Asianet News HindiAsianet News Hindi

Danger Zone में पाकिस्तान: TLP के हिंसक आंदोलन से डरी इमरान सरकार, देने लगे अल्लाह की दुहाई; ये बोले मंत्री

पाकिस्तान में फ्रांस के राजदूत को हटाने की मांग को लेकर हिंसक आंदोलन कर रहे तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान(TLP) को लेकर इमरान खान सरकार टेंशन में आ गई है। सरकार के एक मंत्री ने इसे एक साजिश करार दिया है।
 

Pakistan political crisis, TLP violent protest causes tension for Imran Khan government
Author
Islamabad, First Published Oct 29, 2021, 9:48 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री शेख रशीद (Interior Minister Sheikh Rashid Ahmed) ने गुरुवार को TLP से आग्रह किया कि वो सरकार के साथ किए गए अपने वादे को पूरा करे। अगर उसने ऐसा नहीं किया, तो चीजें उनके हाथ से बाहर निकल जाएंगी। मंत्री ने जियो न्यूज(Geo News) के एक कार्यक्रम 'आज शाहजेब खानजादा के साथ(Aaj Shahzeb Khanzada Kay Saath)' में TLP के मुद्दे पर खुलकर बात की। बता दें कि पैगम्बर की बेअदबी के मामले में फ्रांस के एम्बेसडर(French ambassador) को देश से बाहर निकालने सहित 4 मांगों को लेकर TLP ने राजधानी इस्लामाबाद से कुछ किमी दूर हिंसक प्रदर्शन शुरू कर दिया है। 

यह भी पढ़ें-पाकिस्तान में TLP की खूनी Politics; पर भारत का इससे क्या लेना-देना, क्यों बौखला रहे इमरान, पढ़ें पूरी कहानी

इस्लामाबाद में नहीं घुसने दिया जाएगा
मंत्री ने कहा कि सरकार TLP को इस्लामाद में घुसने से रोकेगी। शेख ने यह भी कहा कि प्रदर्शनकारी वापस लौट जाएं, क्योंकि राज्य के पास अब अपना अधिकारwrit (न्‍यायालय द्वारा जारी वैधानिक आदेश) बचाए रखने के अलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं बचा है। मंत्री ने कहा कि आपका नुकसान, हमारा नुकसान है। सरकार हिंसा नहीं चाहती, लेकिन इमरान खान देश को बंधक भी नहीं बनने देंगे।

यह भी पढ़ें-और इस तरह 70 साल की उम्र में मुस्लिम से हिंदू बन गई इंडोनेशिया के पहले प्रेसिडेंट की बेटी, देखें कुछ Pics

इस्लाम की दुहाई
शेख ने कहा कि पाकिस्तान इस्लाम का केंद्र है। देश को नुकसान पहुंचाना किसी भी तरह से धर्म की सेवा नहीं करेगा। इमरान पहले PM हैं, जिन्होंने रहमतुल्लिल अलमीन प्राधिकरण(Rehmatullil Alameen Authority) का गठन किया है। वे देश को मदीना की तर्ज पर कल्याणकारी राज्य बनाने की दिशा में ले गए हैं। मंत्री ने कहा कि सरकार TLP के चीफ साद हुसैन रिजवी(Saad Hussain Rizvi) से  शुक्रवार और शनिवार (29 और 30 अक्टूबर) को फिर से बात करेगी। लेकिन यह बातचीत प्रदर्शनकारियों के वापस लौटने के बाद ही होगी। मंत्री ने कहा कि वे TLP को अपने वादे निभाने के लिए मनाने की कोशिश कर रहे थे, "लेकिन अगर आप (इस्लामाबाद की ओर) आगे बढ़ते रहे, तो आपको किसी एक बिंदु पर रोकना होगा। सरकार ने TLP की कई मांगों को स्वीकार कर लिया है, फिर भी वो लौटने को तैयार नहीं है।

यह भी पढ़ें-पाकिस्तान गृहयुद्ध की ओर: 20 हजार से अधिक कट्टरपंथी इस्लामाबाद की ओर बढ़े, रोकने के लिए कंटेनर्स लगाए गए

दुनियाभर में उड़ रहा सरकार का मजाक
शेख रशीद ने कहा कि दुनिया भर में सरकार का मज़ाक उड़ाया जा रहा है। मंत्री ने गुजारिश करते हुए कहा-'मैं उनसे (TLP) लौटने का अनुरोध करता हूं ...लेकिन अगर वे नहीं ऐसा नहीं करते हैं, तो अल्लाह जो चाहेगा।' मंत्री ने कहा कि सरकार TLP से समझौता करने को तैयार है। हालांकि उन्होंने चेतावनी भी दी कि अगर वो समझौते का पालन नहीं करते हैं, तो वे नहीं चाहते कि मामले और बिगड़ें। अगर ऐसा होता है, तो सड़क पर चलने वालों को नुकसान होगा।"

पाकिस्तान को अस्थिर करने की साजिशें
मंत्री ने कहा कि TLP को एक प्रतिबंधित समूह घोषित किया गया था, लेकिन उस पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया था। वे अपनी राजनीतिक भूमिका निभा सकते हैं, लेकिन अगर स्थिति खराब होती है, तो PM इमरान को फैसला लेना होगा। मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान को अस्थिर करने और हम पर प्रतिबंध लगाने की साजिशें चल रही हैं, लेकिन हमारे पास समझदारी होनी चाहिए। समस्याओं को शांति से हल निकाला जाना चाहिए।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios