Asianet News Hindi

बाहुबली मुन्ना शुक्ला निर्दलीय लड़ रहे चुनाव, 8 करोड़ की संपत्ति के हैं मालिक; 13 आपराधिक मामले

First Published Oct 16, 2020, 1:19 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (BIHAR)। बिहार की राजनीति में हमेशा से ही बाहुबलियों का बोलबाला रहा है। इनमें तीन बार विधायक रहे मुन्ना शुक्ला उर्फ विजय कुमार शुक्ला (Munna Shukla) का भी नाम शामिल है, जो इस बार वैशाली के लालगंज से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। जिनके एफिडेविट के मुताबिक उनके पास करीब आठ करोड़ की सपत्ति है, जबकि इस समय 13 आपराधिक मामले दर्ज हैं। आज हम इस बाहुबली नेता के बारे में आपको बता रहे हैं, जिसे सुनकर आप भी दंग रह जाएगे।

बिहार के लालगंज क्षेत्र के मुन्‍ना शुक्ला की प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही हुई थी। वे चार भाइयों में तीसरे नंबर पर थे। बडे भाई छोटन शुक्ला अपराध जगत का बेताज बादशाह रहे। उसने यूनिवर्सिटी से आपराधिक यात्रा शुरू की थी। बाद में वे ठेकेदारी करने लगे। बताते हैं कि उत्तर बिहार के हर बड़े प्रोजेक्ट पर छोटन का कब्जा होता था।(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)
 

बिहार के लालगंज क्षेत्र के मुन्‍ना शुक्ला की प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही हुई थी। वे चार भाइयों में तीसरे नंबर पर थे। बडे भाई छोटन शुक्ला अपराध जगत का बेताज बादशाह रहे। उसने यूनिवर्सिटी से आपराधिक यात्रा शुरू की थी। बाद में वे ठेकेदारी करने लगे। बताते हैं कि उत्तर बिहार के हर बड़े प्रोजेक्ट पर छोटन का कब्जा होता था।(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)
 

छोटन शुक्ला अंडरवर्ल्ड में वर्चस्व बनाए रखने की जंग में भी शामिल थे। इसी दौरान 1994 में उसकी हत्या हो गई। आरोप पू्व मंत्री बृजबिहारी प्रसाद पर भी लगा। इसी हत्या के विरोध में मुन्ना प्रदर्शन कर रहे थे कि गोपालगंज के डीएम जी कृष्णैया की भीड़ में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई, जिसका सीधा आरोप मुन्ना शुक्ला पर लगा। इसके बाद वह अपराध जगत में चल गए। 
-(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)

छोटन शुक्ला अंडरवर्ल्ड में वर्चस्व बनाए रखने की जंग में भी शामिल थे। इसी दौरान 1994 में उसकी हत्या हो गई। आरोप पू्व मंत्री बृजबिहारी प्रसाद पर भी लगा। इसी हत्या के विरोध में मुन्ना प्रदर्शन कर रहे थे कि गोपालगंज के डीएम जी कृष्णैया की भीड़ में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई, जिसका सीधा आरोप मुन्ना शुक्ला पर लगा। इसके बाद वह अपराध जगत में चल गए। 
-(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)

छोटन शुक्ला के सभी आपराधिक साथी, मुन्‍ना के साथ आ गए और वह धीरे-धीरे अपराध जगत में पैर जमाने लगे। इसी दौरान उसका लिंक बाहुबली सूरजभान से भी जुड़ा। इसके बाद वह भी बड़े भाई की तरह मुजफ्फरपुर के बड़े प्रोजेक्टों को कराने की ठेकेदारी लेने लगे।
-(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)

छोटन शुक्ला के सभी आपराधिक साथी, मुन्‍ना के साथ आ गए और वह धीरे-धीरे अपराध जगत में पैर जमाने लगे। इसी दौरान उसका लिंक बाहुबली सूरजभान से भी जुड़ा। इसके बाद वह भी बड़े भाई की तरह मुजफ्फरपुर के बड़े प्रोजेक्टों को कराने की ठेकेदारी लेने लगे।
-(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


3 जून 1998 को इंदिरा गांधी आयुर्वेदिक संस्थान में पूर्व मंत्री बृज बिहारी भर्ती थे। इसी रात आठ बजे वह पार्क में टहल रहे थे कि 6-7 बदमाशों ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। मामले की सीबीआई जांच हुई। जिसमें सूरभान के साथ मुन्ना शुक्ला का भी नाम आया। मुन्ना ने गुनाहों की सजा से बचने के राजनीति का सहारा लिए, और तीन बार विधायक बने
-(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


3 जून 1998 को इंदिरा गांधी आयुर्वेदिक संस्थान में पूर्व मंत्री बृज बिहारी भर्ती थे। इसी रात आठ बजे वह पार्क में टहल रहे थे कि 6-7 बदमाशों ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। मामले की सीबीआई जांच हुई। जिसमें सूरभान के साथ मुन्ना शुक्ला का भी नाम आया। मुन्ना ने गुनाहों की सजा से बचने के राजनीति का सहारा लिए, और तीन बार विधायक बने
-(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


बताते हैं कि पूर्व विधायक मुन्ना शुक्ला जेल में रहते हुए भी सुर्खियों में रहे। एक बार तो जेल के अंदर डांसर्स नचाते हुए भी उसकी तस्वीरें वायरल हुई थीं। जिसके बाद हड़कंप मच गया था। यही नहीं कई बार जेल के अंदर से रंगदारी मांगने की भी बातें सामने आई। मुन्ना ने जेल के अंदर से ही हिंदी में पीएचडी की उपाधि भी हासिल की थी।
 -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


बताते हैं कि पूर्व विधायक मुन्ना शुक्ला जेल में रहते हुए भी सुर्खियों में रहे। एक बार तो जेल के अंदर डांसर्स नचाते हुए भी उसकी तस्वीरें वायरल हुई थीं। जिसके बाद हड़कंप मच गया था। यही नहीं कई बार जेल के अंदर से रंगदारी मांगने की भी बातें सामने आई। मुन्ना ने जेल के अंदर से ही हिंदी में पीएचडी की उपाधि भी हासिल की थी।
 -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


नीतीश कुमार के करीबी रहे मुन्ना शुक्ला इस बार जेडीयू से टिकट पर वैशाली के लालगंज से चुनाव लड़ना चाहते थे। लेकिन, टिकट न मिलने पर नाराज होकर निर्दलीय नामांकन किए हैं। चर्चा है कि उनके नामांकन के दौरान शक्ति प्रदर्शन भी हुआ। इस दौरान उन्होंने नीतीश कुमार पर धोखा देने का भी आरोप लगाया।  -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


नीतीश कुमार के करीबी रहे मुन्ना शुक्ला इस बार जेडीयू से टिकट पर वैशाली के लालगंज से चुनाव लड़ना चाहते थे। लेकिन, टिकट न मिलने पर नाराज होकर निर्दलीय नामांकन किए हैं। चर्चा है कि उनके नामांकन के दौरान शक्ति प्रदर्शन भी हुआ। इस दौरान उन्होंने नीतीश कुमार पर धोखा देने का भी आरोप लगाया।  -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


बाइक तो कभी पैदल प्रचार कर रहे मुन्ना शुक्ला ने अपने नामांकन पत्र में कई खुलासे किए हैं, जिसमें अभी भी उनपर 13 केस दर्ज होने की जानकारी दी गई है। इनमें आर्म्स एक्ट, सरकारी काम में बाधा डालने जैसे कई आरोप में केस दर्ज है। इसके अलावा 2002 में एक हत्या का मुकदमा दर्ज है। वहीं, मुजफ्फरपुर, वैशाली और सराय में अधिकतर केस दर्ज है। उनपर असॉल्ट का भी केस दर्ज है।  -(फाइल फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


बाइक तो कभी पैदल प्रचार कर रहे मुन्ना शुक्ला ने अपने नामांकन पत्र में कई खुलासे किए हैं, जिसमें अभी भी उनपर 13 केस दर्ज होने की जानकारी दी गई है। इनमें आर्म्स एक्ट, सरकारी काम में बाधा डालने जैसे कई आरोप में केस दर्ज है। इसके अलावा 2002 में एक हत्या का मुकदमा दर्ज है। वहीं, मुजफ्फरपुर, वैशाली और सराय में अधिकतर केस दर्ज है। उनपर असॉल्ट का भी केस दर्ज है।  -(फाइल फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बात अगर मुन्ना शुक्ला के दौलत की करें तो उनके पास करीब 8 करोड़ की संपत्ति है। उनकी पत्नी अनु शुक्ला और बेटी शिवानी शुक्ला के नाम पर ही अधिकतर संपत्ति है। -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बात अगर मुन्ना शुक्ला के दौलत की करें तो उनके पास करीब 8 करोड़ की संपत्ति है। उनकी पत्नी अनु शुक्ला और बेटी शिवानी शुक्ला के नाम पर ही अधिकतर संपत्ति है। -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)


बात अगर साल 2015 के चुनाव की करें तो लोजपा के राज कुमार साह ने जेडीयू के मुन्ना शुक्ला को हरा दिया था। इस चुनाव में राजकुमार साह को 80,842 वोट मिले थे, जबकि मुन्ना शुक्ला 60549 वोट हासिल कर सके। -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)
 


बात अगर साल 2015 के चुनाव की करें तो लोजपा के राज कुमार साह ने जेडीयू के मुन्ना शुक्ला को हरा दिया था। इस चुनाव में राजकुमार साह को 80,842 वोट मिले थे, जबकि मुन्ना शुक्ला 60549 वोट हासिल कर सके। -(फोटो स्त्रोत- सोशल मीडिया)
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios