पीएम शहबाज शरीफ के बेटे सुलेमान की गिरफ्तारी पर कोर्ट का स्टे, 4 साल से लंदन में रह रहा पाकिस्तान का भगोड़ा

| Dec 08 2022, 09:43 PM IST

पीएम शहबाज शरीफ के बेटे सुलेमान की गिरफ्तारी पर कोर्ट का स्टे, 4 साल से लंदन में रह रहा पाकिस्तान का भगोड़ा

सार

सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस आमेर फारूक ने कहा कि सुलेमान 13 दिसंबर तक कोर्ट में सरेंडर करें और तबतक फेडरल एजेंसी को उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दिया। सुलेमान के वकील ने बताया कि उनके मुवक्किल रविवार को सऊदी अरब होते हुए इस्लामाबाद लौट रहे हैं।

Pakistan PM son fugitive in Money laundering case: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के बेटे सुलेमान शहबाज की गिरफ्तारी पर शीर्ष अदालत ने रोक लगा दी है। पीएम के बेटे पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है। फेडरल इंन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी की गिरफ्तारी से बचने के लिए वह चार साल से लंदन में रह रहे थे। रविवार को वह देश लौटने वाले हैं। उनकी वापसी के दौरान गिरफ्तारी पर कोर्ट ने रोक लगा दिया है। मनी लॉन्ड्रिंग केस में जमानत पर सुनवाई करते हुए इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने सुलेमान को 13 दिसंबर तक सरेंडर करने को कहा है।

2018 से लंदन में हैं सुलेमान, पाकिस्तान ने घोषित किया था भगोड़ा

Subscribe to get breaking news alerts

सुलेमान शहबाज साल 2018 से परिवार के साथ लंदन में रह रहे हैं। उन पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है। एफआईए ने शहबाज शरीफ और उनके बेटों हमजा और सुलेमान के खिलाफ नवंबर 2020 में करप्शन और मनी लॉन्ड्रिंग के केस में मामला दर्ज किया था। सुलेमान के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया था। हालांकि, अदालत को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में एफआईए ने कहा था कि वारंट पर अमल नहीं हो सका क्योंकि सुलेमान अपने पते पर मौजूद नहीं था और विदेश चला गया था। लोअर कोर्ट ने इस साल जुलाई में 16 अरब रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक अन्य संदिग्ध के साथ सुलेमान को भगोड़ा अपराधी भी घोषित किया था। एफआईए की रिपोर्ट के मुताबिक, जांच टीम ने प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ परिवार के 28 बेनामी खातों का पता लगाया था जिसके जरिए 2008-18 से 16.3 अरब रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग की गई। एफआईए ने 17 हजार लेनदेन की जांच करने के बाद यह नतीजा निकाला था।

रविवार को लौटने की उम्मीद

प्रधानमंत्री के बेटे सुलेमान शहबाज रविवा को पाकिस्तान लौट रहे हैं। इसके पहले उन्होंने इस्लामाबाद हाईकोर्ट के सामने जमानत याचिका दायर की। सुलेमान के अधिवक्ता ने बताया कि सुलेमान सुरक्षात्मक जमानत चाहते हैं ताकि वह निचली अदालत में सरेंडर कर सकें। सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस आमेर फारूक ने कहा कि सुलेमान 13 दिसंबर तक कोर्ट में सरेंडर करें और तबतक फेडरल एजेंसी को उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दिया। सुलेमान के वकील ने कोर्ट को बताया कि उनके मुवक्किल रविवार (11 दिसंबर) को सऊदी अरब होते हुए इस्लामाबाद लौट रहे हैं। दरअसल, पाकिस्तान आने के पहले उमराह करने के लिए प्रधानमंत्री के बेटे फिलहाल सऊदी अरब में हैं।

यह भी पढ़ें:

लड़कियों को ही रात में बाहर निकलने से क्यों रोका जाए, जानिए केरल हाईकोर्ट ने क्यों पूछा सरकार से यह सवाल

Delhi MCD में बहुमत हासिल करने के बाद भी AAP को सताने लगा डर, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर लगाया आरोप

MCD Election Result 2022: दिल्ली नगर निगम में AAP को बहुमत, जानिए 250 सीटों के विजेताओं के नाम

 
Read more Articles on