Asianet News Hindi

युद्ध से पहले रावण ने मंदोदरी को बताई थी महिलाओं से जुड़ी ये 8 बातें

शास्त्रों के अनुसार रावण की कई बुराइयों में से एक बुराई ये थी कि वह सुंदर स्त्रियों से तुरंत मोहित हो जाता था। सीता की सुंदरता देखकर ही रावण ने सीता का हरण किया था।

Before the war, Ravana told Mandodari these 8 things related to women KPI
Author
Ujjain, First Published Dec 19, 2020, 11:08 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. श्रीरामचरित मानस के अनुसार सीता हरण के बाद जब श्रीराम वानर सेना सहित समुद्र पार करके लंका पहुंच गए थे, तब मंदोदरी डर गई और वह रावण को समझाने लगी कि युद्ध ना करें और श्रीराम से क्षमा मांगते हुए सीता को उन्हें लौटा दें। इस बात पर रावण ने मंदोदरी का मजाक बनाते हुए कहा कि-

नारि सुभाऊ सत्य सब कहहीं। अवगुन आठ सदा उर रहहीं।
साहस अनृत चपलता माया। भय अबिबेक असौच अदाया।

इस दोहे में रावण ने मंदोदरी को स्त्रियों के 8 अवगुणों के बारे में बताया है।

बहुत ज्यादा साहस

रावण के अनुसार स्त्रियों में साहस बहुत ज्यादा होता हैं, इसी कारण स्त्रियां कई बार ऐसे काम कर देती हैं, जिससे बाद में उनके और उनके परिवार को पछताना पड़ता हैं।

झूठ बोलना

स्त्रियाँ बात-बात पर झूठ बोलती है। इस आदत के कारण अक्सर इन्हें परेशानियों का भी सामना करना पड़ता हैं। कभी भी झूठ अधिक समय तक छिप नहीं सकता हैं। सच एक दिन सामने आ ही जाता है।

चंचलता

स्त्रियों का मन पुरुषों की तुलना में अधिक चंचल होता हैं। इसी वजह से वे किसी एक बात पर लंबे समय तक टिक नहीं सकती हैं। पल-पल में स्त्रियों के विचार बदलते हैं। इसी वजह से वे अधिकांश परिस्थितियों में सही निर्णय नहीं ले पाती हैं।

माया रचना

स्त्रियां अपने स्वार्थों को पूरा करने के लिए कई प्रकार की माया रचती हैं। किसी व्यक्ति से अपने काम करवाने के लिए तरह-तरह के प्रलोभन देती हैं, रूठती है, मनाती हैं। यह सब माया है। यदि कोई पुरुष इस माय में फंस जाता हैं तो वह स्त्री के वश में हो जाता हैं।

डरपोक होना

कभी-कभी स्त्रियां अनावश्यक रूप से बहुत ज्यादा डर जाती हैं और इस वजह से उनके द्वारा कई काम बिगड़ जाते हैं। स्त्री बाहरी तौर पर साहस दिखाती हैं, लेकिन इनके मन में भय होता हैं।

अविवेकी स्वभाव यानी मूर्खता

कुछ परिस्तिथियों में स्त्रियां अविवेकी स्वाभाव के कारण मूर्खता पूर्ण काम कर देती है। अधिक साहस होने की वजह से और खुद को श्रेष्ठ साबित करने के लिए ऐसे काम कर दिए जाते हैं जो कि भविष्य में मूर्खतापूर्ण सिद्ध होते हैं।

निर्दयता

रावण के अनुसार सातवीं बात है निर्दयता यानी स्त्रियां यदि निर्दयी हो जाएं तो वो पुरुष को भी पीछे छोड़ सकती हैं।

अपवित्रता

कुछ स्त्रियों में अपवित्रता यानी साफ़-सफाई का अभाव होता है। ये भी महिलाओं में पाया जाने वाला एक अवगुण है।

श्रीरामचरित मानस के बारे में ये भी पढ़ें

श्रीरामचरित मानस से जानें श्रीराम-सीता विवाह का संपूर्ण प्रसंग

श्रीरामचरित मानस: लक्ष्मण ने शूर्पणखा को बताया था किन 6 पुरुषों की इच्छा कभी पूरी नहीं हो पाती

आपके जीवन की हर समस्या का समाधान छिपा है श्रीरामचरित मानस की इन चौपाइयों में

रोचक बातें: रा‌वण से पहले कौन रहता था सोने की लंका में, कितने दिनों में बना था रामसेतु?

वाल्मीकि रामायण: अयोध्या के राजा बनने के बाद श्रीराम दोबारा क्यों गए थे लंका, किसने तोड़ा था रामसेतु?

विवाह पंचमी: आज इस विधि से करें भगवान श्रीराम और देवी सीता की पूजा, दूर हो सकती हैं वैवाहिक जीवन की परेशानियां

विवाह पंचमी 19 दिसंबर को, इस दिन बन रहे हैं ग्रहों के शुभ योग, श्रीराम-सीता की पूजा से मिलेंगे शुभ फल

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios