Asianet News Hindi

आज से 31 साल पहले क्रिकेट के भगवान ने खेला था पहला मैच, जीरो पर आउट होने के बाद हो गए थे मायूस

First Published Dec 18, 2020, 9:57 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क : भारत-पाकिस्तान के बीच जब भी क्रिकेट मैच होता है, तो फैंस उसपर अपनी पूरी नजर लगाए रखते हैं। वहीं, क्रिकेट फैंस के बीच ‘भगवान’ का दर्जा हासिल करने वाले दिग्गज सचिन तेंदुलकर (sachin tendulkar) ने आज ही के दिन 18 दिसंबर 1989 में उस वक्त की मजबूत टीम पाकिस्तान के खिलाफ डेब्यू किया था। पाकिस्तान के गुजरांवाला शहर में 'द जिन्ना स्टेडियम' में जब ये मैच शुरू हुआ, तो सभी की नजर 16 साल के उस यंग बॉय के ऊपर थी, जिन्होंने 1 महीने पहले ही टेस्ट मैच में पाकिस्तान के खिलाफ डेब्यू किया था। इस वनडे मैच में सचिन ने एक बार फिर वकार यूनिस को अपना विकेट लेने का मौका दिया था। आइए आज आपको बता हैं, ‘गॉड ऑफ क्रिकेट’ की इस पारी का इतिहास, जिसे आज भी सचिन याद करते होंगे।

भारतीय क्रिकेट में जब किसी महान बल्लेबाज का जिक्र होता है, तो उसमें सबसे पहला नाम मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का ही होता है। उन्होंने न केवल अपने खेल से फैंस के दिलों में जगह बनाई, बल्कि भारतीय क्रिकेट को भी एक अलग मुकाम पर पहुंचाया।

भारतीय क्रिकेट में जब किसी महान बल्लेबाज का जिक्र होता है, तो उसमें सबसे पहला नाम मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का ही होता है। उन्होंने न केवल अपने खेल से फैंस के दिलों में जगह बनाई, बल्कि भारतीय क्रिकेट को भी एक अलग मुकाम पर पहुंचाया।

जब भी सचिन की बात होती है, तो हम उनकी बेहतरीन पारियों का जिक्र करते हैं। लेकिन 18 दिसंबर का दिन उनके लिए अच्छा नहीं था और पाकिस्तान के खिलाफ पहली बार वनडे में उतरे सचिन को जीरो पर ही अपना विकेट गवाना पड़ा।

जब भी सचिन की बात होती है, तो हम उनकी बेहतरीन पारियों का जिक्र करते हैं। लेकिन 18 दिसंबर का दिन उनके लिए अच्छा नहीं था और पाकिस्तान के खिलाफ पहली बार वनडे में उतरे सचिन को जीरो पर ही अपना विकेट गवाना पड़ा।

जी हां, 18 दिसंबर 1989 को ही सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला डेब्यू मैच खेला था। 16 साल की उम्र में छोटे से कद का खिलाड़ी 74 नंबर की कैप पहनकर अपना वनडे डेब्यू करने आया, तो सभी की निगाहें उनपर टिकीं थी। 

जी हां, 18 दिसंबर 1989 को ही सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला डेब्यू मैच खेला था। 16 साल की उम्र में छोटे से कद का खिलाड़ी 74 नंबर की कैप पहनकर अपना वनडे डेब्यू करने आया, तो सभी की निगाहें उनपर टिकीं थी। 

दरअसल, इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने 16 ओवर में 9 विकेट गवांकर 87 रन बनाए थे। ये मैच लाइटिंग के चलते 16 ओवर का कर दिया गया था। ऐसे में दूसरी पारी में जब भारतीय टीम बैटिंग करने उतरी, तो वह 16 ओवर में 9 विकेट खोकर 80 रन बना पाई और मैच 7 रन से हार गई। 

दरअसल, इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने 16 ओवर में 9 विकेट गवांकर 87 रन बनाए थे। ये मैच लाइटिंग के चलते 16 ओवर का कर दिया गया था। ऐसे में दूसरी पारी में जब भारतीय टीम बैटिंग करने उतरी, तो वह 16 ओवर में 9 विकेट खोकर 80 रन बना पाई और मैच 7 रन से हार गई। 

इस मैच में सचिन तेंदुलकर ने अपना खाता भी नहीं खोला था और उन्हें एक बार फिर पाकिस्तान के धुआंधार गेंदबाज वाकर यूनीस का शिकार होना पड़ा। ये दूसरा मौका था जब वकार ने सचिन का विकेट लिया था।

इस मैच में सचिन तेंदुलकर ने अपना खाता भी नहीं खोला था और उन्हें एक बार फिर पाकिस्तान के धुआंधार गेंदबाज वाकर यूनीस का शिकार होना पड़ा। ये दूसरा मौका था जब वकार ने सचिन का विकेट लिया था।

इसके पहले जब 15 नवंबर 1989 में सचिन ने इंटरनेशनल टेस्ट क्रिकेट में कदम रखा था, तब वह पाक के खिलाफ महज 15 रन बना पाए थे और पाकिस्तान की तरफ से अपना पहला मैच खेल रहे वकार यूनिस की गेंद पर आउट हो गए थे।

इसके पहले जब 15 नवंबर 1989 में सचिन ने इंटरनेशनल टेस्ट क्रिकेट में कदम रखा था, तब वह पाक के खिलाफ महज 15 रन बना पाए थे और पाकिस्तान की तरफ से अपना पहला मैच खेल रहे वकार यूनिस की गेंद पर आउट हो गए थे।

हालांकि हर क्रिकेटर की जिंदगी में ऐसा दिन जरूर आता है, जब वह बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट जाते हैं। सचिन के लिए भी शुरुआत का समय थोड़ा मुश्किल भरा रहा था, लेकिन कुछ ही समय में उन्होंने अपना लोहा मनवा लिया। 

हालांकि हर क्रिकेटर की जिंदगी में ऐसा दिन जरूर आता है, जब वह बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट जाते हैं। सचिन के लिए भी शुरुआत का समय थोड़ा मुश्किल भरा रहा था, लेकिन कुछ ही समय में उन्होंने अपना लोहा मनवा लिया। 

सचिन ने भारत के लिए 200 टेस्ट और 463 वनडे मैच खेले हैं। उनके नाम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 100 शतक हैं। वनडे में उन्होंने 18,426 रन बनाते हुए 49 शतक लगाए हैं। टेस्ट में उनके नाम 15,921 रन बनाए हैं जिसमें 51 शतक शामिल हैं। 

सचिन ने भारत के लिए 200 टेस्ट और 463 वनडे मैच खेले हैं। उनके नाम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 100 शतक हैं। वनडे में उन्होंने 18,426 रन बनाते हुए 49 शतक लगाए हैं। टेस्ट में उनके नाम 15,921 रन बनाए हैं जिसमें 51 शतक शामिल हैं। 

सिर्फ भारतीय ही नहीं हर एक क्रिकेट प्रेमी सचिन का मुरीद है। इसलिए तो ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर मैथ्यू हेडन ने सचिन को 'गॉड ऑफ क्रिकेट' का नाम दिया था। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था - मैंने भगवान को देखा। वह भारतीय टेस्ट टीम में चौथे नंबर पर बैटिंग करने उतरते हैं। तभी से सचिन को गॉड ऑफ क्रिकेट' कहा जाने लगा।

सिर्फ भारतीय ही नहीं हर एक क्रिकेट प्रेमी सचिन का मुरीद है। इसलिए तो ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर मैथ्यू हेडन ने सचिन को 'गॉड ऑफ क्रिकेट' का नाम दिया था। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था - मैंने भगवान को देखा। वह भारतीय टेस्ट टीम में चौथे नंबर पर बैटिंग करने उतरते हैं। तभी से सचिन को गॉड ऑफ क्रिकेट' कहा जाने लगा।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios