नई दिल्ली. रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने सोमवार को कंपनी की 42वीं एजीएम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि सऊदी अरब की कंपनी 'सऊदी अरेमेको' रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड के ऑयल और केमिकल डिविजन में 20 फीसदी का निवेश करेगी। इसी के साथ मुकेश अंबानी की कंपनी के लिए इतिहास का सबसे बड़ा निवेशक होगी। यह अब तक का सबसे बड़ा विदेशी निवेश भी होगा।

मुकेश अंबानी ने बताया, ''सऊदी अरेमेको के साथ रिलायंस इंडस्‍ट्रीज ने करार किया है। इसके तहत सऊदी कंपनी 75 बिलियन डॉलर का निवेश करेगी।'' तेल कंपनी सऊदी अरेमेको दुनिया की सबसे ज्‍यादा मुनाफा कमाने वाली कंपनी है। इस कंपनी ने 2018 में 111.1 अरब डॉलर का मुनाफा कमाया। इसका खुलासा कंपनी ने खुद बॉन्‍ड इनवेस्‍टर्स के सामने किया था। दुनियाभर में कोई और कंपनी इतना मुनाफा नहीं कमा पाई। 

अंबानी ने मोदी सरकार के लक्ष्य पर जताया भरोसा 
मुकेश अंबानी ने मोदी सरकार के 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लक्ष्य पर भरोसा जताया। हालांकि, उन्होंने कहा, मौजूदा वक्त में भारत की इकोनॉमी में थोड़ी सुस्‍ती है। लेकिन ये अस्थाई है। पिछले दिनों प्रधानमंत्री मोदी ने  5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी का लक्ष्य रखा था, ये भविष्य में मुमकिन है। उन्होंने कहा, हमें भरोसा है कि 2030 तक भारत 10 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लक्ष्य को पा लेगा। 

ये भी पढ़ें: जियो के बाद अब Jio GigaFiber तहलका मचाने के लिए तैयार, जानें क्या है जियो गीगाफाइबर
ये भी पढ़ें: रिलायंस इंडस्ट्रीज देश की सबसे बड़ी टैक्सपेयर, इतने करोड़ चुकाया टैक्स

रिलायंस इंडस्ट्रीज पर 36.9 बिलियन डॉलर की देनदारी
अंबानी ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था में रिलायंस इंडस्ट्रीज का अहम योगदान है। हमने 12191 करोड़ रुपए का टैक्स चुकाया है। हम देश के सबसे बड़े टैक्स पेयर हैं। हमने 67 हजार 320 करोड़ रुपए जीएसटी पर खर्च किए हैं। उन्होंने कहा, जून में खत्‍म हुई तिमाही तक रिलायंस इंडस्ट्रीज पर पर 36.9 बिलियन डॉलर की देनदारियां थीं। कंपनी 2021 तक कर्ज-मुक्‍त बनने की दिशा में काम कर रही है।