Asianet News Hindi

FAKE CHECK: कहां भगवान गणेश जैसी शक्ल वाले बच्चे ने लिया जन्म? सोशल मीडिया पर वायरल फोटो का सच

First Published Mar 24, 2021, 3:06 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

फेक चेक डेस्क.  सोशल मीडिया पर एक तस्वीर को वायरल करते हुए यूजर दावे कर रहे हैं कि गणपति जैसी शक्ल वाले बच्चे ने जन्म लिया है। अनोखे बच्चे के चेहरे पर नाक की जगह पर हाथी की सूंड़ जैसी एक आकृति नजर बनी हुई है। लोग इस तस्वीर को शेयर कर जय श्री गणेशाय नम: लिख रहे हैं। कुदरत का करिश्मा बताते हुए लोगों ने फोटो को जमकर वायरल कर दिया है। फेक चेक में आइए जानते हैं कि आखिर तस्वीर की सच्चाई क्या है?  
 

वायरल पोस्ट क्या है?

 

फेसबुक यूजर सुजीत मुखिया ने पोस्ट शेयर करते हुए लिखा, ‘गणपति जैसे चेहरे वाले बच्चे ने लिया जन्म।’ 
बहुत सारे लोग इस बात को सच मान रहे हैं कि भगवान गणपति की शक्ल वाला बच्चा पैदा हुआ है।

वायरल पोस्ट क्या है?

 

फेसबुक यूजर सुजीत मुखिया ने पोस्ट शेयर करते हुए लिखा, ‘गणपति जैसे चेहरे वाले बच्चे ने लिया जन्म।’ 
बहुत सारे लोग इस बात को सच मान रहे हैं कि भगवान गणपति की शक्ल वाला बच्चा पैदा हुआ है।

ये दावा करने वाले लोग इस बच्चे को गणपति का आशीर्वाद बता रहे हैं। हालांकि बच्चे के जन्मस्थान और तारीख से जुड़ी कोई जानकारी नहीं थी।

ये दावा करने वाले लोग इस बच्चे को गणपति का आशीर्वाद बता रहे हैं। हालांकि बच्चे के जन्मस्थान और तारीख से जुड़ी कोई जानकारी नहीं थी।

फेक चेक 

 

अपनी पड़ताल को शुरू करने के लिए सबसे पहले हमने वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज में सर्च किया। सर्च में हमारे हाथ बहुत से नतीजे लगे, जिनमें वायरल तस्वीर से जुड़े आर्टिकल्स थे। पड़ताल में हमने पाया कि भगवान गणपति जैसे दिखने वाले बच्चा कोई असली बच्चे की फोटो नहीं है बल्कि ये एक कलाकृति की फोटो है, जिसे ऑस्ट्रेलिया की कलाकार पैट्रिशिया पिचिनिनि ने बनाया था।

फेक चेक 

 

अपनी पड़ताल को शुरू करने के लिए सबसे पहले हमने वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज में सर्च किया। सर्च में हमारे हाथ बहुत से नतीजे लगे, जिनमें वायरल तस्वीर से जुड़े आर्टिकल्स थे। पड़ताल में हमने पाया कि भगवान गणपति जैसे दिखने वाले बच्चा कोई असली बच्चे की फोटो नहीं है बल्कि ये एक कलाकृति की फोटो है, जिसे ऑस्ट्रेलिया की कलाकार पैट्रिशिया पिचिनिनि ने बनाया था।

दी गार्जियन की वेबसाइट पर 6 अक्टूबर 2017 में अपलोड हुए आर्टिकल के मुताबिक, ‘ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न से ताल्लुक रखने वाली आर्टिस्ट पैट्रिशिया पिकासिनी के ज़रिये बनाया गया यह आर्टवर्क मानव और पशुओं के म्यूटेशन का रूप है। इसको इंसानों के बाल, फाइबर, स्टील से बनाया गया है।  गार्डियन के लिए इस खबर को दी गार्डियन की जर्नलिस्ट वैन बाधम ने लिखा था।
 

दी गार्जियन की वेबसाइट पर 6 अक्टूबर 2017 में अपलोड हुए आर्टिकल के मुताबिक, ‘ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न से ताल्लुक रखने वाली आर्टिस्ट पैट्रिशिया पिकासिनी के ज़रिये बनाया गया यह आर्टवर्क मानव और पशुओं के म्यूटेशन का रूप है। इसको इंसानों के बाल, फाइबर, स्टील से बनाया गया है।  गार्डियन के लिए इस खबर को दी गार्डियन की जर्नलिस्ट वैन बाधम ने लिखा था।
 

पैट्रिशिया पिकासिनी के इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी हमें वायरल तस्वीर मिली। 22 अक्टूबर 2017 को तस्वीर को शेयर किया है। पैट्रिशिया पिकासिनी के इंस्टाग्राम अकाउंट पर हमें वायरल तस्वीर जैसी और भी बहुत-से आर्टवर्क देखी। 

 

ये निकला नतीजा 

 

अपनी पड़ताल में पाया कि यह तस्वीर किसी असल बच्चे की नहीं, बल्कि एक आर्टिस्ट की आर्टवर्क है। तस्वीर के साथ वायरल किया जा रहा दावा फ़र्ज़ी है। ये बात स्पष्ट हो जाती है कि ऑस्ट्रेलियाई कलाकार पैट्रिशिया पिचिनिनि की कलाकृति को गणपति की शक्ल वाला बच्चा बताकर भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है।

पैट्रिशिया पिकासिनी के इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी हमें वायरल तस्वीर मिली। 22 अक्टूबर 2017 को तस्वीर को शेयर किया है। पैट्रिशिया पिकासिनी के इंस्टाग्राम अकाउंट पर हमें वायरल तस्वीर जैसी और भी बहुत-से आर्टवर्क देखी। 

 

ये निकला नतीजा 

 

अपनी पड़ताल में पाया कि यह तस्वीर किसी असल बच्चे की नहीं, बल्कि एक आर्टिस्ट की आर्टवर्क है। तस्वीर के साथ वायरल किया जा रहा दावा फ़र्ज़ी है। ये बात स्पष्ट हो जाती है कि ऑस्ट्रेलियाई कलाकार पैट्रिशिया पिचिनिनि की कलाकृति को गणपति की शक्ल वाला बच्चा बताकर भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios