Asianet News HindiAsianet News Hindi

Bihar : दादा के बाद बिटिया ने संभाली विरासत, बेंगलुरु से बैचलर करने वाली अनुष्का सबसे कम उम्र की मुखिया बनी

अनुष्का ने इस जीत के साथ अपने पिता और दादा की विरासत को आगे बढ़ाया है। उनके दादा भी 20 साल तक मुखिया रह चुके थे। अनुष्का ने बेंगलुरु के प्रतिष्ठित संस्थान से  बैचलर की डिग्री हासिल की है। पढ़ाई के बाद वह गांव लौटी। यहां पंचायत चुनाव के दौरान प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतरीं।

bihar anushka became the youngest head from kushahar of sheohar, dreams to build a medical college in panchayat
Author
Patna, First Published Nov 22, 2021, 5:05 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना : बिहार (Bihar) में पंचायत चुनाव में बड़ी संख्या में महिलाएं पंचायत चुनाव जीतकर जनप्रतिनिधि बन रही हैं। 7वें चरण में भी महिलाओं का दबदबा देखने को मिला है। इसी चरण में महज 21 साल की उम्र में अनुष्का मुखिया चुनाव जीतने में कामयाब हुई है। शिवहर (Sheohar) जिले के कुशहर पंचायत में अनुष्का ने 287 वोटों से चुनाव जीती है। जीत के बाद बधाइयों का सिलसिला जारी है। अनुष्का ने कहा कि उसका सपना है कि पंचायत में मेडिकल कॉलेज बने। इसके साथ ही वो पंचायत से भ्रष्टाचार मिटाने के लिए काम करेंगी। अनुष्का के इस जीत से उनका परिवार काफी खुश है। उनका कहना है कि उनकी बेटी गांव के विकास के लिए  काम करेगी। 

विरासत को आगे बढ़ा रहीं अनुष्का
अनुष्का ने इस जीत के साथ अपने पिता और दादा की विरासत को आगे बढ़ाया है। उनके दादा भी 20 साल तक मुखिया रह चुके थे। अनुष्का ने बेंगलुरु के प्रतिष्ठित संस्थान से  बैचलर की डिग्री हासिल की है। पढ़ाई के बाद वह गांव लौटी। यहां पंचायत चुनाव के दौरान प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतरीं। जीत हुई तो अनुष्का की चर्चा पूरे क्षेत्र में होने लगी। अनुष्का ने रीता देवी को 287 मतों से मात दी है। अनुष्का के पिता सुनील कुमार सिंह 2011 से 2016 तक जिला पार्षद रहे। जबकि, दादा राजमंगल सिंह 1978 से 2001 तक पंचायत में बतौर मुखिया के रूप में प्रतिनिधित्व किया था।

मेडिकल कॉलेज बनाने का सपना
गांव के लोगों ने बताया कि अनुष्का के दादा राजमंगल सिंह ने इस पंचायत में काफी काम किया गया है। पंचायत में हाईस्कूल भी बनवाया था। अनुष्का का भी कहना है कि वे अपने दादा के सपनों को आगे बढ़ाएंगी और उसे पूरा भी करेंगी। दादा का सपना था की इस पंचायत में मेडिकल कॉलेज बने, जिसके लिए परिवार ने जमीन भी दिया है। मेरा पहला लक्ष्य यही है कि पंचायत पूरी तरह डिजिटल और भ्रष्टाचार मुक्त बने।

जिम्मेदारी मिली है, निभाऊंगी भी
अनुष्का ने बताया कि उन्हें समाजसेवा से काफी लगाव है। पिता-दादा को पंचायत के लिए काम करते देखा है, इसी वजह से चुनाव मैदान में उतरी और जीत मिली। अनुष्का ने कहा कि यह जीत कुशहर पंचायत की जनता की जीत है। बड़ी जिम्मेदारी दी है। अब वह पंचायत का हर स्तर पर विकास करेंगी। चुनाव प्रचार के दौरान जनता ने उन्हें मुखिया बनाने का आश्‍वासन दिया था। जीत भी दिला दी है। अब उनके भरोसे लायक काम करना है।

इसे भी पढ़ें-बिहार: आरा में दूसरी बार मुखिया बने, मगर शपथ लेने से पहले ही हत्या, एंबुलेंस में आए थे बदमाश

इसे भी पढ़ें-हफ्ते में 48 घंटे काम, बाकी आराम, ओवर टाइम के लिए देनी होगी डबल सैलरी, जानिए क्या है बिहार सरकार का नया आदेश..

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios