Asianet News Hindi

लॉकडाउन के कारण टल गई थी शादी, चीनियों को मारते-मारते शहीद हुआ छोटा भाई, अभी भी दुश्मनों से लड़ रहा बड़ा भाई

First Published Jun 18, 2020, 8:05 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोजपुर (Bihar ) ।  लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में चंदन यादव (23) भी शहीद हो गए हैं। वह मूल रूप से भोजपुर जिले के जगदीशपुर अनुमंडल के कौंरा पंचायत के ज्ञानपुर गांव रहने वाले हैं। घर वालों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। उनके शहीद होने की सबसे पहले खबर उनके बड़े भाई हुई, जो उनके साथ लद्दाख बॉर्डर पर ही देश की रक्षा कर रहे हैं। जिन्होंने देश की सेवा करते हुए परिवार को भाई के शहादत की जानकारी दी। यहां छोटे बेटे के शहीद होने की खबर लगते ही कोहराम मच गया। बता दें कि चंदन की इसी साल मई में शादी होने वाली थी, लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण लागू लॉकडाउन के कारण टल गई थी।


शहीद चंदन के 4 भाई हैं। ये सभी भाई देश की सेवा में हैं। शहीद चंदन के साथ-साथ उनके बड़े भाई लद्दाख बॉर्डर पर ही देश की रक्षा कर रहे हैं।
 


शहीद चंदन के 4 भाई हैं। ये सभी भाई देश की सेवा में हैं। शहीद चंदन के साथ-साथ उनके बड़े भाई लद्दाख बॉर्डर पर ही देश की रक्षा कर रहे हैं।
 


दो अन्य भाई भी आर्मी में हैं, जो रांची और अन्य जगह पर पोस्टेड हैं। शहीद चंदन की दो बहन हैं। शहीद चंदन अपने घर में सबसे छोटे भाई थे।
 


दो अन्य भाई भी आर्मी में हैं, जो रांची और अन्य जगह पर पोस्टेड हैं। शहीद चंदन की दो बहन हैं। शहीद चंदन अपने घर में सबसे छोटे भाई थे।
 


चंदन के शहीद होने की खबर सबसे पहले उनके बड़े भाई को मिली, जो वहीं लद्दाख में ही पोस्टेड हैं। उन्होंने जैसे ही ये खबर घर वालों को दी कोहराम मच गया। पिता का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। शहीद जवान के गांववाले "चीन मुर्दाबाद" के नारे लगा रहे हैं।


चंदन के शहीद होने की खबर सबसे पहले उनके बड़े भाई को मिली, जो वहीं लद्दाख में ही पोस्टेड हैं। उन्होंने जैसे ही ये खबर घर वालों को दी कोहराम मच गया। पिता का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। शहीद जवान के गांववाले "चीन मुर्दाबाद" के नारे लगा रहे हैं।

चंदन के परिजनों ने बताया कि दो साल पहले 2017 में चंदन ने आर्मी ज्वाइन किया था। इसी साल उनकी पोस्टिंग 16 बिहार रेजिमेंट लद्दाख के गलवान घाटी में हुई थी। जहां सब-जीरो टेम्परेचर वाले लद्दाख बॉर्डर पर वह अपने भाई के साथ ही देश की रक्षा में लगे हुए थे।

चंदन के परिजनों ने बताया कि दो साल पहले 2017 में चंदन ने आर्मी ज्वाइन किया था। इसी साल उनकी पोस्टिंग 16 बिहार रेजिमेंट लद्दाख के गलवान घाटी में हुई थी। जहां सब-जीरो टेम्परेचर वाले लद्दाख बॉर्डर पर वह अपने भाई के साथ ही देश की रक्षा में लगे हुए थे।

शहीद चंदन यादव की शादी इसी साल मई महीने में भोजपुर जिले में ही सुल्तानपुर गांव में होने वाली थी। लेकिन, लॉकडाउन के कारण शादी टल गई थी।

शहीद चंदन यादव की शादी इसी साल मई महीने में भोजपुर जिले में ही सुल्तानपुर गांव में होने वाली थी। लेकिन, लॉकडाउन के कारण शादी टल गई थी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios