Asianet News Hindi

कल पति के शहादत की आई थी खबर, फिर आया फोन, पत्नी ने कहा-मेरी जिंदगी लौटकर आ गई

First Published Jun 17, 2020, 9:54 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

छपरा (Bihar) । भारत-चीन सीमा में गालवन घाटी में हुई हिंसक झड़प में मंगलवार शाम को सारण जिले के जवान सुनील कुमार (38) के शहीद होने की खबर आई थी। परिवार के मुताबिक आर्मी की तरफ से ही परिवार और पुलिस अधिकारियों को जानकारी दी गई थी। खबर मिलते ही दीघरा परसा गांव में उनके परिवार के लोग मातम में डूब गए। पत्नी मेनका बेसुध हो गई थई। खुद सीएम नीतिश कुमार ने भी शोक जताते हुए अधिकारियों को निर्देश दिया, जिसके चलते आज शहीद का शव आना था, लेकिन  सुबह सुनील कुमार ने ही खुद फोन करके पत्नी मेनका से बात की और कहा- मैं ठीक हूं, चिंता मत करो। जिसके बाद बेसुध पत्नी के चेहरे पर खुशी छा गई और हंसती हुई बोली मेरी जिंदगी लौटकर आ गई। वहीं, सुनील के सही सलामत होने की खबर मिलने के बाद गांव में छाया मातम खुशी में बदल गया है।

जवान सुनील की पत्नी मेनका के मुताबिक परिवार के लोगों को उनके (सुनील कुमार) के शहीद होने की जानकारी देर शाम विभागीय अधिकारियों ने मोबाइल पर कॉल कर के दी थी। पति की शहादत की खबर सुनकर पत्नी मेनका राय बेसुध हो गई है थी। जवान की शहादत पर पूरे गांव में मातम पसरा है।

जवान सुनील की पत्नी मेनका के मुताबिक परिवार के लोगों को उनके (सुनील कुमार) के शहीद होने की जानकारी देर शाम विभागीय अधिकारियों ने मोबाइल पर कॉल कर के दी थी। पति की शहादत की खबर सुनकर पत्नी मेनका राय बेसुध हो गई है थी। जवान की शहादत पर पूरे गांव में मातम पसरा है।


सुनील कुमार की शहादत पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक संवेदना भी जताई थी। सीएम ने अपने शोक संदेश में लिखा था कि देश उनके बलिदान को याद रखेगा। मुख्यमंत्री ने वीर सपूत की शहादत को नमन करते हुए उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की। 


सुनील कुमार की शहादत पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक संवेदना भी जताई थी। सीएम ने अपने शोक संदेश में लिखा था कि देश उनके बलिदान को याद रखेगा। मुख्यमंत्री ने वीर सपूत की शहादत को नमन करते हुए उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की। 

परिवार के लोग आज शव आने का इ्ंतजार कर रहे थे, लेकिन आज सुबह सुनील ने खुद फोन करके पत्नी मेनका से बात की और कहा- मैं ठीक हूं, चिंता मत करो। मैं सुरक्षित हूं।

परिवार के लोग आज शव आने का इ्ंतजार कर रहे थे, लेकिन आज सुबह सुनील ने खुद फोन करके पत्नी मेनका से बात की और कहा- मैं ठीक हूं, चिंता मत करो। मैं सुरक्षित हूं।


सुनील की पत्नी मेनका कहती हैं कि मेरा सुहाग सुरक्षित है। गलत खबर आई थी। सुनील कुमार नाम के दूसरे जवान की शहादत हुई थी। एक जैसा नाम होने के चलते गलतफहमी हुई। मेनका ने कहा कि मेरे पति ने मुझसे बात की है। उन्हें कुछ नहीं हुआ। मेरी जिंदगी लौटकर आ गई। सुनील के सही सलामत होने की खबर मिलने के बाद गांव में छाया मातम खुशी में बदल गया है।


(नोट- ये फोटो शहीद होन की खबर मिलने के बाद का है)) 


सुनील की पत्नी मेनका कहती हैं कि मेरा सुहाग सुरक्षित है। गलत खबर आई थी। सुनील कुमार नाम के दूसरे जवान की शहादत हुई थी। एक जैसा नाम होने के चलते गलतफहमी हुई। मेनका ने कहा कि मेरे पति ने मुझसे बात की है। उन्हें कुछ नहीं हुआ। मेरी जिंदगी लौटकर आ गई। सुनील के सही सलामत होने की खबर मिलने के बाद गांव में छाया मातम खुशी में बदल गया है।


(नोट- ये फोटो शहीद होन की खबर मिलने के बाद का है)) 

जवान सुनील के पिता सुखदेव राय 12 साल पहले थल सेना से रिटायर हुए थे और अभी पश्चिम बंगाल में दूसरी सर्विस कर रहे हैं। सुनील दो भाइयों में बड़े थे। तीन साल की एक बेटी है। 

जवान सुनील के पिता सुखदेव राय 12 साल पहले थल सेना से रिटायर हुए थे और अभी पश्चिम बंगाल में दूसरी सर्विस कर रहे हैं। सुनील दो भाइयों में बड़े थे। तीन साल की एक बेटी है। 

परिवार के लोगों ने बताया कि जवान ने अपने मां और पत्नी से वीडियो कॉलिंग कर तीन-चार दिन पहले ही बातचीत की थी। सुनील होली के समय में मार्च 2020 में घर आए थे। वह घर पर एक माह तक रहे। उसके बाद छुट्टी पूरा होने के बाद ग्लेशियर बॉर्डर पर ड्यूटी ज्वाइन करने चले गए थे।

परिवार के लोगों ने बताया कि जवान ने अपने मां और पत्नी से वीडियो कॉलिंग कर तीन-चार दिन पहले ही बातचीत की थी। सुनील होली के समय में मार्च 2020 में घर आए थे। वह घर पर एक माह तक रहे। उसके बाद छुट्टी पूरा होने के बाद ग्लेशियर बॉर्डर पर ड्यूटी ज्वाइन करने चले गए थे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios