वाशिंगटन(Washington). अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने इराक में सरकार विरोधी प्रोटेस्ट में हिंसा की घोर निंदा की और देश की सरकार से अत्याधिक संयम बरतने की अपील की। विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को एक बयान जारी करके यह जानकारी दी।


बयान में कहा गया, "पोम्पिओ ने इराक के प्रधानमंत्री आदिल अब्दुल महदी से बातचीत में इराक में हाल में हुई हिंसा की निंदा की और कहा कि मानवाधिकारों का उल्लंघन करने वालों को दोषी ठहराया जाना चाहिए।"


बयान के अनुसार, "पोम्पियो ने दोहराया कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन प्रत्येक लोकतंत्र का मूलभूत अधिकार है और प्रदर्शनों में हिंसा का कोई स्थान नहीं है, न तो सुरक्षा बलों के पास और न ही प्रदर्शनकारियों के पास।"


बता दें कि इराक के बगदाद में बेरोजगारी और भ्रष्टाचार के विरोध में लोग सड़कों पर इकट्ठा हो गए थे, और हिंसक प्रदर्शन कर रहे थे। लेकिन बाद में प्रदर्शनकारियों की मांगे पूरे राजनीतिक तंत्र में बदलाव लाने पर आ गई। हालात काबू में करने के लिए सुरक्षा बल के गोलियां चलानी पड़ी। एक सप्ताह तक चले प्रदर्शनों में हुई हिंसा में 100 से अधिक लोग मारे गए और छह हजार लोग घायल हो गए।

 

[यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है]