Asianet News Hindi

पापा रोज मिलने आते थे लेकिन कभी हमारे साथ रात नहीं बिताते थे, Hema Malini की बेटी के बचपन की कहानी

First Published Mar 7, 2021, 2:44 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. गुजरे जमाने के स्टार्स हेमा मालिनी (hema malini) और धर्मेंद्र (dharmendra) की जोड़ी आज भी इंडस्ट्री में पॉपुलर है। उम्र के इस पड़ाव में भी दोनों एक-दूसरे का साथ अच्छे से निभा रहे है। दोनों ने कई फिल्मों में साथ काम किया और फिर एक-दूसरे को करीब आए। कपल की दो बेटियां है ईशा और अहाना देओल। राम कमल मुखर्जी द्वारा लिखी हेमा मालिनी की बायोग्राफी हेमा मालिनी : बियॉन्ड द ड्रीम गर्ल ( hema malini : beyond the dream girl) में हेमा की बेटी ईशा देओल (esha deol) से जुड़ा एक चैप्टर है, जिसमें उन्होंने अपने बचपन की यादें और पापा धर्मेंद्र के साथ रिश्तों को बात की। ईशा ने बताया कि बचपन में पापा यूं तो रोज हमसे मिलने आते थे लेकिन एक बात का हमेशा अफसोस रहता था कि वे कभी हमारे साथ रात नहीं गुजारते थे। रात होते-होते बस घर में हम तीन यानी मम्मी हेमा और बहन अहाना ही बचते थे। 

ईशा चूंकि हेमा मालिनी की पहली संतान थी इसलिए मां-बेटी में आज भी बेहतरीन बॉन्डिंग देखने को मिलती है। मां की बुक में जहां ईशा ने मम्मी के बारे में काफी कुछ बातें कहीं वहीं पापा धर्मेंद्र से जुड़े भी कई राज खोले। 

ईशा चूंकि हेमा मालिनी की पहली संतान थी इसलिए मां-बेटी में आज भी बेहतरीन बॉन्डिंग देखने को मिलती है। मां की बुक में जहां ईशा ने मम्मी के बारे में काफी कुछ बातें कहीं वहीं पापा धर्मेंद्र से जुड़े भी कई राज खोले। 

ईशा का जन्म 2 नवंबर, 1981 को मुंबई में ही हुआ था। वहीं, ईशा की छोटी बहन अहाना का जन्म 25 जुलाई, 1985 मे हुआ। बुक में ईशा ने बताया- मैंने ज्यादा से ज्यादा वक्त मम्मी के साथ ही बिताया। हालांकि, मां भी अपनी शूटिंग में बिजी रहती थी और स्कूल से आने के बाद दिनभर मैं आया और नानी के साथ ही रहती थी। 

ईशा का जन्म 2 नवंबर, 1981 को मुंबई में ही हुआ था। वहीं, ईशा की छोटी बहन अहाना का जन्म 25 जुलाई, 1985 मे हुआ। बुक में ईशा ने बताया- मैंने ज्यादा से ज्यादा वक्त मम्मी के साथ ही बिताया। हालांकि, मां भी अपनी शूटिंग में बिजी रहती थी और स्कूल से आने के बाद दिनभर मैं आया और नानी के साथ ही रहती थी। 

धर्मेंद्र को लेकर ईशा ने बताया- जब मैं और अहाना छोटे थे तो पापा हमसे रोज मिलने आते थे। और एक वक्त का खाना हमारे साथ ही खाते थे। लेकिन फिर लौट जाते थे। उन्होंने कभी भी हमारे साथ रात नहीं बिताई। और कभी-कभार अगर वे घर पर ही रूक जाते थे तो हमें बहुत आश्चर्य होता था। मैं मम्मी से पूछती थी पापा ठीक तो है, वे आज हमारे घर पर ही रूक रहे हैं। 

धर्मेंद्र को लेकर ईशा ने बताया- जब मैं और अहाना छोटे थे तो पापा हमसे रोज मिलने आते थे। और एक वक्त का खाना हमारे साथ ही खाते थे। लेकिन फिर लौट जाते थे। उन्होंने कभी भी हमारे साथ रात नहीं बिताई। और कभी-कभार अगर वे घर पर ही रूक जाते थे तो हमें बहुत आश्चर्य होता था। मैं मम्मी से पूछती थी पापा ठीक तो है, वे आज हमारे घर पर ही रूक रहे हैं। 

'जब मैं थोड़ी बड़ी हुई तो मैं अपने दोस्तों के घर खेलने जाने लगी। वहां मैं उनके मम्मी-पापा को साथ देखती थी तो मुझे तब समझ आता था कि क्यों डैड रोज हमसे मिलने आते हैं। दोनों ने हमें अच्छी परवरिश दी और इस बात को लेकर मुझे आज भी कोई शिकायत नहीं है।' 

'जब मैं थोड़ी बड़ी हुई तो मैं अपने दोस्तों के घर खेलने जाने लगी। वहां मैं उनके मम्मी-पापा को साथ देखती थी तो मुझे तब समझ आता था कि क्यों डैड रोज हमसे मिलने आते हैं। दोनों ने हमें अच्छी परवरिश दी और इस बात को लेकर मुझे आज भी कोई शिकायत नहीं है।' 

'मैं शुरू से ही मां से काफी अटैज्ड रही हूं और उतना ही मैं पापा से भी प्यार करती हूं। लेकिन अहाना के साथ ऐसा नहीं था। वो चाहती थी कि डैड उसके बाहर कॉफी पीने जाए और उसके साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करें। और मुझे लगता है कि डैड ने उसे वो टाइम दिया क्योंकि वे भी ऐसा ही चाहते थे।'

'मैं शुरू से ही मां से काफी अटैज्ड रही हूं और उतना ही मैं पापा से भी प्यार करती हूं। लेकिन अहाना के साथ ऐसा नहीं था। वो चाहती थी कि डैड उसके बाहर कॉफी पीने जाए और उसके साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करें। और मुझे लगता है कि डैड ने उसे वो टाइम दिया क्योंकि वे भी ऐसा ही चाहते थे।'

पति धर्मेंद्र के माता-पिता से हेमा का खास रिश्ता नहीं थ। इसीलिए हेमा दोनों बेटियों के साथ हमेशा से ही अपने ही घर में रही। तो क्या ईशा ने अपने ग्रैंड पेरेंट्स को मिस किया। इस सवाल का जवाब देते हुए ईशा ने बताया- नहीं ऐसा नहीं हमने कभी इस चीज को मिस नहीं किया क्योंकि हमारा घर हमेशा से ही रिलेटिव्स से भरा रहता था। ये रिश्तेदार मम्मी की तरफ से होते थे। 

पति धर्मेंद्र के माता-पिता से हेमा का खास रिश्ता नहीं थ। इसीलिए हेमा दोनों बेटियों के साथ हमेशा से ही अपने ही घर में रही। तो क्या ईशा ने अपने ग्रैंड पेरेंट्स को मिस किया। इस सवाल का जवाब देते हुए ईशा ने बताया- नहीं ऐसा नहीं हमने कभी इस चीज को मिस नहीं किया क्योंकि हमारा घर हमेशा से ही रिलेटिव्स से भरा रहता था। ये रिश्तेदार मम्मी की तरफ से होते थे। 

ईशा ने बताया- हमारी अंबा (नानी) हमेशा से ही हमारे साथ रही। हमारी परवरिश में उनका बहुत बड़ा हाथ है। उन्होंने मुझे हिंदी की ट्यूशन तक दी। और जब भी छुट्टियां होती थी तो मेरे कजिन्स घर आ जाते थे और साथ मिलकर खूब मस्ती करते थे। 

ईशा ने बताया- हमारी अंबा (नानी) हमेशा से ही हमारे साथ रही। हमारी परवरिश में उनका बहुत बड़ा हाथ है। उन्होंने मुझे हिंदी की ट्यूशन तक दी। और जब भी छुट्टियां होती थी तो मेरे कजिन्स घर आ जाते थे और साथ मिलकर खूब मस्ती करते थे। 

ईशा ने बताया कि जब मैंने फिल्मों में आने का फैसला किया था तो पापा बहुत गुस्सा हुए थे। वे नहीं चाहते थे कि मैं एक्टिंग में अपना करियर बनाऊं। लेकिन मैं नहीं मानी तो पापा ने मुझसे 6 महीने तक बात तक नहीं की। अभी तक धर्मेंद्र ने ईशा की कोई फिल्म भी नहीं देखी। 

ईशा ने बताया कि जब मैंने फिल्मों में आने का फैसला किया था तो पापा बहुत गुस्सा हुए थे। वे नहीं चाहते थे कि मैं एक्टिंग में अपना करियर बनाऊं। लेकिन मैं नहीं मानी तो पापा ने मुझसे 6 महीने तक बात तक नहीं की। अभी तक धर्मेंद्र ने ईशा की कोई फिल्म भी नहीं देखी। 

ईशा ने 2002 में कोई मेरे दिल से पूछे फिल्म से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। हालांकि, उनका फिल्मी सफर कुछ खास नहीं रहा। फिर उन्होंने शादी कर घर बसा लिया। एक्टिंग छोड़ने के 17 साल बाद उन्होंने केकवॉक में काम किया। धर्मेंद्र ने ना सिर्फ ईशा की फिल्म केकवॉक देखी बल्कि सोशल मीडिया के जरिए खुलेआम फिल्म और बेटी की तारीफ भी की थी। 

ईशा ने 2002 में कोई मेरे दिल से पूछे फिल्म से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। हालांकि, उनका फिल्मी सफर कुछ खास नहीं रहा। फिर उन्होंने शादी कर घर बसा लिया। एक्टिंग छोड़ने के 17 साल बाद उन्होंने केकवॉक में काम किया। धर्मेंद्र ने ना सिर्फ ईशा की फिल्म केकवॉक देखी बल्कि सोशल मीडिया के जरिए खुलेआम फिल्म और बेटी की तारीफ भी की थी। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios