Asianet News Hindi

प्रधानमंत्री का ऐसा अपमान; शी जिनपिंग के सामने नहीं झुके थे PM मोदी, FACT CHECK में खुली फर्जी फोटो की पोल

First Published Jun 25, 2020, 2:55 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली.  PM Modi Bowing Xi Jinping Fact Check: लद्दाख की गैलवान घाटी में चीन और भारत के बीच हालिया हिंसक झड़प के बाद, चीनी सामानों सहित "बॉयकॉट चीन" की बात हो रही है। सोशल मीडिया 'बॉयकॉट चाइना' के नारे के साथ चीन के बहिष्कार की आवाज़ उठ रही है। देश के 20 वीर सैनिकों की शहादत से पूरा देश अभी भी सन्न है। इस बीच विपक्ष पार्टी केंद्र सरकार को घेरने में जुटी हैं। चीन से जवाब लेने की बातें कही जा रही है। इस बीच एक कांग्रेस नेता प्रधानमंत्री की चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सामने झुकते दर्शाने की एक तस्वीर शेयर करके तंज कसा। 2019 के लोकसभा चुनाव में भिंड, मध्यप्रदेश लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार रह चुके देवाशीष जरारिया ने 20 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की एक तस्वीर शेयर की। इस तस्वीर में प्रधानमंत्री मोदी को शी जिनपिंग के आगे झुके हुए देखा जा सकता है।

सोशल मीडिया पर ये फोटो भयंकर वायरल हो रही है। आइए फैकट चेक में इसका सच जानते हैं- 

चीन और भारतीय सेना के बीच खूनी झड़प में 20 जवानों के शहीद होने की खबर आने के बाद से पूरा देश हिल गया था। लोग सोशल मीडिया पर जवानों की तस्वीरें डालकर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। इसी को लेकर सोशल मीडिया पर पीएम मोदी की तस्वीर ने कोहराम मचाया हुआ है। लोग इस तस्वीर पर गुस्सा भी जाहिर कर रहे हैं।

चीन और भारतीय सेना के बीच खूनी झड़प में 20 जवानों के शहीद होने की खबर आने के बाद से पूरा देश हिल गया था। लोग सोशल मीडिया पर जवानों की तस्वीरें डालकर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। इसी को लेकर सोशल मीडिया पर पीएम मोदी की तस्वीर ने कोहराम मचाया हुआ है। लोग इस तस्वीर पर गुस्सा भी जाहिर कर रहे हैं।

वायरल पोस्ट क्या है?

ये तस्वीर ट्वीट करते हुए कांग्रेस उम्मीदवार रह चुके देवाशीष जरारिया ने लिखा, “इस तस्वीर को मोदी जी ने यथार्थ कर दिया है। #ModiSurrendersToChina #ModiSurrendersGalwanValley” आर्टिकल लिखे जाने तक इस ट्वीट को 800 से ज़्यादा बार लाइक और 250 बार रीट्वीट किया गया है। ये तस्वीर जरारिया ने अपने फ़ेसबुक अकाउंट से भी शेयर की है।

वायरल पोस्ट क्या है?

ये तस्वीर ट्वीट करते हुए कांग्रेस उम्मीदवार रह चुके देवाशीष जरारिया ने लिखा, “इस तस्वीर को मोदी जी ने यथार्थ कर दिया है। #ModiSurrendersToChina #ModiSurrendersGalwanValley” आर्टिकल लिखे जाने तक इस ट्वीट को 800 से ज़्यादा बार लाइक और 250 बार रीट्वीट किया गया है। ये तस्वीर जरारिया ने अपने फ़ेसबुक अकाउंट से भी शेयर की है।

क्या दावा किया जा रहा है?

ये तस्वीर उस वक़्त शेयर हो रही है जब भारत और चीन के बीच सीमा विवाद चल रहा है। इसके चलते 20 भारतीय सैनिकों की मृत्यु हो चुकी है। इसे शेयर करते हुए प्रधानमंत्री मोदी को चीन के राष्ट्रपति के सामने झुकते हुए दिखाया गया है।  एक और ट्विटर यूज़र ‘@AudaciousQuest’ ने ये तस्वीर इसी दावे से ट्वीट की है। फ़ेसबुक पर भी इस तस्वीर को पोस्ट किया गया है।

क्या दावा किया जा रहा है?

ये तस्वीर उस वक़्त शेयर हो रही है जब भारत और चीन के बीच सीमा विवाद चल रहा है। इसके चलते 20 भारतीय सैनिकों की मृत्यु हो चुकी है। इसे शेयर करते हुए प्रधानमंत्री मोदी को चीन के राष्ट्रपति के सामने झुकते हुए दिखाया गया है।  एक और ट्विटर यूज़र ‘@AudaciousQuest’ ने ये तस्वीर इसी दावे से ट्वीट की है। फ़ेसबुक पर भी इस तस्वीर को पोस्ट किया गया है।

फ़ैक्ट-चेक

आपको बता दें कि वायरल हो रही फोटो दो अलग-अलग तस्वीरों से बनी है। एक आसान से रिवर्स इमेज सर्च से 11 अक्टूबर 2019 का ‘गल्फ़ न्यूज़’ का एक आर्टिकल मिला। ये आर्टिकल उस वक़्त का है जब भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर की धारा 370 को निष्प्रभावी किया था। उस वक़्त पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चीन की राजधानी बीजिंग में ही मौजूद थे जबकि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत आए हुए थे।

ये तस्वीर प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की तमिलनाडु के महाबलीपुरम में हुई मुलाकात की है। इस आर्टिकल में प्रधानमंत्री मोदी और शी जिनपिंग की कई तस्वीरों को शेयर किया गया है। नीचे आप वायरल तस्वीर से मिलती जुलती हुई एक तस्वीर को देख सकते हैं।

उपरोक्त तस्वीर से शेयर हो रही तस्वीर को कंपेयर करने पर एक बात तो साफ़ हो जाती है कि शेयर हो रही तस्वीर एडिट की हुई है। ‘द हिन्दू’ ने भी अपनी रिपोर्ट में प्रधानमंत्री मोदी और शी जिनपिंग की मुलाकात की वास्तविक तस्वीर शेयर की है।

फ़ैक्ट-चेक

आपको बता दें कि वायरल हो रही फोटो दो अलग-अलग तस्वीरों से बनी है। एक आसान से रिवर्स इमेज सर्च से 11 अक्टूबर 2019 का ‘गल्फ़ न्यूज़’ का एक आर्टिकल मिला। ये आर्टिकल उस वक़्त का है जब भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर की धारा 370 को निष्प्रभावी किया था। उस वक़्त पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चीन की राजधानी बीजिंग में ही मौजूद थे जबकि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत आए हुए थे।

ये तस्वीर प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की तमिलनाडु के महाबलीपुरम में हुई मुलाकात की है। इस आर्टिकल में प्रधानमंत्री मोदी और शी जिनपिंग की कई तस्वीरों को शेयर किया गया है। नीचे आप वायरल तस्वीर से मिलती जुलती हुई एक तस्वीर को देख सकते हैं।

उपरोक्त तस्वीर से शेयर हो रही तस्वीर को कंपेयर करने पर एक बात तो साफ़ हो जाती है कि शेयर हो रही तस्वीर एडिट की हुई है। ‘द हिन्दू’ ने भी अपनी रिपोर्ट में प्रधानमंत्री मोदी और शी जिनपिंग की मुलाकात की वास्तविक तस्वीर शेयर की है।

इसके अलावा, प्रधानमंत्री मोदी की जिस तस्वीर को एडिट कर महाबलीपुरम में हुई मुलाकात की तस्वीर में शामिल गया है, वो दरअसल सितंबर 2014 की है। इसमें प्रधानमंत्री मोदी झुककर तुमकुर, कर्नाटका की मेयर गीता रुद्रेश का अभिवादन कर रहे है। 25 सितंबर, 2014 की एक अखबार की क्लिप में इसे शेयर करते हुए बताया गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ़ूड पार्क के उद्घाटन के लिए बुधवार को तुमकुर पहुंचे थे जहां पर उनकी मुलाकात मेट्रोपॉलिटन मेयर गीता रुद्रेश से हुई थी। अक्टूबर 2019 में प्रधानमंत्री मोदी और मेयर गीता रुद्रेश की ये तस्वीर शेयर करते हुए यूज़र्स दावा कर रहे थे कि प्रधानमंत्री मोदी गौतम अदानी की पत्नी को झुककर नमस्कार कर रहे है। उस वक़्त इस तस्वीर की सच्चाई सबके सामने पेश की थी।

इसके अलावा, प्रधानमंत्री मोदी की जिस तस्वीर को एडिट कर महाबलीपुरम में हुई मुलाकात की तस्वीर में शामिल गया है, वो दरअसल सितंबर 2014 की है। इसमें प्रधानमंत्री मोदी झुककर तुमकुर, कर्नाटका की मेयर गीता रुद्रेश का अभिवादन कर रहे है। 25 सितंबर, 2014 की एक अखबार की क्लिप में इसे शेयर करते हुए बताया गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ़ूड पार्क के उद्घाटन के लिए बुधवार को तुमकुर पहुंचे थे जहां पर उनकी मुलाकात मेट्रोपॉलिटन मेयर गीता रुद्रेश से हुई थी। अक्टूबर 2019 में प्रधानमंत्री मोदी और मेयर गीता रुद्रेश की ये तस्वीर शेयर करते हुए यूज़र्स दावा कर रहे थे कि प्रधानमंत्री मोदी गौतम अदानी की पत्नी को झुककर नमस्कार कर रहे है। उस वक़्त इस तस्वीर की सच्चाई सबके सामने पेश की थी।

ये निकला नतीजा

ट्विटर पर कुछ लोगों ने वायरल फोटो शेयर करने वाले को टैग करके लिखा ये फेक फोटो है। तो फैक्ट चेकिंग में आपने देखा, प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की तमिलनाडु के महाबलीपुरम में हुई मुलाकात की तस्वीर को एडिट कर सोशल मीडिया में शेयर किया गया। एडिटेड तस्वीर में प्रधानमंत्री मोदी चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सामने झुके हुए दिखाई दे रहे हैं जबकि असली तस्वीर में वो शी जिनपिंग के सामने खड़े है।

ये निकला नतीजा

ट्विटर पर कुछ लोगों ने वायरल फोटो शेयर करने वाले को टैग करके लिखा ये फेक फोटो है। तो फैक्ट चेकिंग में आपने देखा, प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की तमिलनाडु के महाबलीपुरम में हुई मुलाकात की तस्वीर को एडिट कर सोशल मीडिया में शेयर किया गया। एडिटेड तस्वीर में प्रधानमंत्री मोदी चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सामने झुके हुए दिखाई दे रहे हैं जबकि असली तस्वीर में वो शी जिनपिंग के सामने खड़े है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios