Asianet News Hindi

दूसरे फेज के दिग्गज, तेजस्वी-तेजप्रताप समेत इन मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर, किसके हिस्से आएगी जीत

First Published Oct 20, 2020, 12:31 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) की 243 सीटों पर तीन चरण में वोटिंग होनी है। दूसरे चरण में तीन नवंबर को 94 सीटों पर होने वाले चुनाव में चार मंत्रियों, दर्जन भर बाहुबलियों और प्रमुख नेताओं के नाते-रिश्तेदारों की प्रतिष्ठा फंसी हुई है। इनमें सबसे ज्यादा लालू परिवार के पराक्रम की परीक्षा होनी है। जी हां आरजेडी (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बेटे तेजस्वी यादव (Tej Pratap Yadav) का राघोपुर (Raghopur) में मुकाबला भाजपा (BJP) तो हसनपुर (Hasanpur) से चुनाव लड़ रहे तेजप्रताप (Tej Pratap) का जेडीयू (JDU) प्रत्याशी से है। ऐसे में सबसे दिलचस्प मुकाबला इसी चरण में देखने को मिल सकता है। बता दें कि मुन्ना शुक्ला (Munna Shukla) रीतलाल (Reetlal) जैसे कई बाहुबली भी इसी चरण में चुनाव लड़ रहे हैं, जिसके बारे में हम आपको बता रहे हैं।

नीतीश सरकार के इन चार मंत्रियों की दांव पर प्रतिष्ठा
दूसरे चरण में नीतीश सरकार के चार मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर हैं। इनमें पटना साहिब से भाजपा के टिकट पर पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव, जदयू के टिकट पर नालंदा से ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, हथुआ से जदयू के समाज कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह, मधुबन से भाजपा के टिकट पर सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह शामिल हैं। 
(फोटो में गृह मंत्री अमित शाह और बिहार के सीएम नीतीश कुमार)

नीतीश सरकार के इन चार मंत्रियों की दांव पर प्रतिष्ठा
दूसरे चरण में नीतीश सरकार के चार मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर हैं। इनमें पटना साहिब से भाजपा के टिकट पर पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव, जदयू के टिकट पर नालंदा से ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, हथुआ से जदयू के समाज कल्याण मंत्री रामसेवक सिंह, मधुबन से भाजपा के टिकट पर सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह शामिल हैं। 
(फोटो में गृह मंत्री अमित शाह और बिहार के सीएम नीतीश कुमार)

सबकी है इस सीट पर नजर
सबसे दिलचस्प लड़ाई राघोपुर में होनी है, जहां से नेता प्रतिपक्ष एवं महागठबंधन के मुख्यमंत्री प्रत्याशी तेजस्वी यादव खुद मैदान में हैं। उनके सामने भाजपा ने पूर्व विधायक सतीश यादव पर दांव लगाया है। वहीं, तेज प्रताप हसनपुर से चुनाव लड़ रहे हैं। जिनके खिलफा जेडीयू ने राजकुमार राय को उतारा है। 

सबकी है इस सीट पर नजर
सबसे दिलचस्प लड़ाई राघोपुर में होनी है, जहां से नेता प्रतिपक्ष एवं महागठबंधन के मुख्यमंत्री प्रत्याशी तेजस्वी यादव खुद मैदान में हैं। उनके सामने भाजपा ने पूर्व विधायक सतीश यादव पर दांव लगाया है। वहीं, तेज प्रताप हसनपुर से चुनाव लड़ रहे हैं। जिनके खिलफा जेडीयू ने राजकुमार राय को उतारा है। 

लालू के समधी को मिल रही कड़ी टक्कर
सबकी नजर परसा विधानसभा सीट पर भी है। यहां से लालू के समधी एवं पूर्व मंत्री चंद्रिका राय जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। लालू ने उनसे मुकाबले के लिए छोटेलाल राय को मैदान में उतारा है। दोनों की सियासी अदावत पुरानी है। पिछले कई चुनावों से दल-बदलकर दोनों आमने-सामने होते आ रहे हैं। 

लालू के समधी को मिल रही कड़ी टक्कर
सबकी नजर परसा विधानसभा सीट पर भी है। यहां से लालू के समधी एवं पूर्व मंत्री चंद्रिका राय जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। लालू ने उनसे मुकाबले के लिए छोटेलाल राय को मैदान में उतारा है। दोनों की सियासी अदावत पुरानी है। पिछले कई चुनावों से दल-बदलकर दोनों आमने-सामने होते आ रहे हैं। 

रामा सिंह और रीतलाल की भी दांव पर है प्रतिष्ठा
जेडीयू से ही शेल्टर होम कांड के बाद मंत्री की कुर्सी गंवाने वाली मंजू वर्मा भी इसी चरण में चेरिया बरियारपुर से चुनाव लड़ी रही हैं। हरनौत से पूर्व मंत्री हरिनारायण सिंह हैं मैदान में हैं, जबकि दानापुर से रीतलाल यादव और महनार से रामा सिंह की पत्नी वीणा देवी को टिकट दिया है। 

(फोटो में रामा सिंह और उनकी पत्नी वीणा देवी)

रामा सिंह और रीतलाल की भी दांव पर है प्रतिष्ठा
जेडीयू से ही शेल्टर होम कांड के बाद मंत्री की कुर्सी गंवाने वाली मंजू वर्मा भी इसी चरण में चेरिया बरियारपुर से चुनाव लड़ी रही हैं। हरनौत से पूर्व मंत्री हरिनारायण सिंह हैं मैदान में हैं, जबकि दानापुर से रीतलाल यादव और महनार से रामा सिंह की पत्नी वीणा देवी को टिकट दिया है। 

(फोटो में रामा सिंह और उनकी पत्नी वीणा देवी)

आनंद मोहन के बेटे और मुन्ना शुक्ला के भी भाग्य का होगा फैसला
दूसरे चरण में जदयू से मटिहानी से बोगो सिंह, एकमा से धूमल सिंह की पत्नी सीता देवी, खगडिया से रणवीर यादव की पत्नी पूनम देवी और कुचायकोट से अमरेंद्र पांडेय मैदान में हैं। राजद ने शिवहर से आनंद मोहन के पुत्र चेतन आनंद पर भी दांव लगाया है, जबकि लालगंज से मुन्ना शुक्ला निर्दलीय ही ताल ठोक रहे हैं। 

(फोटो में मुन्ना शुक्ला)

आनंद मोहन के बेटे और मुन्ना शुक्ला के भी भाग्य का होगा फैसला
दूसरे चरण में जदयू से मटिहानी से बोगो सिंह, एकमा से धूमल सिंह की पत्नी सीता देवी, खगडिया से रणवीर यादव की पत्नी पूनम देवी और कुचायकोट से अमरेंद्र पांडेय मैदान में हैं। राजद ने शिवहर से आनंद मोहन के पुत्र चेतन आनंद पर भी दांव लगाया है, जबकि लालगंज से मुन्ना शुक्ला निर्दलीय ही ताल ठोक रहे हैं। 

(फोटो में मुन्ना शुक्ला)

बेटे-बेटी और नाते-रिश्तेदारों पर भी दांव 
बिहारीगंज से शरद यादव की पुत्री सुभाषिनी कांग्रेस के टिकट पर लड़ रही है। बांकीपुर से शत्रुघ्न सिन्हा के पुत्र लव सिन्हा भी कांग्रेस प्रत्याशी हैं। जदयू ने राजगीर से हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य के पुत्र कौशल किशोर को टिकट थमा दिया है। पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार भी पीछे नहीं हैं। उनके भतीजे पप्पू सिंह को कांग्रेस ने लालगंज से उतारा है।

(फोटो में शरद यादव की बेटी सुभाषिनी)

बेटे-बेटी और नाते-रिश्तेदारों पर भी दांव 
बिहारीगंज से शरद यादव की पुत्री सुभाषिनी कांग्रेस के टिकट पर लड़ रही है। बांकीपुर से शत्रुघ्न सिन्हा के पुत्र लव सिन्हा भी कांग्रेस प्रत्याशी हैं। जदयू ने राजगीर से हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य के पुत्र कौशल किशोर को टिकट थमा दिया है। पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार भी पीछे नहीं हैं। उनके भतीजे पप्पू सिंह को कांग्रेस ने लालगंज से उतारा है।

(फोटो में शरद यादव की बेटी सुभाषिनी)

चिराग के लिए है अग्नि परीक्षा
लोजपा की अग्नि परीक्षा दूसरे चरण में ही होना है। क्योंकि, उनके स्वर्गीय पिता राम विलास पासवान पहली बार 1969 में अलौली से हीं जीतकर विधायक बने थे, हालांकि बाद में उनके छोटे भाई पशुपति कुमार पारस यहां से 7 बार विधायक रहे चुके हैं, जो इस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। इसके अलावा चिराग के चचेरे भाई कृष्णराज रोसड़ा से और बहनोई मृणाल राजापाकर से मैदान में हैं। वहीं, लोजपा अध्यक्ष के दो विधायक राजू तिवारी गोविंदगंज और राजकुमार साह लालगंज से लड़ रहे हैं। अलौली से रामचंद्र सदा तो पूर्व मंत्री रेणु कुशवाहा खगड़िया से मैदान में है। 
फोटो- में चिराग पासवान

चिराग के लिए है अग्नि परीक्षा
लोजपा की अग्नि परीक्षा दूसरे चरण में ही होना है। क्योंकि, उनके स्वर्गीय पिता राम विलास पासवान पहली बार 1969 में अलौली से हीं जीतकर विधायक बने थे, हालांकि बाद में उनके छोटे भाई पशुपति कुमार पारस यहां से 7 बार विधायक रहे चुके हैं, जो इस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। इसके अलावा चिराग के चचेरे भाई कृष्णराज रोसड़ा से और बहनोई मृणाल राजापाकर से मैदान में हैं। वहीं, लोजपा अध्यक्ष के दो विधायक राजू तिवारी गोविंदगंज और राजकुमार साह लालगंज से लड़ रहे हैं। अलौली से रामचंद्र सदा तो पूर्व मंत्री रेणु कुशवाहा खगड़िया से मैदान में है। 
फोटो- में चिराग पासवान

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios