Asianet News HindiAsianet News Hindi

ब्रिटिश King Charles III पहले भाषण में मां को याद कर हुए भावुक, बोले-मेरा जीवन निश्चित ही बदल जाएगा लेकिन...

महारानी एलिजाबेथ की मृत्यु के बाद उनके बेटे चार्ल्स को नया सम्राट बनाया गया है। बकिंघम पैलेस ने कहा कि शनिवार सुबह किंग चार्ल्स III को आधिकारिक तौर पर ब्रिटेन के नए सम्राट के रूप में घोषित किया जाएगा।

King Charles III first address to nation, will officially succeed as new monarch on 10th september, Queen Elizabeth II funeral on 19th september, DVG
Author
First Published Sep 9, 2022, 10:34 PM IST

King Charles III first address: ब्रिटेन का राजा नामित होने के बाद किंग चार्ल्स III ने शुक्रवार को शोकाकुल राष्ट्र और राष्ट्रमंडल को पहली बार संबोधित किया। नए राजा चार्ल्स का यह संबोधन अपनी मां महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के मृत्यु के एक दिन बाद हुआ। ब्रिटेन में सबसे लंबे समय तक राज करने वाली महारानी एलिजाबेथ के निधन के बाद किंग चार्ल्स ने गद्दी संभाली है। शनिवार को किंग चार्ल्स III की अधिकारिक रूप से ताजपोशी होगी।

क्या कहा ब्रिटिश राजवंश के नए किंग ने?

किंग चार्ल्स III का संबोधन दोपहर के दौरान बकिंघम पैलेस में ब्लू ड्रॉइंग रूम में पहले ही रिकॉड किया गया था। यूके के टेलीविजन पर ब्रिटिश समयानुसार शाम छह बजे इसका प्रसारण किया गया। 

किंग चार्ल्स ने कहा...'मैं आज आपसे गहन दुख की भावनाओं के साथ बात करता हूं। अपने पूरे जीवन में, महारानी - मेरी प्यारी मां - मेरे और मेरे पूरे परिवार के लिए एक प्रेरणा और उदाहरण थीं। अपने प्यार, स्नेह, मार्गदर्शन, समझ और उदाहरण के लिए अपनी मां के ऋणी। महारानी एलिजाबेथ ने अपना जीवन अच्छी तरह से जीया है। आज उनके निधन पर नियति को भी शोक और गहरा दु:ख होगा। मैं एक बार फिर आप सभी से आजीवन सेवा का वह वादा दोहराना चाहता हूं और उस वादे को रिन्यू कर रहा हूं।

किंग चार्ल्स ने कहा कि व्यक्तिगत दुःख के साथ-साथ मेरा पूरा परिवार जो महसूस कर रहा है, वह दु:ख हम यूनाइटेड किंगडम में आप में से कई लोगों के साथ साझा कर रहे हैं। क्योंकि दुनिया और राष्ट्रमंडल के उन सभी देशों में जहां रानी राष्ट्र प्रमुख थीं, भी कृतज्ञता की गहरी भावना महसूस कर रहे हैं। 1947 में, अपने 21वें जन्मदिन पर, उन्होंने केप टाउन से कॉमनवेल्थ के प्रसारण में प्रतिज्ञा की थी कि चाहें उनका जीवन छोटा हो या लंबा, वह अपने लोगों की सेवा के लिए उस जीवन को समर्पित करेंगी। यह एक वादे से कहीं अधिक था: यह एक गहन व्यक्तिगत प्रतिबद्धता थी जिसने उनके पूरे जीवन को परिभाषित किया। उन्होंने कर्तव्य के लिए पूरे जीवन को समर्पित कर दिया। उनका समर्पण या डेडीकेशन कभी नहीं डगमगाया, चाहें वह परिवर्तन का समय हो या प्रगति का, आनंद या उत्सव का समय हो या दु:ख या हानि का। उनका सेवाकाल, परंपरा के प्रति प्रेम, हमें राष्ट्रों के रूप में महान बनाता है। उन्होंने जिस स्नेह, प्रशंसा और सम्मान को प्रेरित किया, वह उनके शासनकाल की पहचान बन गया। किंग ने कहा कि मेरे परिवार का हर सदस्य यह गवाही दे सकता है कि उन्होंने पूरे गर्मजोशी, प्रेम और लोगों में जोश भरने के साथ जोड़ने का काम किया। किंग चार्ल्स ने कहा कि मैं अपनी मां की स्मृति को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और उनके सेवा जीवन का सम्मान करता हूं। मुझे पता है कि उनकी मृत्यु आप में से कई लोगों के लिए बहुत दुखदायी है और मैं आप सभी के साथ उस नुकसान की भावना को साझा करता हूं।

जब महारानी सिंहासन पर बैठी तो दुनिया में उथलपुथल थी

किंग चार्ल्स ने कहा कि जब महारानी सिंहासन पर बैठी तब भी ब्रिटेन ही नहीं दुनिया कई तरह की कठिनाइयों का सामना कर रहे थे। हम द्वितीय विश्व युद्ध के बाद की कठिनाइयों का सामना कर रहे थे। आज भी 70 सालों के दौरान तमाम चीजों से सामना कर रहे हैं। राज्य के संस्थान बदल गए हैं। कई परिवर्तनों और चुनौतियों का सामना किया जा रहा है। हालांकि, प्रतिभा, परंपराओं और उपलब्धियों पर मुझे बहुत गर्व है। सबसे अहम यह कि हमारे मूल्य बने हुए हैं। यह स्थिर हैं। हमारे मूल्य बने और बचे रहने चाहिए। उन्होंने कहा कि राजशाही की भूमिका और कर्तव्य भी बने रहेंगे। इंग्लैंड के चर्च के प्रति जिम्मेदारी है। वह चर्च जिससे मेरा अपना विश्वास काफी गहरा है। हमारा कर्तव्य, हमारे अद्वितीय इतिहास और हमारी संसदीय प्रणाली की अनमोल परंपराओं, स्वतंत्रता व जिम्मेदारियों के सम्मान करने के प्रति भी है। जैसा की महारानी ने पूरे डेडीकेशन के साथ निभाया, मैं भी अब सत्यनिष्ठा से प्रतिज्ञा करता हूं कि मैं भी अपने कर्तव्यों व जिम्मेदारियों को महारानी के अपनाए रास्ते पर चलते हुए निभाउंगा। आप यूनाइटेड किंगडम में, या दुनिया भर के क्षेत्रों में कहीं भी रह रहे हैं, आपकी पृष्ठभूमि या विश्वास जो भी हो, मैं आपका जीवन भर वफादारी, सम्मान और प्यार के साथ सेवा करने का प्रयास करूंगा।

निश्चित रूप से मेरा जीवन बदल जाएगा लेकिन नई जिम्मेदारी स्वीकार करता हूं

किंग चार्ल्स ने कहा कि मेरा जीवन निश्चित रूप से बदल जाएगा क्योंकि मैं अपनी नई जिम्मेदारियां लेता हूं। मेरे लिए अपना इतना समय, दान और अन्य मुद्दों के लिए देना संभव नहीं होगा जिसके लिए मैं बहुत गहराई से परवाह करता हूं। लेकिन मुझे पता है कि यह महत्वपूर्ण काम दूसरों के भरोसेमंद हाथों में चलेगा। उन्होंने कहा कि यह मेरे परिवार के लिए भी बदलाव का समय है। मैं अपनी प्यारी पत्नी कैमिला की प्यार भरी मदद पर भरोसा करता हूं। 17 साल पहले हमारी शादी के बाद से अपनी खुद की वफादार सार्वजनिक सेवा की मान्यता में वह मेरी रानी कंसोर्ट बन गई। मुझे पता है कि वह अपनी नई भूमिका में कर्तव्य के प्रति दृढ़ निष्ठा लाएगी, जिस पर मैं इतना भरोसा करता आया हूं। मेरे उत्तराधिकारी के रूप में, विलियम अब स्कॉटिश खिताब ग्रहण करता है जो मेरे लिए बहुत मायने रखता है। वह ड्यूक ऑफ कॉर्नवाल के रूप में मेरा उत्तराधिकारी होगा। आज मुझे उन्हें प्रिंस ऑफ वेल्स की उपाधि देने में भी गर्व हो रहा है। मैं भी हैरी और मेघन के लिए अपने प्यार का इजहार करना चाहता हूं क्योंकि वे विदेशों में अपना जीवन जारी रखना चाहते हैं। एक हफ्ते से कुछ अधिक समय में हम एक राष्ट्र के रूप में, एक राष्ट्रमंडल के रूप में और वास्तव में एक वैश्विक समुदाय के रूप में मेरी प्यारी मां की शांति के लिए एक साथ आएंगे। मेरे पूरे परिवार की ओर से, मैं आपकी संवेदना और समर्थन के लिए केवल सबसे ईमानदार और हार्दिक धन्यवाद दे सकता हूं। आपकी संवेदना और समर्थन, मेरे लिए उससे कहीं अधिक मायने रखते हैं जितना मैं कभी व्यक्त कर सकता हूं।

किंग चार्ल्स ने अपनी मां को याद करते हुए कहा कि मेरी प्यारी मां, मेरे प्यारे स्वर्गीय पिताजी से जुड़ने के लिए अपनी अंतिम महान यात्रा शुरू कर दी हैं। उनको मैं बस यह कहना चाहता हूं: धन्यवाद। हमारे परिवार और राष्ट्रों के परिवार के प्रति आपके प्रेम और समर्पण के लिए धन्यवाद, आपने इतने वर्षों तक इतनी लगन से सेवा की है। 

यह भी पढ़ें:

किंग चार्ल्स III को अब पासपोर्ट-लाइसेंस की कोई जरुरत नहीं, रॉयल फैमिली हेड कैसे करता है विदेश यात्रा?

Queen Elizabeth II की मुकुट पर जड़ा ऐतिहासिक कोहिनूर हीरा अब किसके सिर सजेगा? जानिए भारत से क्या है संबंध?

कौन हैं प्रिंस चार्ल्स जो Queen Elizabeth II के निधन के बाद बनें किंग?

Queen Elizabeth का निधन, 96 साल की उम्र में ली बाल्मोरल कासल में अंतिम सांस

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios