Asianet News Hindi

लालू के परिवार ने बजाई थी थाली, PM मोदी का नाम लेकर अमित शाह ने ऐसे कसा तंज

First Published Jun 7, 2020, 6:30 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (Bihar)। केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने आज बिहार की पहली वर्चुअल रैली को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने बिना किसी का नाम लिए लालू प्रसाद यादव के परिवार पर जमकर तंज कसा। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कुछ लोगों ने थाली बजाकर इस रैली का स्वागत किया है। अब ऐसे लोग थाली बजाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कोरोना के खिलाफ अभियान में शामिल हो गए हैं। बता दें आज सुबह राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने अमित शाह की वर्चुअल रैली का थाली बजाकर विरोध किया था।
 


बता दें कि राजद, कांग्रेस और वामपंथी दल, भाजपा की इस वर्चुअल रैली का विरोध कर थे। राजद ने पूरे बिहार में आज गरीब अधिकार दिवस मनाया है। 


बता दें कि राजद, कांग्रेस और वामपंथी दल, भाजपा की इस वर्चुअल रैली का विरोध कर थे। राजद ने पूरे बिहार में आज गरीब अधिकार दिवस मनाया है। 


सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए राबड़ी देवी के आवास पर तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव, आरजेडी के कार्यकर्ता और नेता, गरीब अधिकार दिवस मनाए थे। इस दौरान सभी ने थाली को चम्मच से बजाते नजर आए।


सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए राबड़ी देवी के आवास पर तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव, आरजेडी के कार्यकर्ता और नेता, गरीब अधिकार दिवस मनाए थे। इस दौरान सभी ने थाली को चम्मच से बजाते नजर आए।


जिसका जिक्र अपने संबोधन की शुरुआत करते अमित शाह ने किया। साथ ही विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि बिहार की जनता का धन्यवाद दिया जिन्होंने 2014 और 2019 में मोदी जी के नेतृत्व में एनडीए को जनादेश दिया।


जिसका जिक्र अपने संबोधन की शुरुआत करते अमित शाह ने किया। साथ ही विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि बिहार की जनता का धन्यवाद दिया जिन्होंने 2014 और 2019 में मोदी जी के नेतृत्व में एनडीए को जनादेश दिया।


अमित शाह ने कहा, कुछ लोगों ने थाली बजाकर इस रैली का स्वागत किया है। कुछ लोग थाली बजाकर मोदी जी की कोरोना की लड़ाई में जुड़ गए।


अमित शाह ने कहा, कुछ लोगों ने थाली बजाकर इस रैली का स्वागत किया है। कुछ लोग थाली बजाकर मोदी जी की कोरोना की लड़ाई में जुड़ गए।

अमित शाह ने कहा कि, इस रैली का चुनाव से कोई लेना-देना नहीं है। जनसंपर्क के संस्कार को बचाए रखना चाहता हूं। 75 वर्चुअल रैली के माध्यम से जेपी नड्डा ने जनसंपर्क का माध्यम प्रदान किया है। शाह ने कहा, यह वर्चुअल रैली कोरोना के खिलाफ लोगों को एकजुट करने की मुहिम है।

अमित शाह ने कहा कि, इस रैली का चुनाव से कोई लेना-देना नहीं है। जनसंपर्क के संस्कार को बचाए रखना चाहता हूं। 75 वर्चुअल रैली के माध्यम से जेपी नड्डा ने जनसंपर्क का माध्यम प्रदान किया है। शाह ने कहा, यह वर्चुअल रैली कोरोना के खिलाफ लोगों को एकजुट करने की मुहिम है।


अमित शाह ने कहा किअब वक्रद्रष्टा लोग (विपक्ष) इसमें भी राजनीति करते हैं। ऐसे लोगों को किसने रोका, ये लोग कम से पटना से लेकर दरभंगा तक एक वर्चुअल रैली ही आयोजित कर लेते।
 


अमित शाह ने कहा किअब वक्रद्रष्टा लोग (विपक्ष) इसमें भी राजनीति करते हैं। ऐसे लोगों को किसने रोका, ये लोग कम से पटना से लेकर दरभंगा तक एक वर्चुअल रैली ही आयोजित कर लेते।
 


अमित शाह ने कहा कि आपातकाल के समय बिहार की जनता ने लोकतंत्र को प्रतिस्थापित करने का काम किया। बिहार की भूमि वंशवाद, भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी।


अमित शाह ने कहा कि आपातकाल के समय बिहार की जनता ने लोकतंत्र को प्रतिस्थापित करने का काम किया। बिहार की भूमि वंशवाद, भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी।


अमित शाह ने कहा कि बिहार से दुनिया को सबसे पहले लोकतंत्र का अनुभव हुआ। बिहार की भूमि ने हमेशा भारत का नेतृत्व किया है। 
 


अमित शाह ने कहा कि बिहार से दुनिया को सबसे पहले लोकतंत्र का अनुभव हुआ। बिहार की भूमि ने हमेशा भारत का नेतृत्व किया है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios