Asianet News Hindi

बाहुबली पति के नक्शेकदम पर चल रही पत्नी, ऐसी रही लव स्टोरी, संपत्ति जानकर हो जाएंगे हैरान

First Published Oct 18, 2020, 1:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव  (Bihar assembly elections) के लिए पहले फेज का चुनाव 28 अक्टूबर को होगा, जिसमें पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रही मनोरमा देवी (Manorama Devi) के भी भाग्य का फैसला होना है, जिनकी पहचान दबंग नेता के तौर पर होती है। वह गया जिले की अतरी सीट जदयू की प्रत्याशी हैं और अपने संपत्ति को लेकर सुर्खियों में है, क्योंकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने अपने एफिडेविट में 89.77 करोड़ रुपए संपत्ति बताई है। उनके पास 44.77 करोड़ रुपए के मूवेबल और 45 करोड़ के नॉन-मूवेबल असेट्स हैं, जबकि साल 2015 में वो जब विधान परिषद का चुनाव लड़ रही थीं, तब उन्होंने अपने एफिडेविट में 12.24 करोड़ रुपए संपत्ति बताई थी। बता दें कि वो कभी एक ट्रक चालक की बेटी थी। जिनकी शादी बाहुबली नेता बिंदेश्वरी (Bidenshwari Yadav) उर्फ बिंदी यादव (Bindi Yadav) से हुई थी, जिनकी लव स्टोरी काफी दिलचस्प है। हालांकि बिंदी यादव की इसी साल कोरोना से मौत हो गई। वहीं, मनोरमा देवी अपनी बाहुबली पति के नक्शेकदम पर चल रही है। जिनपर तीन केस इस समय दर्ज है। 
 

जदयू से चुनाव लड़ रही मनोरमा देवी की पहचान दबंग नेता के तौर पर होती है। उनके पति बिंदेश्वरी यादव किसी जमाने में बाहुबली नेता हुआ करते थे। वे लालू यादव के करीबियों में से एक थे। इसी साल कोरोना वायरस से उनकी की मौत हो गई। बता दें कि मनोरमा यादव का संबंध बिहार से नहीं, बल्कि पंजाब से है।  (फाइल फोटो)

जदयू से चुनाव लड़ रही मनोरमा देवी की पहचान दबंग नेता के तौर पर होती है। उनके पति बिंदेश्वरी यादव किसी जमाने में बाहुबली नेता हुआ करते थे। वे लालू यादव के करीबियों में से एक थे। इसी साल कोरोना वायरस से उनकी की मौत हो गई। बता दें कि मनोरमा यादव का संबंध बिहार से नहीं, बल्कि पंजाब से है।  (फाइल फोटो)

मनोरमा देवी के पिता एक ट्रक ड्राइवर थे, जिनका गया से गुजरने वाली जीटी रोड से हमेशा आना-जाना लगा रहता था। उसी दौरान वो गया के बाराचट्टी के काहूदाग के पास खाना खाने अक्सर एक ढाबे में रुका करते थे। वो उसी ढाबे वाली की बेटी कबूतरी देवी थी, जिससे बाद में उन्होंने शादी कर ली थी। इसके बाद वहीं जमीन खरीद कर बस भी गए। जहां 1970 में मनोरमा यादव का जन्म 1970 में हुआ। (फाइल फोटो)

मनोरमा देवी के पिता एक ट्रक ड्राइवर थे, जिनका गया से गुजरने वाली जीटी रोड से हमेशा आना-जाना लगा रहता था। उसी दौरान वो गया के बाराचट्टी के काहूदाग के पास खाना खाने अक्सर एक ढाबे में रुका करते थे। वो उसी ढाबे वाली की बेटी कबूतरी देवी थी, जिससे बाद में उन्होंने शादी कर ली थी। इसके बाद वहीं जमीन खरीद कर बस भी गए। जहां 1970 में मनोरमा यादव का जन्म 1970 में हुआ। (फाइल फोटो)

मनोरमा देवी बाराचट्टी के एक स्कूल में पढ़ रही थी। उस समय मोहनपुर के गणेशचक गांव के रहने वाले बिंदी यादव का बाराचट्टी में आना-जाना शुरू हो चुका था। बंडाश्रम में छुटभैये अपराधियों का जमावड़ा लगता था। जीटी रोड पर छोटी-छोटी वारदात के जरिए बिंदी का नाम इलाके में उभरने लगा था। स्कूली शिक्षा के बाद मनोरमा ने सोभ इंटर कालेज में दाखिला लिया। आने-जाने के क्रम में मनोरमा पर बिंदी की नजर पड़ी, जिनकी खूबसूरती से वो काफी प्रभावित हो गए।  (फाइल फोटो)

मनोरमा देवी बाराचट्टी के एक स्कूल में पढ़ रही थी। उस समय मोहनपुर के गणेशचक गांव के रहने वाले बिंदी यादव का बाराचट्टी में आना-जाना शुरू हो चुका था। बंडाश्रम में छुटभैये अपराधियों का जमावड़ा लगता था। जीटी रोड पर छोटी-छोटी वारदात के जरिए बिंदी का नाम इलाके में उभरने लगा था। स्कूली शिक्षा के बाद मनोरमा ने सोभ इंटर कालेज में दाखिला लिया। आने-जाने के क्रम में मनोरमा पर बिंदी की नजर पड़ी, जिनकी खूबसूरती से वो काफी प्रभावित हो गए।  (फाइल फोटो)


बिंदी ने इसकी चर्चा अपने करीबियों से की और कुछ दिनों बाद उसने मनोरमा के सामने शादी का प्रस्ताव भी रख दिया। लेकिन, बिंदी की करतूतों से वाकिफ मनोरमा ने शुरू में तो इनकार कर दिया। इसके बाद क्षेत्र के कुछ लोगों की मध्यस्थता के बाद मनोरमा की मां कबूतरी देवी बेटी की शादी बिंदी से करने के लिए राजी हो गई। दोनों परिवारों में सहमति के बाद 1989 में देवघर मंदिर में शादी हो गई। (फाइल फोटो)


बिंदी ने इसकी चर्चा अपने करीबियों से की और कुछ दिनों बाद उसने मनोरमा के सामने शादी का प्रस्ताव भी रख दिया। लेकिन, बिंदी की करतूतों से वाकिफ मनोरमा ने शुरू में तो इनकार कर दिया। इसके बाद क्षेत्र के कुछ लोगों की मध्यस्थता के बाद मनोरमा की मां कबूतरी देवी बेटी की शादी बिंदी से करने के लिए राजी हो गई। दोनों परिवारों में सहमति के बाद 1989 में देवघर मंदिर में शादी हो गई। (फाइल फोटो)

मनोरमा यादव से शादी करने के बाद बिंदी यादव की किस्मत चमकने लगी। 1990 में बिहार में लालू राज कायम हो गया। बिंदी यादव ने अपनी धाक जमाना शुरू किया और देखते ही देखते बिंदी यादव और मनोरमा देवी आसमान छूने लगें। बिंदी यादव उस जमाने में गया का आतंक बन गया था। जल्दी ही उस इलाके का बड़ा ठेकेदार बन गया। पैसों की बरसात होने लगी। (फाइल फोटो)
 

मनोरमा यादव से शादी करने के बाद बिंदी यादव की किस्मत चमकने लगी। 1990 में बिहार में लालू राज कायम हो गया। बिंदी यादव ने अपनी धाक जमाना शुरू किया और देखते ही देखते बिंदी यादव और मनोरमा देवी आसमान छूने लगें। बिंदी यादव उस जमाने में गया का आतंक बन गया था। जल्दी ही उस इलाके का बड़ा ठेकेदार बन गया। पैसों की बरसात होने लगी। (फाइल फोटो)
 

बिंदेश्वरी यादव उर्फ बिंदी यादव साल 2001 में वह गया जिला परिषद का अध्यक्ष चुना गया था। 2005 में राजद से टिकट नहीं मिला तो निर्दलीय लड़ लिया, लेकिन हार गया। 2010 में राजद ने टिकट तो दे दिया, लेकिन बिंदी की किस्मत ने साथ नहीं दिया। लेकिन, पत्नी मनोरमा को वह दो-दो बार एमएलसी बनवाने में कामयाब रहे। (फाइल फोटो)

बिंदेश्वरी यादव उर्फ बिंदी यादव साल 2001 में वह गया जिला परिषद का अध्यक्ष चुना गया था। 2005 में राजद से टिकट नहीं मिला तो निर्दलीय लड़ लिया, लेकिन हार गया। 2010 में राजद ने टिकट तो दे दिया, लेकिन बिंदी की किस्मत ने साथ नहीं दिया। लेकिन, पत्नी मनोरमा को वह दो-दो बार एमएलसी बनवाने में कामयाब रहे। (फाइल फोटो)


बताते हैं कि रॉकी की गया जिले में सियासी तूती बोलती है। मनोरमा के पास दिल्ली और आसपास के इलाके में मॉल, होटल और कई पेट्रोल पंप हैं। उनके घर से 2016 में शराब पकड़ी गई थी, जबकि बिहार में शराब पर बैन है। बाद में उन्होंने सरेंडर कर दिया था। जिसके बाद वो जेल भी गई थीं।  (फाइल फोटो)


बताते हैं कि रॉकी की गया जिले में सियासी तूती बोलती है। मनोरमा के पास दिल्ली और आसपास के इलाके में मॉल, होटल और कई पेट्रोल पंप हैं। उनके घर से 2016 में शराब पकड़ी गई थी, जबकि बिहार में शराब पर बैन है। बाद में उन्होंने सरेंडर कर दिया था। जिसके बाद वो जेल भी गई थीं।  (फाइल फोटो)


जेडीयू ने गया जिले के अतरी सीट से मनोरमा देवी को टिकट दिया है। मनोरमा देवी कार को साइड नहीं देने के कारण हत्या करने वाले रॉकी यादव की मां हैं। वह वर्तमान में स्थानीय प्राधिकार क्षेत्र से विधान पार्षद हैं। जिनका कार्यकाल मई 2021 तक है।  (फाइल फोटो)


जेडीयू ने गया जिले के अतरी सीट से मनोरमा देवी को टिकट दिया है। मनोरमा देवी कार को साइड नहीं देने के कारण हत्या करने वाले रॉकी यादव की मां हैं। वह वर्तमान में स्थानीय प्राधिकार क्षेत्र से विधान पार्षद हैं। जिनका कार्यकाल मई 2021 तक है।  (फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios