Asianet News Hindi

सुशांत की बहन ने भाई के नाम लिखी इमोशनल चिट्ठी, कही वो बातें जो दिल को अंदर तक झकझोर देंगी

First Published Jun 18, 2020, 1:26 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई। सुशांत सिंह राजपूत के अचानक खुदकुशी करने के बाद से ही उनके परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। एक तरफ जहां सुशांत के पिता अपने बेटे को खोने का गम नहीं भुला पा रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ एक्टर की बहनें भी अपने इकलौते भाई की मौत का सदमा बर्दाश्त नहीं कर पा रही हैं। सुशांत की एक बहन श्वेता विदेश में रहती हैं। श्वेता ने हाल ही में भाई सुशांत के लिए सोशल मीडिया पर एक इमोशनल पोस्ट लिखी है।

श्वेता ने अपनी पोस्ट में भाई सुशांत के लिए लिखा, मेरा बाबू मेरा बच्चा अब हमारे साथ फिजीकली नहीं है। मैं जानती हूं कि तुम बेहद दर्द से गुजर रहे थे लेकिन फिर भी बहादुरी के साथ लड़े। माफ करना मेरे सोना, मुझे तुम्हारी इस पीड़ा का बहुत दुख है। काश कि मैं तुम्हारे दर्द को ले सकती और अपनी सारी खुशियां तुमको दे पाती।

श्वेता ने अपनी पोस्ट में भाई सुशांत के लिए लिखा, मेरा बाबू मेरा बच्चा अब हमारे साथ फिजीकली नहीं है। मैं जानती हूं कि तुम बेहद दर्द से गुजर रहे थे लेकिन फिर भी बहादुरी के साथ लड़े। माफ करना मेरे सोना, मुझे तुम्हारी इस पीड़ा का बहुत दुख है। काश कि मैं तुम्हारे दर्द को ले सकती और अपनी सारी खुशियां तुमको दे पाती।

श्वेता ने आगे लिखा, तुम्हारी मुस्कान ही तुम्हारे इनोसेंट होने का सबसे बड़ा सबूत है। मैं तुम्हें हमेशा अपने बेटे की तरह प्यार करूंगी। तुम जहां भी हो, मेरा बेटा हमेशा खुश रहे। सभी तुम्हें बिना शर्त प्यार करते हैं। 

श्वेता ने आगे लिखा, तुम्हारी मुस्कान ही तुम्हारे इनोसेंट होने का सबसे बड़ा सबूत है। मैं तुम्हें हमेशा अपने बेटे की तरह प्यार करूंगी। तुम जहां भी हो, मेरा बेटा हमेशा खुश रहे। सभी तुम्हें बिना शर्त प्यार करते हैं। 

श्वेता ने सुशांत के चाहने वालों के लिए लिखा, मैं जानती हूं कि ये इम्तिहान की घड़ी है, लेकिन जब भी प्यार और नफरत में कुछ चुनना हो तो प्यार को चुनें। गुस्से और नाराजगी से बढ़कर दया को अपनाएं। स्वार्थ से आगे दया और क्षमा को अपने भीतर उतारें। 

श्वेता ने सुशांत के चाहने वालों के लिए लिखा, मैं जानती हूं कि ये इम्तिहान की घड़ी है, लेकिन जब भी प्यार और नफरत में कुछ चुनना हो तो प्यार को चुनें। गुस्से और नाराजगी से बढ़कर दया को अपनाएं। स्वार्थ से आगे दया और क्षमा को अपने भीतर उतारें। 

श्वेता ने कहा, अपने आप को क्षमा करें और दूसरों को भी। अपने आप पर दया करो और दूसरों पर भी दया दिखाओ। इस दुनिया में सभी अपनी-अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। किसी भी कीमत पर अपने दिल को हमेशा खुला रखें। 

श्वेता ने कहा, अपने आप को क्षमा करें और दूसरों को भी। अपने आप पर दया करो और दूसरों पर भी दया दिखाओ। इस दुनिया में सभी अपनी-अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। किसी भी कीमत पर अपने दिल को हमेशा खुला रखें। 

अमेरिका में रहने वाली उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति समय पर टिकट न मिल पाने की वजह से भाई के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाई। उन्होंने सोशल मीडिया जरिए अपना शोक व्यक्त किया था। अब उन्होंने एक रूला देने वाली बात शेयर की है।

अमेरिका में रहने वाली उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति समय पर टिकट न मिल पाने की वजह से भाई के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाई। उन्होंने सोशल मीडिया जरिए अपना शोक व्यक्त किया था। अब उन्होंने एक रूला देने वाली बात शेयर की है।

उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए बताया कि सुशांत की मौत पर उन्होंने अपने 5 साल के बेटे को यह बात बताई जिस पर उनके बेटे ने दिल को छू लेने वाली बात कह दी। श्वेता ने फेसबुक पर पोस्ट करते हुए लिखा, 'जब मैंने बेटे को यह खबर सुनाई कि उसके मामा नहीं रहे, तो उसने तीन बार एक ही बात कही, उसने कहा कि वह आपके दिल में जिंदा हैं।'

उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए बताया कि सुशांत की मौत पर उन्होंने अपने 5 साल के बेटे को यह बात बताई जिस पर उनके बेटे ने दिल को छू लेने वाली बात कह दी। श्वेता ने फेसबुक पर पोस्ट करते हुए लिखा, 'जब मैंने बेटे को यह खबर सुनाई कि उसके मामा नहीं रहे, तो उसने तीन बार एक ही बात कही, उसने कहा कि वह आपके दिल में जिंदा हैं।'

बता दें कि सुशांत ने 14 जून को बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। उनका अंतिम संस्कार सोमवार को विले पार्ले स्थित पवनहंस श्मशान घाट में किया गया था। इस दौरान सुशांत की बहन अमेरिका में थीं, जिसके चलते वो भाई के अंतिम संस्कार में नहीं पहुंच पाई थीं। 

बता दें कि सुशांत ने 14 जून को बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। उनका अंतिम संस्कार सोमवार को विले पार्ले स्थित पवनहंस श्मशान घाट में किया गया था। इस दौरान सुशांत की बहन अमेरिका में थीं, जिसके चलते वो भाई के अंतिम संस्कार में नहीं पहुंच पाई थीं। 

सुशांत की खुदकुशी के मामले में उनके क्रिएटिव मैनेजर सिद्धार्थ पठानी से पुलिस ने करीब 8 घंटे पूछताछ की। वे बुधवार रात करीब डेढ़ बजे बांद्रा पुलिस स्टेशन से निकले। हालांकि, उन्होंने पूछताछ को लेकर किए गए सवाल का जवाब नहीं दिया। सूत्रों के मुताबिक, सिद्धार्थ ने अपने बयान में कहा है कि वे अक्टूबर 2019 से जनवरी 2020 तक साथ में नही थे।

सुशांत की खुदकुशी के मामले में उनके क्रिएटिव मैनेजर सिद्धार्थ पठानी से पुलिस ने करीब 8 घंटे पूछताछ की। वे बुधवार रात करीब डेढ़ बजे बांद्रा पुलिस स्टेशन से निकले। हालांकि, उन्होंने पूछताछ को लेकर किए गए सवाल का जवाब नहीं दिया। सूत्रों के मुताबिक, सिद्धार्थ ने अपने बयान में कहा है कि वे अक्टूबर 2019 से जनवरी 2020 तक साथ में नही थे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios