Asianet News HindiAsianet News Hindi

निकम्मेपन के ताने से नाराज था चचेरा भाई, दोस्तों संग मिल की डॉक्टर बहन की हत्या, ऐसे रची थी साजिश

डॉ. प्रियरंजन हत्या मामले का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। डॉक्टर की हत्या का मुख्य आरोपी उनका चचेरा भाई करण सक्सेना बताया जाता है। जिसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर डॉक्टर प्रियरंजन प्रियदर्शी की हत्या की। 
 

police revels dr. priyaranjan murder case four arrested in this case pra
Author
Biharsharif, First Published Mar 8, 2020, 2:35 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिहारशरीफ। 5 मई को गोखुलपर मठ एपीएचसी में तैनात डॉक्टर प्रियरंजन प्रियदर्शी की हत्या तब कर दी गई थी, जब वो अपने बाइक से हॉस्पिटल जा रहे थे। हत्या के तीसरे दिन पुलिस ने मामले का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने हत्या में शामिल डॉक्टर के चचेरे भाई समेत चार अन्य अपराधियों को गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि इस मामले में चार अपराधी शामिल है। जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है। जांच प्रभावित होने की डर से पुलिस ने अभी गिरफ्तार किए गए अपराधियों का पहचान उजागर नहीं किया है। लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार डॉक्टर की हत्या का मुख्य आरोपी उनका चचेरा भाई करण सक्सेना है। 

अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी
बताया जाता है कि करण सक्सेना कुछ काम-धाम नहीं करता था। उसके निक्कमेपन को लेकर उसे बराबर ताना मारा जाता था। डॉक्टर प्रियरंजन भी कई बार उसे काम-धाम के लिए समझाया करते थे। जो उसे अच्छी नहीं लगती थी। इसी बात से नाराज होकर उसने अपने दोस्तों के साथ डॉक्टर को मारने का प्लान रचा। पुलिस ने हत्या में शामिल देसी कट्टा और बाइक को भी बरामद कर लिया है। मामले के फरार चार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है। सभी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस आधिकारिक रूप से पूरे मामले की की जानकारी देंगे। 

विरोध में 12 घंटे तक हड़ताल पर थे डॉक्टर
इस बीच सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार डॉ. की हत्या के मामले में पुलिस ने नूरसराय नोसरा निवासी करण सक्सेना (डॉक्टर का चचेरा भाई), लहेरी थाना क्षेत्र के रामचंद्रपुर निवासी आलोक कुमार, दीपनगर थाना क्षेत्र के कोरई निवासी टुनटुन पासवान और सौरव महतो को गिरफ्तार किया है। बता दें कि डॉक्टर की हत्या के विरोध में शनिवार को पूरे राज्य में डॉक्टरों ने 12 घंटे का हड़ताल किया था। इस दौरान सभी जिलों की ओपीडी सेवा बंद थी। केवल इमरजेंसी में ही मरीजों का इलाज हुआ था।  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios