स्पोर्ट्स डेस्क. कोरोना वायरस के कारण इस वक्त देश में करीब दो महीने से लॉकडाउन है। ऐसे में भारतीय क्रिकेट टीम के धुरंधर भी अपने घरों में रहने को मजबूर हैं। यही कारण है कि वे आउटडोर प्रैक्टिस तक नहीं कर पा रहे। लेकिन अब ऐसा लग रहा कि कुछ दिनों खिलाड़ी मैदान पर प्रैक्टिस करते हुए नजर आ सकते हैं। इस बारे में BCCI के कोषाध्‍यक्ष अरुण धूमल ने बताया कि अगर सरकार 18 मई से शुरू होने वाले चौथे लॉकडाउन में ढील देती है तो भारतीय क्रिकेटर्स आउटडोर प्रैक्टिस शुरू कर सकेंगे।

पैक्टिस के लिए BCCI ने तैयार किया विकल्प
BCCI शीर्ष खिलाड़ियों को प्रैक्टिस के लिए विकल्प के तलाश में है। धूमल ने कहा कि जैसे ही लॉकडाउन में ढील मिलेगी हम उनकी आउटडोर प्रैक्टिस शुरू करवाएगें। उन्होंने कहा कि इस मुश्किल हालात में खिलाड़ियों को एक जगह से दूसरी जगह की यात्रा करना संभव नहीं है। ऐसे में बोर्ड ने विकल्‍प तैयार किया है जिसके तहत खिलाड़ी अपने घर के नजदीकी मैदान पर बल्‍लेबाजी या गेंदबाजी की प्रैक्टिस शुरू कर सकते है। अधिकारी ने बताया कि इस विकल्‍प के लिए बीसीसीआई सरकार के संपर्क में है।

एप की मदद से खिलाड़ी घर पर कर रहे हैं फिटनेस ड्रिल
आगे अरुण धूमल ने बताया कि लॉकडाउन के बाद क्रिकेटर्स के लिए रोडमैप तैयार किया गया है। वें लोग फिलहाल एप के जरिए ट्रेनिंग कर रहे हैं। ट्रेनर निक वेब ने हर खिलाड़ी के लिए फिटनेस ड्रिल तैयार की है। एप से खिलाड़ी कोच, सपोर्ट स्‍टाफ सभी से जुड़े हुए हैं। उन्हें एप के माध्यम से ही रोजाना फिटनेस ड्रिल के बारे में जानकारी दी जाती है। इस एप पर खिलाड़ी का पूरा रिकॉर्ड है। साथ ही  बीसीसीआई ने यह भी साफ किया है कि हालात जब तक पूरी तरह से सामान्‍य न हो जाते तब तक किसी भी तरह का कैंप नहीं लगाया जाएगा।

खिलाड़ी कर रहे हैं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन
वहीं क्रिकेटर्स के कोरोना टेस्‍ट के सवाल पर अरुण धूमल ने कहा कि खिलाड़ी लॉकडाउन के पहले दिन से ही घर में हैं। वे सभी सोशल डिस्‍टेंसिंग का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं। कैंप में भी नहीं हैं। अगर सरकार कुछ चिजों का निदेर्श देती है तो फिर खिलाड़ी उसका पालन करेंगे।