Asianet News HindiAsianet News Hindi

Ganesh Chaturthi की रात भूलकर भी ना देखें चंद्रमा, इससे लग सकता है झूठा आरोप, जानिए क्या है इससे जुड़ी मान्यता

इस बार 10 सितंबर, शुक्रवार को गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi 2021) है। इसे कलंक चतुर्थी, गणेश चौथ, डंडा चौथ आदि कई नामों से जाना जाता है। धर्मग्रंथों के अनुसार इसी चतुर्थी को चंद्रमा के दर्शन नहीं करने चाहिए, मान्यता है कि इस दिन चंद्र दर्शन करने से झूठा कलंक लगता है।
 

Ganesh Chaturthi Traditions, know the reason behind belief of not viewing moon on this night
Author
Ujjain, First Published Sep 10, 2021, 7:52 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. श्रीमद्भागवत के अनुसार गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi 2021) की रात चांद देखने से ही भगवान श्रीकृष्ण को स्यमंतक मणि चुराने का मिथ्या कंलक लगा था, जिससे मुक्ति पाने के लिए उन्होंने विधिवत गणेश चतुर्थी का व्रत किया था। आगे जानिए क्या है इस मान्यता से जुड़ी कथा...

क्यों नहीं देखते हैं इस दिन चंद्रमा?

- जब भगवान गणेश को हाथी का मुख लगाया गया तो वे गजानन कहलाए और माता-पिता के रूप में पृथ्वी की सबसे पहले परिक्रमा करने के कारण अग्रपूज्य हुए। 
- सभी देवताओं ने उनकी स्तुति की पर चंद्रमा मंद-मंद मुस्कुराते रहें क्योंकि उन्हें अपने सौंदर्य पर अभिमान था। गणेशजी समझ गए कि चंद्रमा उनका उपहास कर रहे हैं। 
- क्रोध में आकर भगवान श्रीगणेश ने चंद्रमा को श्राप दे दिया कि- आज से तुम काले हो जाओगे। इसके बाद चंद्रमा को अपनी भूल का एहसास हुआ। 
- जब चंद्रमा ने श्रीगणेश से क्षमा मांगी तो गणेश जी ने कहा कि- सूर्य के प्रकाश को पाकर तुम एक दिन पूर्ण हो जाओगे यानी पूर्ण प्रकाशित होंगे। 
- लेकिन चतुर्थी का यह दिन तुम्हें दण्ड देने के लिए हमेशा याद किया जाएगा। इस दिन को याद कर कोई अन्य व्यक्ति अपने सौंदर्य पर अभिमान नहीं करेगा। 
- जो कोई व्यक्ति भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के दिन तुम्हारे दर्शन करेगा, उस पर झूठा आरोप लगेगा।

यदि भूल से चंद्र दर्शन हो जाए तो क्या करें?
यदि गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi 2021) की रात भूल से चंद्र दर्शन हो जाएं तो इस मंत्र का जाप करना चाहिए-
मंत्र
सिंह: प्रसेन मण्वधीत्सिंहो जाम्बवता हत:।
सुकुमार मा रोदीस्तव ह्येष: स्यमन्तक:।।
 

मंत्रार्थ- सिंह ने प्रसेन को मारा और सिंह को जाम्बवान ने मारा। हे सुकुमारक बालक तू मत रोवे, तेरी ही यह स्यमन्तक मणि है।
इस मंत्र के प्रभाव से कलंक नहीं लगता है। जो मनुष्य झूठे आरोप-प्रत्यारोप में फंस जाए, वह इस मंत्र को जपकर आरोप मुक्त हो सकता है।

गणेश उत्सव बारे में ये भी पढ़ें

Ganesh Utsav: तमिलनाडु के इस शहर में 273 फुट ऊंचे पर्वत पर है श्रीगणेश का ये मंदिर, विभीषण से जुड़ी है इसकी कथा

Ganesh Chaturthi: मिट्टी की गणेश प्रतिमा की पूजा से मिलते हैं शुभ फल, कितनी बड़ी होनी चाहिए मूर्ति, कैसे बनाएं?

Ganesh Chaturthi 2021: 10 सितंबर को घर-घर में विराजेंगे श्रीगणेश, प्रतिमा लेते समय ध्यान रखें ये खास बातें

59 साल बार Ganesh Chaturthi पर बन रहा है ग्रहों का दुर्लभ योग, ब्रह्म योग में होगी गणेश स्थापना

Ganesh Chaturthi पर बन रहा है ग्रहों का विशेष संयोग, जानिए 12 राशियों पर क्या होगा असर


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios