Asianet News Hindi

1200 साल से भी अधिक पुराना है तमिलनाडु का ये मंदिर, यहां अग्नि स्वरूप में होती है शिवलिंग की पूजा

वैसे तो हमारे देश में शिवजी के अनेक मंदिर हैं, लेकिन इनमें से कुछ बहुत विशेष हैं। ऐसा ही एक मंदिर तमिलनाडु के तिरुवनमलाई जिले में स्थित है। इसे अरुणाचलेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाता है।

This temple of Tamil Nadu is more than 1200 years old, here Shivling is worshiped in the form of fire KPI
Author
Ujjain, First Published Mar 9, 2021, 11:35 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. इस मंदिर में स्थापित शिवलिंग को अग्नि तत्व का प्रतीक माना जाता है। इस मंदिर का इतिहास 1200 साल से भी ज्यादा पुराना है। यह मंदिर पहाड़ की तराई में है। वास्तव में यहां अन्नामलाई पर्वत ही शिवजी का प्रतीक है। यहां स्थापित लिंगोत्भव नामक मूर्ति में प्रभु शिवजी को अग्नि रूप में, विष्णु जी को उनके चरणों के पास वराह रूप में और ब्रह्माजी को हंस के रूप बताया गया है। 7वीं शताब्दी में स्थापित इस मंदिर का चोल राजाओं ने 9वीं शताब्दी में विस्तार किया था। 10 हेक्टेयर में बने इस मंदिर के शिखर की ऊंचाई 217 फीट है।

यहां स्थापित हैं 8 शिवलिंग

पर्वत तक पहुंचने के रास्ते में इंद्र, अग्निदेव, यम देव, निरूति, वरुण, वायु, कुबेर और ईशान देव द्वारा पूजा करते हुई आठ शिवलिंग स्थापित हैं। लोगों की धारणा है कि इस मंदिर में नंगे पांव जाने से पापों से छुटकारा पाकर मुक्ति मिल सकती है।

यहां मनाया जाता है दीपम उत्सव

कार्तिक पूर्णिमा पर मंदिर में शानदार उत्सव होता है। इसे दीपम उत्सव कहते हैं। इस मौके पर विशाल दीपदान किया जाता है। हर पूर्णिमा को परिक्रमा करने का विधान है, जिसे गिरिवलम कहा जाता है। श्रद्धालु यहां अन्नामलाई पर्वत की 14 किलोमीटर लंबी परिक्रमा कर शिवजी से कल्याण की प्रार्थना करते हैं। इस दौरान मंदिर के आसपास बड़ी मात्रा में दीपक जलाए जाते हैं। एक विशाल दीपक मंदिर की पहाड़ी पर जलाया जाता है जो दो-तीन किमी की दूरी से भी आसानी से देखा जा सकता है।

महाशिवरात्रि के बारे में ये भी पढ़ें

Maha Shivratri पर इन 10 उपायों से दूर हो सकती हैं आपकी परिशानियां

महाशिवरात्रि: मलेशिया, इंडोनेशिया और पाकिस्तान सहित इन देशों में भी हैं भगवान शिव के प्रमुख मंदिर

पूजा के नियम: शिवलिंग की पूरी परिक्रमा न करें, मेहंदी-हल्दी न चढ़ाएं, शंख से जल भी अर्पित न करें

शिव-सिद्ध योग में मनाया जाएगा Maha Shivratri पर्व, ये उपाय करने से दूर हो सकता है शनि दोष

हरिद्वार कुंभ 2021: Maha Shivratri पर होगा पहला शाही स्नान, जानिए कब-कहां और क्यों लगता है ये धार्मिक मेला

Maha Shivratri पर घर लाएं ये 5 चीजें, दूर हो सकती है पैसों की तंगी

Maha Shivratri 11 मार्च को, जानिए पूजन विधि, शुभ मुहूर्त, कथा, उपाय और 12 ज्योतिर्लिंगों का महत्व 

Maha Shivratri पर घर लाएं ये 5 चीजें, दूर हो सकती है पैसों की तंगी

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios