Asianet News Hindi

दुनियाभर में मशहूर हुई 'साइकिल गर्ल' ने पुरस्कार के पैसे से कराई शादी, दरियादिली पर मिल रहीं तारीफें

First Published Jun 16, 2020, 5:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

दरभंगा (Bihar) ।  साइकिल गर्ल ज्योति कुमारी ने फिर परिवार और समाज का दिल जीत लिया है। ज्योति ने पुरस्कार में मिली राशि से अपनी गरीब बुआ की शादी करा दी। यह शादी दरभंगा के श्यामा माई मंदिर में शादी कराई। जिसमें 50 हजार रुपये स्वयं खर्च की। बता दें कि यह वही ज्योति है, जिसे सोशल मीडिया में कोरोना कॉल का श्रवण कुमार कहा जा रहा है। दरअसल इस बेटी ने अपने बीमार पिता को गुरुग्राम से दरभंगा तक 1200 किमी दूर साइकिल के कैरियर पर बिठाकर लाई थी, जिसके बाद पूरे दुनिया में फेमस हो गई थी।

केवटी प्रखंड में सिरहुल्ली गांव की निवासी साइकिल गर्ल ज्योति के दादा कारी पासवान और उनके भाई शिवनंदन पासवान का निधन हो चुका है। चचेरी दादी विधवा लीला देवी लकवाग्रस्त हैं। ज्योति ने अपनी चचेरी दादी की हालत देख उनकी बेटी कविता कुमारी की शादी कराने का फैसला लिया। यह बात उसने अपने माता-पिता से कही।
 

केवटी प्रखंड में सिरहुल्ली गांव की निवासी साइकिल गर्ल ज्योति के दादा कारी पासवान और उनके भाई शिवनंदन पासवान का निधन हो चुका है। चचेरी दादी विधवा लीला देवी लकवाग्रस्त हैं। ज्योति ने अपनी चचेरी दादी की हालत देख उनकी बेटी कविता कुमारी की शादी कराने का फैसला लिया। यह बात उसने अपने माता-पिता से कही।
 


पिता मोहन पासवान ने कहा कि बेटी ज्योति ने ही कविता की शादी करा देने का सुझाव दिया था। उसने कहा कि कल हमारे पास कुछ नहीं था। लेकिन, आज जो कुछ है, बहुत है। इसलिए एक गरीब की बेटी की शादी करा देनी चाहिए। 
 


पिता मोहन पासवान ने कहा कि बेटी ज्योति ने ही कविता की शादी करा देने का सुझाव दिया था। उसने कहा कि कल हमारे पास कुछ नहीं था। लेकिन, आज जो कुछ है, बहुत है। इसलिए एक गरीब की बेटी की शादी करा देनी चाहिए। 
 


बेटी की बात सुनकर मोहन पासवान को खुशी हुई। इसके बाद कविता की शादी समस्तीपुर जिले के खानपुर थाना क्षेत्र के नाथुद्वार गांव के शिबू पासवान के पुत्र अरविंद पासवान के साथ तय की। इसके लिए ज्योति ने पुरस्कार में मिली राशि में से 50 हजार रुपये खर्च किए।


बेटी की बात सुनकर मोहन पासवान को खुशी हुई। इसके बाद कविता की शादी समस्तीपुर जिले के खानपुर थाना क्षेत्र के नाथुद्वार गांव के शिबू पासवान के पुत्र अरविंद पासवान के साथ तय की। इसके लिए ज्योति ने पुरस्कार में मिली राशि में से 50 हजार रुपये खर्च किए।


ज्योति के पैसे से रिश्ते में उसकी बहन कविता की शादी अरविंद से करा दी। उन्होंने कहा कि इसमें सब कुछ ज्योति का है और उन्हें अपनी बेटी पर नाज है।
 


ज्योति के पैसे से रिश्ते में उसकी बहन कविता की शादी अरविंद से करा दी। उन्होंने कहा कि इसमें सब कुछ ज्योति का है और उन्हें अपनी बेटी पर नाज है।
 


बता दें कि दरभंगा के केवटी प्रखंड में सिरहुल्ली गांव की निवासी ज्योति तब सुर्खियों में आई थी जब उसने अपने बीमार पिता को साइकिल पर बिठाकर हरियाणा के गुरुग्राम से दरभंगा का करीब 1200 किमी तक का सफर साइकिल से तय किया था।
 


बता दें कि दरभंगा के केवटी प्रखंड में सिरहुल्ली गांव की निवासी ज्योति तब सुर्खियों में आई थी जब उसने अपने बीमार पिता को साइकिल पर बिठाकर हरियाणा के गुरुग्राम से दरभंगा का करीब 1200 किमी तक का सफर साइकिल से तय किया था।
 


ज्योति के इस कार्य की खबर सामने आई तो देश विदेश से ज्योति को सराहना मिली थी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने भी ज्योति के लिए ट्वीट किया था। इससे पहले कई भारतीय नेताओं ने उसकी तारीफ की थी।


ज्योति के इस कार्य की खबर सामने आई तो देश विदेश से ज्योति को सराहना मिली थी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने भी ज्योति के लिए ट्वीट किया था। इससे पहले कई भारतीय नेताओं ने उसकी तारीफ की थी।


साइकिल फेडरेशन ने ज्योति को साइकिल रेस प्रतियोगिता के सेलेक्शन के लिए भी आमंत्रित किया था। वहीं, राज्य सरकार की ओर से जिला प्रशासन ने भी ज्योति का सम्मान किया था।


साइकिल फेडरेशन ने ज्योति को साइकिल रेस प्रतियोगिता के सेलेक्शन के लिए भी आमंत्रित किया था। वहीं, राज्य सरकार की ओर से जिला प्रशासन ने भी ज्योति का सम्मान किया था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios