11 villages covered with volcanic lawa and ashes, Know all about, DVG
Author
Lumajang, First Published Dec 5, 2021, 2:35 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लुमाजांग। इंडोनेशिया (Indonesia) के माउंट सेमेरू (Mount Semeru) में अचानक हुए ज्वालामुखी विस्फोट (Volcanic eruption) से कम से कम 13 लोगों की जान चली गई है। जावा (Java) के सबसे बड़े पर्वत के विस्फोट से हर ओर तबाही का मंजर है। शनिवार को हुए इस विस्फोट से हजारों लोग विस्थापित होने को मजबूर हो गए हैं और अस्थायी जगहों पर रह रहे। इंडोनेशिया की भूवैज्ञानिक एजेंसी ने कहा कि ज्वालामुखी से निकलने वाली राख ज्वालामुखी से चार किलोमीटर तक चली गई है और जावा द्वीप के दक्षिणी भाग में हिंद महासागर (Pacific ocean) तक पहुंच गई। जबकि ऑस्ट्रेलिया के ज्वालामुखी राख सलाहकार केंद्र, जो विमानन उद्योग को सलाह प्रदान करता है, ने कहा कि रविवार को राख सेमेरु के आसपास फैल गई थी।

ज्वालामुखी विस्फोट से 11 गांव प्रभावित

पूर्वी जावा प्रांत के लुमाजांग जिले (Lumajang district) के कम से कम 11 गांवों को ज्वालामुखी के लावा ने तबाह कर दिया है। गांव के गांव, घर और वाहन ज्वालामुखी से निकलने वाली लावा व राख से ढक गए हैं। न जाने कितने पशु इस सैलाब के नीचे आ चुके हैं। सैकड़ों लोग आसपास के मस्जिदों, स्कूलों और अन्य गांवों के हॉल में शरण लिए हुए हैं।

मौतों की संख्या 13 तक पहुंच चुकी है, बचाव कार्य जारी

राष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण एजेंसी (बीएनपीबी) के प्रवक्ता अब्दुल मुहरी ने बताया कि मृतकों की संख्या अब 13 हो गई है। बचावकर्मियों को और शव मिले हैं। उन्होंने बाद में एक बयान में कहा कि पीड़ितों में से दो की पहचान कर ली गई है। बीएनपीबी ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि विस्फोट में कम से कम 57 लोग घायल हो गए, जिनमें से 41 जल गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जबकि लुमाजंग में आसपास के इलाकों से 10 फंसे हुए लोगों को बचाया गया है। स्थानीय प्रसारक कोम्पास टीवी ने बताया कि बचाए गए लोग रेत खनन स्थल पर स्थानीय श्रमिक थे। इंडोनेशिया के मेट्रो टीवी ने बताया कि गर्म राख के बादलों के कारण रविवार को निकासी को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया था।
देश के शीर्ष ज्वालामुखी विज्ञानी सुरोनो ने स्टेशन को बताया कि भारी बारिश के कारण राख के तलछट से गर्म लावा की एक नई नदी बनने का भी खतरा है।

बचाव कार्य जारी है, यात्रा पर प्रतिबंध

मुहरी ने कहा कि बचाव दल मलबा हटाने और सड़कों को साफ करने के लिए भारी लोडर का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों को सेमेरू के गड्ढे के पांच किलोमीटर (3.1 मील) के भीतर यात्रा नहीं करने की सलाह दी गई है। इसके आसपास की हवा अत्यधिक प्रदूषित है और कमजोर समूहों को प्रभावित कर सकती है।

स्थानीय आपदा एजेंसी के प्रमुख इंद्र विबोवो ने बताया कि अभी के लिए, हम लोगों से नहीं रहने का आग्रह करते हैं क्योंकि ज्वालामुखी की राख अभी भी अपेक्षाकृत गर्म है।अधिकारियों ने भोजन, तिरपाल, फेस मास्क और बॉडी बैग सहित आश्रयों को सहायता भेजी है।

रिंग ऑफ फायर पर बैठता है इंडोनेशिया

इंडोनेशिया पैसिफिक रिंग ऑफ फायर पर बैठता है, जहां महाद्वीपीय प्लेटों के मिलने से उच्च ज्वालामुखी और भूकंपीय गतिविधि होती है। दक्षिण पूर्व एशियाई द्वीपसमूह राष्ट्र में लगभग 130 सक्रिय ज्वालामुखी हैं। 2018 के अंत में, जावा और सुमात्रा द्वीपों के बीच जलडमरूमध्य में एक ज्वालामुखी फट गया, जिससे पानी के नीचे भूस्खलन और सुनामी हुई, जिसमें 400 से अधिक लोग मारे गए।

Read this also:

महबूबा का मोदी पर तंज: अटल जी ने राजधर्म निभा Jammu-Kashmir को संभाला, अब नेता गोडसे का कश्मीर बना रहे

दो महाशक्तियों में बढ़ा तनाव: US और Russia ने एक दूसरे के डिप्लोमेट्स को किया वापस          

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios