Asianet News HindiAsianet News Hindi

Janmashtami Dahi Handi 2022: जन्माष्टमी से कैसे जुड़ी दही हांडी की परंपरा? जानिए कारण और इतिहास

Dahi Handi 2022: हिंदू धर्म में हर व्रत-त्योहार से कोई न कोई परंपरा और मान्यता जरूर जुड़ी होती है। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी से भी एक ऐसी ही परंपरा जुड़ी है। ये परंपरा है दही हांडी की। हर साल जन्माष्टमी के मौके पर पूरे देश में दही हांडी की परंपरा निभाई जाती है। 
 

Krishna Janmashtami 2022 Dahi Handi 2022 Story Dahi Handi Tradition Life Management of Dahi Handi MMA
Author
Ujjain, First Published Aug 17, 2022, 9:34 AM IST

उज्जैन. इस बार पंचांग भेद के कारण जन्माष्टमी (Janmashtami Dahi Handi 2022) पर्व 18 व 19 अगस्त को मनाया जाएगा। जन्माष्टमी पर दही हांडी (Dahi Handi 2022) फोड़ने की परंपरा काफी पुरानी है। ये परंपरा किसने शुरू की, इस बात का जानकारी तो नहीं मिलती, लेकिन किसी समय छोटे से स्तर से शुरू हुई ये परंपरा आज पूरे देश में बड़े स्तर पर निभाई जाती है। महाराष्ट्र में इसका उत्साह देखते ही बनता है। इस परंपरा के पीछे भगवान श्रीकृष्ण के बाल्यकाल की घटनाएं हैं। इस परंपरा के पीछे लाइफ मैनेजमेंट के कई सूत्र भी छिपे हैं। जन्माष्टमी के मौके पर जानिए इस परंपरा से जुड़ी खास बातें…

ये है कहानी दही हांडी परंपरा की (This is the story of Dahi Handi tradition)
श्रीमद्भागवत के अनुसार, बाल्यकाल में भगवान श्रीकृष्ण अपने दोस्तों के साथ मिलकर लोगों के घरों से माखन चुराकर अपने मित्रों को खिला देते हैं और स्वयं भी खाते थे। जब यह बात गांव की महिलाओं को पता चली तो उन्होंने माखन की मटकी को ऊंचाई पर लटकाना शुरू कर दिया, जिससे श्रीकृष्ण का हाथ वहां तक न पहुंच सके। लेकिन नटखट कृष्ण की समझदारी के आगे उनकी यह योजना भी व्यर्थ साबित हुई। माखन चुराने के लिए श्रीकृष्ण अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक पिरामिड बनाते और ऊंचाई पर लटकाई मटकी से दही और माखन चुरा लेते थे। इसी से प्रेरित होकर दही-हांडी का चलन शुरू हुआ।

Krishna Janmashtami 2022 Dahi Handi 2022 Story Dahi Handi Tradition Life Management of Dahi Handi MMA

ये है दही हांडी का लाइफ मैनेजमेंट (This is the life management of Dahi Handi)
- मक्खन एक तरह से धन का प्रतीक है। जब हमारे पास आवश्यकता से अधिक धन हो जाता है तो उसे हम संचित यानी इक्ट्ठा कर लेते हैं जबकि होने ये चाहिए धन अधिक होने पर पहले उसका कुछ भाग जरूरतमंदों को दान करें। 
- श्रीकृष्ण माखन चुराकर पहले अपने उन मित्रों को खिलाते थे जो निर्धन थे। श्रीकृष्ण कहते हैं कि यदि आपके पास कोई वस्तु आवश्यकता से अधिक है तो पहले उसका दान करो, बाद में उसका संचय करो। इस बात का ध्यान सभी को रखना चाहिए।
- माखन और दही खाने से जुड़ा एक अन्य लाइफ मैनेजमेंट ये भी है कि बाल्यकाल में बच्चों को सही पोषण मिलना अति आवश्यक है। दूध, दही, माखन आदि चीजें खाने से बचपन से ही बच्चों का शरीर सुदृढ़ रहता है और वे आजीवन तंदुरुस्त बने रहते हैं।


ये भी पढ़ें-


Janmashtami 2022: जन्माष्टमी पर 4 ग्रह बनाएंगे 2 दुर्लभ योग, सालों में एक बनता है धन लाभ का ये मौका

Janmashtami 2022: सोमनाथ के जिन बेशकीमती दरवाजों को लूटा गजनवी ने, वो आज इस मंदिर की बढ़ा रहे शोभा

Janmashtami 2022: दूर करना चाहते हैं दुर्भाग्य तो जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण को जरूर चढ़ाएं ये 10 चीजें
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios