जीते जी कंकाल में बदल गई थी ये एक्ट्रेस, अचानक लोगों की नजर पड़ी तो बदन पर रेंग रहे थे कीड़े

First Published 9, Jul 2020, 9:26 PM

मुंबई/चेन्नई। फिल्म इंडस्ट्री में इन दिनों नेपोटिज्म का मुद्दा गरमाया हुआ है। आए दिन सेलेब्स बॉलीवुड में फैले भाई-भतीजावाद पर खुलकर सामने आ रहे हैं। वैसे, नेपोटिज्म और कास्टिंग काउच जैसी चीजें सिर्फ बॉलीवुड तक ही सीमित नहीं हैं, बल्कि ये देश की दूसरी फिल्म इंडस्ट्री में भी देखने को मिलती हैं। कुछ इसी तरह के कास्टिंग काउच और धोखे का शिकार हुई थी 80 और 90 के दशक की मशहूर साउथ एक्ट्रेस निशा नूर। उन दिनों निशा की पॉपुलैरिटी ऐसी थी कि रजनीकांत और कमल हासन जैसे बड़े स्टार्स भी उनके साथ काम करना चाहते थे। हालांकि बाद में निशा को धोखे से प्रॉस्टिट्यूशन में धकेल दिया गया। मरते वक्त निशा नूर सिर्फ हड्डियों का ढांचा रह गई थीं। 

<p>18 सितंबर, 1962 को ताम्बरम (चेन्नई) में जन्मीं निशा कौर 80-90 के दशक की मशहूर एक्ट्रेस थीं। निशा नूर ने 1980 में 'मंगला नायगी' फिल्म से करियर की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने एक से बढ़कर एक हिट फिल्में दीं।</p>

18 सितंबर, 1962 को ताम्बरम (चेन्नई) में जन्मीं निशा कौर 80-90 के दशक की मशहूर एक्ट्रेस थीं। निशा नूर ने 1980 में 'मंगला नायगी' फिल्म से करियर की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने एक से बढ़कर एक हिट फिल्में दीं।

<p>1981 में आई फिल्म ‘टिक टिक टिक!’ के अलावा कल्याणा अगातिगल (1986) और 1990 में आई फिल्म ‘अय्यर द ग्रेट’ में न सिर्फ निशा के काम की जमकर तारीफ हुई बल्कि टिकट खिड़की पर भी लोग टूट पड़े</p>

1981 में आई फिल्म ‘टिक टिक टिक!’ के अलावा कल्याणा अगातिगल (1986) और 1990 में आई फिल्म ‘अय्यर द ग्रेट’ में न सिर्फ निशा के काम की जमकर तारीफ हुई बल्कि टिकट खिड़की पर भी लोग टूट पड़े

<p>हालांकि कुछ सालों बाद अचानक निशा को काम मिलना बंद हो गया और उन्हें आर्थिक तंगी से जूझना पड़ा। धीरे-धीरे निशा को फिल्में मिलना ही बंद हो गईं और वो सिल्वर स्क्रीन के साथ ही रियल लाइफ में भी नजर आना बंद हो गईं। </p>

हालांकि कुछ सालों बाद अचानक निशा को काम मिलना बंद हो गया और उन्हें आर्थिक तंगी से जूझना पड़ा। धीरे-धीरे निशा को फिल्में मिलना ही बंद हो गईं और वो सिल्वर स्क्रीन के साथ ही रियल लाइफ में भी नजर आना बंद हो गईं। 

<p>कहा जाता है कि पैसों का लालच देकर एक प्रोड्यूसर ने धोखे से निशा को प्रॉस्टिट्यूशन (वेश्यावृत्ति) में धकेल दिया था। जब कोई चारा नहीं दिखा तो निशा ने हमेशा के लिए फिल्म इंडस्ट्री छोड़ दी। लेकिन इसके बाद उनके हालात और खराब हो गए। यहां तक कि इंडस्ट्री से कोई उन्हें देखने तक नहीं आया।</p>

कहा जाता है कि पैसों का लालच देकर एक प्रोड्यूसर ने धोखे से निशा को प्रॉस्टिट्यूशन (वेश्यावृत्ति) में धकेल दिया था। जब कोई चारा नहीं दिखा तो निशा ने हमेशा के लिए फिल्म इंडस्ट्री छोड़ दी। लेकिन इसके बाद उनके हालात और खराब हो गए। यहां तक कि इंडस्ट्री से कोई उन्हें देखने तक नहीं आया।

<p>धीरे-धीरे निशा के आर्थिक हालात बिगड़ते गए। कहा जाता है कि आखिरी दिनों में उनकी हालत इतनी खराब हो चुकी थी कि वो सड़क किनारे बुरी हालत में मिली थीं। इस दौरान निशा जिंदगी की आखिरी सांसें गिन रही थीं। आसपास के लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया तो पता चला कि उन्हें एड्स था। </p>

धीरे-धीरे निशा के आर्थिक हालात बिगड़ते गए। कहा जाता है कि आखिरी दिनों में उनकी हालत इतनी खराब हो चुकी थी कि वो सड़क किनारे बुरी हालत में मिली थीं। इस दौरान निशा जिंदगी की आखिरी सांसें गिन रही थीं। आसपास के लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया तो पता चला कि उन्हें एड्स था। 

<p>2007 में एक एनजीओ मुस्लिम मुनेत्र कड़गम के कुछ लोगों ने निशा नूर को नागोर के पास एक दरगाह के बाहर बेहद बुरी हालत में देखा। इस दौरान वो पूरी तरह से कंकाल में बदल चुकी थीं। </p>

2007 में एक एनजीओ मुस्लिम मुनेत्र कड़गम के कुछ लोगों ने निशा नूर को नागोर के पास एक दरगाह के बाहर बेहद बुरी हालत में देखा। इस दौरान वो पूरी तरह से कंकाल में बदल चुकी थीं। 

<p>बाद में एनजीओ ने निशा को वहां से चेन्नई के एक अस्पताल में भर्ती कराया लेकिन कुछ ही दिनों बाद निशा नूर ने दम तोड़ दिया। डॉक्टरों के मुताबिक, उन्हें एड्स हो गया था। </p>

बाद में एनजीओ ने निशा को वहां से चेन्नई के एक अस्पताल में भर्ती कराया लेकिन कुछ ही दिनों बाद निशा नूर ने दम तोड़ दिया। डॉक्टरों के मुताबिक, उन्हें एड्स हो गया था। 

<p>2007 में ही महज 44 साल की उम्र में निशा नूर की मौत हो गई। एक लीडिंग वेबसाइट के मुताबिक, जब निशा को नागोर की दरगाह के पास पड़ा पाया गया तो उनके शरीर पर कीड़े और चींटियां रेंग रहे थे।</p>

2007 में ही महज 44 साल की उम्र में निशा नूर की मौत हो गई। एक लीडिंग वेबसाइट के मुताबिक, जब निशा को नागोर की दरगाह के पास पड़ा पाया गया तो उनके शरीर पर कीड़े और चींटियां रेंग रहे थे।

<p>निशा नूर ने इलामई कोलम, इनिमई इधो इधो, अवल सुमंगलिथन, श्री राघवेंद्रर, चुवाप्पू नाडा', 'मिमिक एक्शन 500', मिमिक्स परेड और इनक्कगा काथिरो जैसी प्रमुख फिल्मों में काम किया। </p>

निशा नूर ने इलामई कोलम, इनिमई इधो इधो, अवल सुमंगलिथन, श्री राघवेंद्रर, चुवाप्पू नाडा', 'मिमिक एक्शन 500', मिमिक्स परेड और इनक्कगा काथिरो जैसी प्रमुख फिल्मों में काम किया। 

loader